अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 27 अप्रैल 2018

घुटन की आतिशबाजी फूँक रही है

जब आ चुको तुम आजिज़
रोजमर्रा के कत्लोआम से
शून्य हो जाती हैं संवेदनाएं
नहीं दीखता तुम्हें फिर
आस पास बिखरा समंदर, नीला आकाश या उडती तितलियाँ

अजीजों का महाप्रयाण हो
या नन्हें कमलों का असमय नष्ट होना
या फिर हो अर्धविकसित कलियों से व्यभिचार
दिमाग की नसें करने लगती हैं चीत्कार
शिराओं में बहते खून ने कर दिया है विद्रोह
जमाव बिंदु की ओर कर प्रस्थान
दिल शून्यता की अवधि में हो जाता है लाचार 
और सन्नाटे के शोर से 
लहुलुहान है रूह

शब्द भाव करके इनकार
निकल जाते हैं होने शामिल देशव्यापी हड़ताल में
तो कभी बैठ जाते हैं अनशन पर

मैं आत्माविहीन
कौन से बाज़ार में बेचूँ खुद को
कि
उतर आये आँख में खून
और अंतड़ियों में उबाल

सिरकती लाशों का तांडव देखती
भीड़ का हिस्सा हूँ मैं
मौन का दूसरा नाम पलायन नहीं
बस
भागना जरूरी होता है कभी कभी
साँस लेने के लिए
खुद को जिंदा महसूस करने के लिए

घुटन की आतिशबाजी फूँक रही है
रफ्ता रफ्ता
हँसते हुए चेहरे लगा रहे हैं चपत
सभ्यता के मुँह पर
और
कै करने को जरूरी है मुँह का होना

संवेदनाओं से दलाली का मौसम बहुत निखरा हुआ है आजकल 

©वन्दना गुप्ता 

सोमवार, 23 अप्रैल 2018

स्वप्नपाश मेरी नज़र में :


हम सब एक काल्पनिक दुनिया में विचरण करते हैं अक्सर ...शायद वही जीने का एक बहाना बन जाती है, एक आस का पंछी ही जीवन को दिशा दे जाता है लेकिन क्या हो यदि हम उस काल्पनिक दुनिया में वीभत्सता को जीने लगें? हमें पता है ये गलत है लेकिन फिर भी एक सोच अपनी जकड़न में ऐसे जकड़े कि चाहकर भी निकल न पायें? मानव का दिमाग आज भी साइंस के लिए कौतुहल का विषय है और उसी दिमाग में उठाते फितूर के साथ यही किसी को जीना पड़े तो वो कैसे जी सकेगा जिसमें हर पल दिन हो या रात एक दूसरा ही संसार साथ साथ चलता रहे? अवास्तविक रूप , वास्तविकता का आभास कराएं, आपसे बतियाएं, आपको अपने कण्ट्रोल में कर लें, आपकी सोचने समझने की क्षमता को ऐसे जकड लें कि आप उनके नियंत्रण में हो जाएँ और कुछ भी करने को तत्पर फिर वो दूसरे को नुक्सान पहुँचाना हो या खुद को.....एक स्किज़ोफ्रेनिक की ज़िन्दगी की ये कडवी हकीकत होती है....वो चाहकर भी नार्मल ज़िन्दगी नहीं जी पाता.....उसे अपने आस पास एक दूसरी दुनिया ही हर पल दिखाई देती है....वो संवाद आपसे कर रहा होता है लेकिन अन्दर भी एक संवाद अदृश्य रूप में चल रहा होता है जो दृश्य उसे दिखाई दे रहे होते हैं उनसे....एक ही पल में दो दो ज़िन्दगी जीना कहाँ आसान होता है? ऐसी ही ज़िन्दगी जी रही है उपन्यास 'स्वप्नपाश' की नायिका गुलनाज फरीबा.

