अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

बुधवार, 8 अप्रैल 2009

उम्र के पड़ाव

उम्र के इक पड़ाव पर
सब कुछ अच्छा लगता है
साथी का हर अंदाज़
निराला लगता है
हर खामी भी
इक अदा सी लगती है

उम्र के अगले पड़ाव पर
सब कुछ बदलने लगता है
साथी का सादा वक्तव्य भी
शूल सा चुभने लगता है
शब्दों के रस की जगह
अब ज़हर सा घुलने लगता है

उम्र के आखिरी पड़ाव पर
कुछ भी न अच्छा लगता है
साथी की तो बात ही क्या
अपना साथ भी न अच्छा लगता है
कभी दिल बच्चा बनने लगता है
कभी उम्र का बोझ बढ़ने लगता है
उम्र के इस पड़ाव पर
कोई न चाहत होती है
सिर्फ़ खामोशी होती है
और इंतज़ार ..........................
एक खामोश पल का .........................

16 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

समय-समय के साथ सभी कुछ प्यारा लगता है।

अपने उन का साथ, जगत से न्यारा लगता है।।

उम्र जिन्दगी के पड़ाव से आहत होती है।

ढल जाने पर खामोशी की चाहत होती है।।

परमजीत बाली ने कहा…

अपने ्मनोभावों को सुन्दर शब्द दिए है।बधाई।

SWAPN ने कहा…

abhi toaapne itni umra dekhi bhi nahin , itna anubhav, bahut khoob.achcha laga padhkar.

raj ने कहा…

zindgee se etnee berukhi?pdav umar ka koee bhi ho...mousam koee bhi ho aap chahkate rahiye.....bohat hi tang hai es zindgee se magar kreeb ka rishta hai kya kiya jaye...

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

यही ज़िन्दगी है ..हर पडाव का अपना रंग ..और अंत में या तो खामोशी या इन्तजार ..अच्छी लगी आपकी यह कविता

अनिल कान्त : ने कहा…

दिल के भावों और हलचल को बहुत अच्छे अंदाज में बयाँ किया है

मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

मोहन वशिष्‍ठ ने कहा…

उम्र के अगले पड़ाव पर
सब कुछ बदलने लगता है
साथी का सादा वक्तव्य भी
शूल सा चुभने लगता है
शब्दों के रस की जगह
अब ज़हर सा घुलने लगता है

वाह जी वाह बेहतरीन रचना
कभी दिल बच्‍चा बनने लगता है
कभी उम्र का बोझ बढने लगता है
सच बहुत ही पसंद आई यह रचना आपकी

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत सुंदर रचना है...

Prem Farrukhabadi ने कहा…

jaisi soch vaisa jeevan ras.jaisi nazaren vaise nazaare.pyar do pyar lo iske sivay aur rakha kya.do meethe bol kisi ke bhi man ko jhankrat kar sakte hain. lihko khoob likho likho.badhai.

Vidhu ने कहा…

उम्र के हर पड़ाव हंस जीना ही जिन्दगी है

संध्या आर्य ने कहा…

achchhi lagati hai aapki .........

संध्या आर्य ने कहा…

swabhaawgat wichaar hai ............dont worry be happy.......

रश्मि प्रभा ने कहा…

ise kahte hain,sashakt,gahan anubhaw.....har padaaw ka sahi aaklan,bahut hi badhiyaa...

Dr. Vijay Tiwari "Kislay" ने कहा…

"उम्र के पड़ाव पर " रचना पढ़ी. बिलकुल हकीकत से सामना हुआ, पता नहीं जीवन में ऐसी स्थितियाँ क्यों आती हैं. हम में ऐसा क्या हो जाता है जो पहले सबसे अच्छा लगता था उम्र के साथ साथ स्नेह में कमी का अनुभव होने लगता है. मुझे लगता है ये स्थितियाँ आपसी भावनाओं को समझने की कमी के कारण निर्मित होती हैं.
साथी का अर्थ ही होता है कि वो साथ दे. हमें एक दूसरे की भावनाओं को समझना ही होगा और अपने अहम् और अपनी हठ धर्मिता का भी त्याग करना होगा , अन्यथा हमने जिसके साथ खुशियों को हर पल शेयर किया, बाद में उस से ही दूरी !!!, नहीं ये ठीक नहीं है,
- विजय

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

उम्र के हर पड़ाव को बयान कर दिया। बहुत खूब। इसे पढकर अपनी एक तुकबंदी याद आ गई "बुढापा"

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी ने कहा…

बहुत ही अच्छी रचना!क्या कहना!