मनीषा कुलश्रेष्ठ द्वारा लिखित किताबघर से प्रकाशित उपन्यास 'स्वप्नपाश' पाठक को एक ऐसी दुनिया में ले जाता है जिससे उसका परिचय नहीं होता. हकीकत से बेहतर उसे उसके सपनो की दुनिया लगती है. कभी हकीकत डराती है कभी स्वप्न. दोनों जिंदगियों में सामंजस्य बिठाना आसान नहीं होता होगा...इसी को दर्शाया है लेखिका ने. उपन्यास में एक ही पहलू नहीं बल्कि कई पहलुओं पर प्रकाश डाला है लेखिका ने जैसे आखिर गुल ऐसी क्यों हुई? क्या वजह रही उसके स्किज़ोफ्रेनिक होने की तो एक वजह तो यही निकलकर आती है कि उसकी माँ ने गर्भावस्था के अंतिम महीनो तक डांस किया जिसका असर उस पर पड़ा. वहीँ स्मोक करना भी एक कारण होता है ऐसा होने का उसे भी लेखिका ने बताया है. साथ ही लेखिका ने एक और पहलू पर ध्यान दिलाया कि ऐसे बच्चों को अपनों के साथ की बहुत जरूरत होती है. उनकी स्पेशल केयर की जाए तो संभव है वो नार्मल ज़िन्दगी जी सकें लेकिन जिसके माता पिता दोनों ही अपनी महत्त्वाकांक्षाओं से घिरे हों, बच्ची आया के सुपुर्द हो वहां तो ये समस्या हमेशा समस्या ही रहेगी क्योंकि जो प्यार और देखभाल माता पिता दे सकते हैं आया नहीं, मानो यही कहना चाहा है लेखिका ने. क्योंकि गुलनाज़ ऐसे ही ट्रामा से लगातार गुजरती रही, वो चाहती थी अपनी माँ का साथ, उससे सब शेयर करना लेकिन माँ का व्यक्तित्व ही हावी रहा उस पर, कभी वो सुरक्षा महसूस ही नहीं हुई जिनसे सब शेयर किया जा सके यहाँ तक कि जिस उम्र में एक माँ की सबसे ज्यादा एक जवान होती लड़की को जरूरत होती है उस उम्र में भी वो आया पर ही निर्भर रही और अपने शरीर में होते बदलाव को लेकर वो बच्ची आशंकित ही रही, यहाँ तक कि सेक्स भी उसके लिए कभी रुचिकर विषय नहीं रहा. फिर भी प्यार की प्यास थी उसके अन्दर जो चाहती थी कोई उसे चाहे उसके शरीर को नहीं लेकिन वो हमेशा प्यासी ही रही. यहाँ तक कि एक चित्रकार होने के नाते वो अपने चित्रों में शायद अपने मन की उन्ही ग्रंथियों को उकेरती रही जो उसने कच्ची उम्र से भोगा फिर वो सेक्स हो, घृणा या जीवन या फिर न्युड़ीटी ... क्योंकि अभिव्यक्ति को माध्यम की जरूरत थी और वो शायद इसी रूप में बाहर आ रही थी. बहुत आसान होता है कला और साहित्य में न्युड़ीटी के माध्यम से ऊपर चढ़ना लेकिन वो तो ऐसा चाहती भी नहीं थी लेकिन तब भी उसकी चेतना उससे ऐसे ही स्केच बनवाती थी जो शायद यही बताते थे कि कहीं न कहीं सेक्स का विषय उनके लिए एक दुखद या सुखद अनुभूति की तरह होता है क्योंकि बचपन से ही अवांछित शोषण की शिकार हो जाती है लेकिन उस घुटन को किसी से न कह पाना कितना मुश्किल होता है ऐसे में जीना और खुद को एक अपने सोच के दायरे में कैद कर लेना क्योंकि कोई उन पर न विश्वास करने वाला था और न ही सुनने वाला फिर बड़े होने पर फिर सेक्स के वक्त मतिभ्रम का शिकार हो जाना तो कैसे नहीं ऐसे लोग वो ही बनायेंगे या लिखेंगे जो ऐसे दुखद दौर से गुजरे हों. मानसिक उद्वेलन क्यों नही उभरेगा उनकी कृतियों में ? खुद को बाहर निकालने का एक सशक्त माध्यम था चित्रकारी लेकिन उसी माध्यम ने उससे उसका सब कुछ छीन भी लिया जब वो एक कला समीक्षक के द्वारा बलात्कार की शिकार हो जाती है और खुद पर नियंत्रण खो देती है. कितना अकेलापन महसूस किया उसने उस वक्त कोई अंदाज़ा भी नहीं लगा सकता क्योंकि पिता की मृत्यु के बाद माँ लन्दन में रहने लगी और वो यहाँ अकेली नाना के घर में, जहाँ अनेक स्मृतियाँ थीं और फिर एक दिन वो भी बेच दिया हो .......पूरे संसार में जैसे कोई नहीं उसका और यदि कोई है उसका तो उसके आभासी किरदार, जिसे डॉक्टर मतिभ्रम कहते हैं. यूँ तो हर इंसान साथ होते भी अकेला होता है और यदि कोई उसके साथ होता है तो उसके विचार , उसकी सोच और उसकी कल्पना ही होती है फिर वो कल्पना ईश्वर ही क्यों न हो तो लगता है जैसे हर व्यक्ति स्किज़ोफ्रेनिक ही तो है मगर यहाँ सोचिये जो व्यक्ति मतिभ्रम की उच्चतम अवस्था में पहुँच जाए , जिसका खुद पर से नियंत्रण ही ख़त्म हो जाए...आखिर क्यों? क्योंकि कहीं न कहीं वो बहुत अकेला हो गया, कोई नहीं मिला उसे जिससे अपने मन की कह सके तो उसके पास आखिरी रास्ता आखिर क्या बचेगा? शायद आत्महत्या ही और वो ही गुल्नाज़ करती है ........वहीँ डॉ मृदुल का रोल भी इसमें बहुत मायने रखता था........बेशक जो डॉ होता है उसे मरीज से सिर्फ उतना ही रिश्ता रखना चाहिए जितना मरीज और डॉ में होता है लेकिन ऐसे मरीजों के अन्दर की बात जानने के लिए डॉ को आत्मीयता दिखानी पड़ती है, उनको अहसास कराना होता है वो उनको न केवल सुनेंगे बल्कि समझेंगे भी और ऐसा ही डॉ करता है लेकिन गुलनाज़ की हालत डॉ को उसके बेहद करीब ले आती है तो गुल के लिए एक आकर्षण का कारण बन जाता है जैसा कि ऐसे केसों में हो जाता है और डॉ मृदुल भी उसके लिए हमेशा फिक्रमंद रहता है लेकिन उसका अर्थ ये नहीं कि वो भी नजदीकियां बढाए और जैसे ही समझ आता है वो किनारा कर लेता है शायद ये भी एक वजह बनी उसके इस ट्रामा के बढ़ने की......आशा और निराशा के संसार का चित्रण है स्वप्नपाश, मानसिक उद्वेलना को जैसे किसी ने टंकित कर दिया हो ....लेखिका ने बेहद गहन अध्ययन कर एक ऐसी समस्या की ओर ध्यान आकर्षित करवाया है जिसमें हम बहुत जल्दी खिताब दे देते हैं सामने वाले को पागल होने का लेकिन जरूरी है सामने वाले की समस्या को समझना और उसे अपनेपन का अहसास करवाना.......मानो इस कहानी के द्वारा यही लेखिका कहना चाहती हैं.

बहुत संवेदनशील होते हैं ऐसे लोग ऐसे में उनकी उपेक्षा ही उनको आक्रामक बनाती है. यदि उन्हें प्यार दुलार और व्यवहार उचित मिले तो संभव है वो एक नार्मल लाइफ जी सकें और अपनी इस परिस्थिति से बाहर आ सकें क्योंकि कहीं न कहीं उपेक्षा तो हर व्यक्ति को व्यथित करती है, आक्रामक करती है. छोटा सा उदाहरण साहित्य में ही देखिये जो भी उपेक्षित होता है वो कैसे आरोप लांछन का खेल खेलकर अपनी आक्रामकता प्रदर्शित करता है बिना बड़े छोटे का लिहाज किये तो जो अपने दिमाग के हाथों की कठपुतली बने हों उनका तो आक्रामक होना लाजिमी है.

हैलूसिनेशन कहना आसान है लेकिन जो झेलता है उसको समझना बहुत मुश्किल. वहम किसे नहीं होते ? आम इंसान भी वहम में ही जीता है उम्र भर. ऐसे में जो पेशेंट होता है वो कुछ ज्यादा ही उनमें जीता है. एक डॉ का क्या रोल हो, घरवालों का क्या रोल हो और पेशेंट को कैसे हैंडल किया जाना चाहिए मानो इसी को रेखांकित करना चाहती है लेखिका. खुद नृत्य में पारंगत होने के कारण उसके पहलुओं को भी बेहद सघनता से उकेरा है तो कला दीर्घा के प्रति उनकी रूचि परिलक्षित होती है. एक बेहद जटिल विषय पर बहुत ही सहज रेखांकन है स्वप्नपाश. पढ़ते पढ़ते कई बार ऐसा लगा जैसे जॉयश्री रॉय को पढ़ रहे हों. दोनों लेखिकाओं के लेखन में कई जगह समानता दिखाई दी. उसी तरह कई पहलुओं को लेखिका ने उभारा जैसे जॉयश्री रॉय ने दर्द्जा में उभारा तो ध्यान जाना स्वाभाविक है. सबसे बड़ी बात उपन्यास का कवर खुद पूरी कहानी व्यक्त कर जाता है. लेखिका किसी पहचान की मोहताज नहीं, उनका लेखन ही उनकी पहचान है. उम्मीद है आगे भी पाठकों को ऐसे ही नए विषय पढने को मिलते रहेंगे. शुभकामनाओं के साथ ...




विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तक की ही बात क्यों न की जाए और उसे सार्थक किया जाए.

गुरुवार, 19 अप्रैल 2018

उड़ा क्यूँ है दुपट्टा मलमल का

आज क्यूँ है खड़ी, ये उदासी बड़ी
सुलगे क्यूँ हैंअरमान, बेबसी है कड़ी

ज़िन्दगी दुल्हन बनी, बेजारी की घडी
राख क्यूँ है पड़ी, मासूमियत है झड़ी

रूह क्यूँ है मरी, बेसाख्ताअट्टहास करी
लाश पे लाश पे लाश, आखिर क्यूँ है गिरी

कब्र में क्यूँ है दबी, वो खामोश सिसकी
अनारकली जब भी चिनी, क्यूँ है जिंदा चिनी

रात क्यूँ है खड़ी, इंतज़ार में हर पल मरी
सुबह आएगी बड़ी, क्यूँ ऐतबार में पड़ी

बेटी क्यूँ है जनी, सुन सुन माँ रो ही पड़ी
बलात्कार की शिकार, चक्रव्यूह में क्यूँ है फँसी

रात क्यूँ है आधी रही, रवायत जारी रही
बात आधी रही, राजनीति की मारी रही

शिकन क्यूँ है तारी रही, किस बात की खुमारी रही 
बेहयाई के दौर की, कैसी ये गैंगवारी रही

उड़ा क्यूँ है दुपट्टा मलमल का,आँखों में यही सुर्ख लाली रही
सोच में सारी खुद्दारी रही , घोड़े पे क्यूँ न लगाम लगाई गयी 

©वन्दना गुप्ता

गुरुवार, 5 अप्रैल 2018

दर्द्जा और हलाला मेरी नज़र में



धर्म एक ऐसी अफीम है जिसके नाम पर सौ गुनाह भी माफ़ हो जाते हैं. धर्म की अफीम जिसने चाटी वो बुलंदियों पर पहुँच गया, कौन नहीं जानता. सबसे आसान है धर्म के नाम पर शोषण. उसमें भी यदि धर्म इस्लाम हो तो वहाँ की जटिलताओं से कौन वाकिफ नहीं. आम इंसान को नहीं पता होता आखिर उनके शास्त्रों में क्या वर्णित है और क्या नहीं. वो जो अपने गुरुओं पैगम्बरों से जो सुनता है उसे ही धर्म मान लेता है और फिर उसी के अनुसार जीवन व्यतीत करता है. उसमें यदि जरा भी व्यवधान आये तो डर का भूत उसकी बुद्धि के पाँव को जकड लेता है फिर वो कितना ही पढ़ा लिखा हो या जाहिल या अशिक्षित. शायद यही सबसे बड़ा कारण है किसी भी धर्म को मनवाने का वो भी अपनी इच्छानुसार. डर से बढ़कर दुनिया में कोई राक्षस नहीं. लेकिन इसी डर के कारण कैसे इस्लाम में जीवन भयावह होता है इसका दिग्दर्शन यदि करना है तो वाणी प्रकाशन से प्रकाशित जॉय श्री रॉय का उपन्यास ‘दर्द्जा’ और भगवान् दास मोरवाल जी का उपन्यास ‘हलाला’ पढ़ा जाना चाहिए. 

दर्द्जा हव्वा की बेटियों की दर्दभरी दास्तान का मानीखेज दस्तावेज है. लेखिका ने अफ्रीका के सोमाली देश को चुना जहाँ आज भी सुन्नत जैसी प्रथा ने स्त्रियों के जीवन को नरक बना रखा है. आज इक्कीसवीं सदी में जबकि इतनी जागरूकता आ गयी है तब भी बहुत सी ऐसी जगहें हैं जहाँ अभी तक अशिक्षा का अन्धकार व्याप्त है. यहीं बंजारों का सा जीवन जीते लोग हैं जो सुन्नत को ऐसे मानता देते हैं जैसे कोई अपने ईश्वर को देता है. माहरा नाम की लड़की को कैसे लड़की से स्त्री बनाया जाता है वो भी छोटी सी उम्र में जब अभी वो मासिक धर्म से भी नहीं होती वो एक भयावह दृश्य है. लेकिन उससे भी भयावह है उनका जीवन जो स्त्रियाँ इस नारकीय यंत्रणा से गुजरती हैं जब या तो सुन्नत की वजह से वो दर्द और इन्फेक्शन होने, अधिक रक्तस्त्राव होने के कारण मर जाती हैं या फिर एड्स जैसी गंभीर बीमारी का शिकार हो जाती हैं या फिर कच्ची उम्र में ही जब वो माँ बनती हैं तो प्रसव पीड़ा में उनके आन्तरिक हिस्से इतने कमजोर हो जाते हैं कि हर वक्त पेशाब रिसता रहता है जिसके कारण छोटी सी उम्र में ही पति द्वारा निकाल दी जाती हैं और बल्कि समाज से भी निष्कासित हो जाती हैं. फिर एक अलग झोंपड़ी बना रहने को विवश, उसमें भी टाँगे और गुठने जोड़ कर बैठने के कारण कुछ सालों में चलने फिरने से भी मोहताज. वहीँ जो बच जाती हैं , सह जाती हैं तो आगे जीवन भर इसी प्रक्रिया से गुजरती हैं. बचपन में सुन्नत, फिर पति द्वारा उसका छेदन, फिर प्रसव उपरान्त सुन्नत जैसे स्त्री न हो कोई खिलौना हो या कोई जानवर जिसे चाहे जितनी बार जिबह किया जा सके. 

इतना सब होते हुए भी कभी उनके मन में ये भाव न उठना कि ये गलत है. बचपन से घुट्ठी में घोटकर पिलाया जाता है औरत का शरीर पति को सुख देना और उसके लिए बच्चे पैदा करना है. तभी जन्नत मिलेगी. दादियों द्वारा उल्टी सीधी कहानियां सुना डराया जाता है जो कच्चे मन पर गहरा प्रभाव छोड़ता है. शायद यही है भय का भूत जिससे पार जाने की कोई स्त्री कभी कोशिश भी नहीं कर पाती और पुरुष के हाथ का उम्र भर खिलौना बनी रहती है मगर विद्रोह उसकी रग में नहीं होता. फिर वो चाहे लड़की दस बारह साल की ही क्यों न हो और पति 65-70 साल का ही क्यों न हो. फिर चाहे पांच सात साल में ही वो परलोक क्यों न सिधार जाए और लड़की जो अभी खुद एक बच्ची होती है उसके सर पर दो तीन बच्चों की जिम्मेदारी छोड़ जाए, कैसे संभाल सकती है? इन बातों से किसी को कोई लेना देना नहीं. धर्म की आड़ में औरत देह का ऐसा शोषण शायद ही कहीं और देखने को मिले, जिसे लेखिका ने बखूबी वर्णन किया है. वहीँ लेखिका ने इसमें कैसे बड़ी बड़ी संस्थाएं इस बारे में जागृति लाने का प्रयास कर रही हैं, कहानी के माध्यम से उस पर भी प्रकाश डाला है. 

लेकिन अभी भी पूर्ण रूप से इस भयावह दुखदायी प्रक्रिया से औरतों को मुक्ति नहीं मिली है क्योंकि उनकी सोच को भी धर्म के धागे से ही सीला गया है तो वो भी उससे बाहर आने का नहीं सोचतीं. लेखिका ने माहरा के माध्यम से सुन्नत कराने से उपजी समस्याओं पर प्रकाश डाला है वहीँ उसे इतना जागरूक दिखाया है कि अपनी बेटी का जब वक्त आता है तो वो उसके खिलाफ भी जाती है क्योंकि इसी वजह से उसने अपनी बहन को एड्स की वजह से मरते देखा था और उसका विश्वास था जैसे उसकी बेटी के रूप में उसकी बहन ने ही जन्म लिया है. और अंत में बेशक खुद मिट जाती है लेकिन बेटी को एक सुरक्षित जीवन दे जाती है. एक मर्मान्तक वर्णन लेखिका शुरू से आखिर तक करती रही मानो कहना चाहती हो हम किस विकास के दौर में जी रहे हैं जहाँ एक ओर प्रकाश ही प्रकाश है तो दूसरी ओर अंधकार ही अंधकार. आखिर कब स्त्री को इस दोजख से मुक्ति मिलेगी? ब्यौरेवार लेखिका ने इस प्रथा पर प्रकाश डाला है कि कितने देशों में आज भी ये प्रथा जारी है और कहाँ कहाँ इस प्रथा से मुक्ति मिली है, कहाँ कितनी जागरूकता आई है, सिलसिलेवार लेखिका बयां करती गयी हैं. 


एक ऐसे विषय को उठाना और लिखना कोई आसान काम नहीं होता वो भी एक स्त्री के लिए जब धर्म से जुड़ा हो लेकिन लेखिका ने ये साहस किया है, निश्चित ही वो सराहनीय हैं. आज धर्म के नाम पर पल में बबाल खड़ा हो जाता है ऐसे में ये जोखिम उठाना निश्चित ही साहस का विषय है. लेकिन ये साहस एक लेखक को उसकी कलम प्रदान करती है और वो ही लेखिका ने किया है.

भगवान् दास मोरवाल जी का उपन्यास ‘हलाला’ भी इस्लाम में फैली एक विसंगति को ही दर्शाता है. इसमें भी धर्म के नाम पर एक बार फिर स्त्री का ही शोषण है. कैसे अपनी गलती होते हुए भी स्त्री को दोषी ठहरा उसका शोषण किया जाता है उसे वर्णित किया गया है. यहाँ उत्तरप्रदेश के गाँव को दर्शाया गया है जो मुस्लिम बहुल है और जहाँ वहीँ की बोली, बोली जाती है. पूरा उपन्यास उसी बोली में है जैसे बृज में बोली जाती है बस वैसे ही.
यहाँ एक पात्र है डमरू जो बेहद काला है कि जिसे देख कोई उससे बात भी नहीं करता , यही कारण रहा उसकी शादी नहीं हुई. उसका परिवार है जिसमे उसके तीन बड़े भाई और तीन भाभियाँ हैं जिनमे से आमना भाभी से उसका छत्तीस का आंकड़ा रहता है. जिस कारण उसे जमात में भी जाना पड़ता है. वहीँ एक और परिवार है जहाँ नियाज़ और उसकी पत्नी नजराना हैं. नज़राना बेहद सुशील बहु, तीन बच्चे, घर भर की लाडली. ऐसे ही किसी बात पर नाराज होकर उसका शौहर उसे तलाक दे देता है और वो रूठकर अपने मायके चली जाती है. अब प्रयास होता है उसे लाने का और पंचायत बैठती है तो पता चलता है उसे ऐसे ही माफ़ी मांगकर नहीं लाया जा सकता. उसे तो हलाला के बाद ही लाया जा सकता है. गाँव के ऐसे लोग हैं जो हैं तो पांच वक्त के नमाजी लेकिन जानते ही नहीं आखिर हलाला होता है क्या है. तब पता चलता है अब नजराना तभी वापस आ सकती है जब किसी और से उसका निकाह हो और उसका वो पति उसे तलाक दे तब उसका अपने शौहर से दोबारा निकाह हो सकता है. सुन सब अचंभित रह जाते हैं लेकिन धर्म में यदि ये वर्णित है तो उसका पालन जरूरी है, यहीं तक उनकी सोच है. अब शुरू होती है खोज ऐसे शख्स की जो निकाह के बाद तलाक दे दे, उसकी नियत न बिगड़े. लेकिन ऐसा कोई नहीं मिलता तो उसके सास ससुर हार कर डमरू के लिए तैयार होते हैं और नजराना और नियाज़ को भी इस बात के लिए तैयार किया जाता है. सबकी सहमति से डमरू से निकाह करवाया जाता है और फिर पंचायत बैठती है और जैसे ही वो तलाक देने लगता है इमाम कहता है क्या धर्मानुसार हलाला हुआ? यानि वो अपने शौहर के साथ हमबिस्तर हुई? यदि नहीं तो भी ये तलाक मान्य नहीं. एक ऐसा जाल जहाँ खरबूजा छुरी पर गिरे या छुरी खरबूजे पर काटना खरबूजे को ही है यानि गलत शौहर हो और सजा स्त्री भोगे उस गुनाह की जो उसने किया ही न हो. इस बीच दोनों घर में भूचाल सा आ जाना, नजराना की सास द्वारा ये बात न स्वीकारना या कहो हलाला के बाद बहु को न स्वीकारे जाने की जिद करना, वहीँ डमरू जिसे पता ही नहीं हमबिस्तर का सही अर्थ, उसका इतना मासूम होना और पता चलने पर सहम उठना फिर नज़राना द्वारा डमरू के नोहरे में जाना आदि घटनाओं का होना. अंत में एक बार फिर पंचायत का बैठना और वहां इमाम द्वारा हलाला किये जाने को पूछना और डमरू द्वारा हाँ कह देना. फिर इमाम द्वारा कहा जाना चलो दो अब तलाक और जैसे ही डमरू तलाक देने लगता है नजराना द्वारा ये कहना हलाला तो हुआ ही नहीं एक भूचाल ला देता है. लेकिन यहाँ लेखक ने एक सही दिशा भी दिखाई है जब नजराना कहती है कि क्यों जाऊं उस शौहर के पास जिसे अपनी पत्नी पर विश्वास नहीं. एक डमरू है जो जमात में होकर आ चुका, पांच वक्त का नमाजी है लेकिन सिर्फ मेरे लिए आज अपने दीन ईमान को ताक पर रख झूठ बोल दिया. मैं गयी उसके नोहरे में, उसे कहा भी लेकिन उसने छुआ तक नहीं. इससे बढ़कर स्त्री के मान का सम्मान करने वाला भला कहाँ मिलेगा? और क्या गारंटी नियाज़ मुझे वो ही सम्मान दे मुझे जब हलाला हो जाए या उसके घरवाले मुझे स्वीकारें. यहाँ लेखक ने नजराना के रूप में एक जागरूक स्त्री का दर्शन कराया है जो अपने अधिकारों के प्रति सचेत है , जो अपने निर्णय स्वयं ले सकती है न कि धर्म की आड़ में अपना शोषण स्वीकार्य करे. वर्ना तो आज जाने कितनी ही स्त्रियों का जीवन तीन तलाक की वजह से बर्बाद हो गया तो हलाला की वजह से दोज़ख बन गया. नयी रौशनी की जरूरत है और उसे दिखाना ही लेखक का कर्तव्य. जिसमे लेखक सफल है. 

अब बात करते हैं उपन्यास की भाषा की तो हलाला उपन्यास की भाषा ने इसकी रोचकता में रोड़े अटकाए हैं. एक तो पूरे उपन्यास में गालियों की भरमार है यानि कोई वाक्य नहीं जो गाली के बिना शुरू हो फिर वो आदमी दें या औरतें. जिस कारण एक वितृष्णा जन्म लेती है. आखिर क्या जरूरत थी लेखक को गालियों के प्रयोग की? क्या बिना गाली के बात नहीं की जा सकती. मानती हूँ, किसी क्षेत्र विशेष में ऐसे बोलना उनकी आदत में शुमार हो और लेखक साहित्य समाज का दर्पण होता है उस उक्ति को प्रमाणित कर रहा है, कहा जाए मगर कभी कभी कोई कोई चीज अति से ज्यादा हो तो हलक से नीचे नहीं उतरती बेशक वो समाज का दर्पण ही क्यों न हो. ऐसा ही यहाँ लगा. वहीँ उर्दू के शब्दों का भी काफी प्रयोग है तो कुछ शब्द ऐसे जो समझ से परे थे लेकिन क्योंकि कहानी समझ आ रही थी इसलिए उनके अर्थ जानने की ख़ास जिज्ञासा ने जन्म नहीं लिया. वहीँ लेखक ने कुछ दोहों का भी प्रयोग किया है जिनमे से कुछ तो समझ आ गए लेकिन कुछ नहीं. क्या ही अच्छा होता यदि लेखक उनके अर्थ नीचे या पीछे दे देता तो और ज्यादा रोचकता का आभास होता. 

बाकि यदि देखा जाए तो दोनों ही उपन्यासों में धर्म के नाम पर कैसे स्त्री का शोषण होता है उस पर ही प्रकाश डाला गया है. साथ ही दोनों ही लेखकों ने एक ही बात पर जोर दिया है जैसे कहना चाहते हों कि स्त्री चाहे तो अपनी दशा बदल सकती है, इस अजाब से मुक्ति पा सकती है बशर्ते वो कोशिश करे क्योंकि दोनों ने ही बदलाव की बयार स्त्री के माध्यम से ही दर्शायी है. जहाँ लेखक की भाषा में गालियों की भरमार और भाषा के खुलेपन से थोडा बहुत अश्लीलता का बोध होता है वहीँ लेखिका की भाषा काफी संतुलित और नपी तुली रही फिर चाहे यौन संबंधों का भी कितना ही जिक्र किया गया हो मगर कहीं भी भाषा असंतुलित नहीं हुई. थोडा बहुत तो चल जाता है लेकिन अधिकता जरूर प्रश्न खड़ा करती है आखिर बिना इस तरह कहे भी तो असर डाला जा सकता था जैसा कि लेखिका ने किया. दोनों ही उपन्यास वाणी प्रकाशन से हैं लेकिन सिर्फ एक भाषा की वजह से ही दोनों के प्रभाव में फर्क पड़ जाता है. बेशक लेखक ने भी बहुत बारीकी से तथ्यों से अवगत कराया जिसे नकारा नहीं जा सकता कि कैसे संबंधों पर प्रभाव पड़ता है, समाज क्या सोचता है, वहीँ लपरलैंडी का किरदार आदि के माध्यम से कहानी को रोचकता प्रदान की मगर लेखिका जॉय श्री द्वारा एक मर्यादित सीमा रेखा बनाए रखना थोडा भारी पड़ जाता है वर्ना दोनों ही उपन्यासों में कोई कमी नहीं. दोनों ही बराबर से प्रभाव डालते हैं पाठक मन पर. वहीँ लेखिका द्वारा अत्यंत विवरणात्मक वर्णन कई बार व्यवधान उत्पन्न करता है लेकिन यदि ध्यान से देखा जाए तो वैसा वर्णन करना भी आसान नहीं. उसका भी अपना एक सौन्दर्य है और जो उस सौन्दर्य के उपासक होंगे उनके लिए काफी रुचिकर होगा वो सब पढना. लेकिन फिर भी यही कहूँगी अत्यधिक वर्णन से बचना चाहिए नहीं तो उपन्यास शोधपरक बन जाते हैं और कहानी की रोचकता पर असर करते हैं. 

धर्म ने कैसे सोच को जकड़ा हुआ है उसका दिग्दर्शन दोनों ही उपन्यास कराते हैं क्योंकि दोनों ने ही अलग अलग विषय पकडे हैं. बेशक धर्म एक है लेकिन उसमे व्याप्त कुरीतियों से कैसे मानवता अभिशापित है उसका हृदयविदारक चित्रण दहलाता है और प्रश्न करता है – ये कैसा सभ्य समाज है? ये कौन से युग में जी रहे हैं हम? क्या वाकई मानवता शर्मसार नहीं होती ऐसी दुर्दशा पर जिसकी कोख से जन्म लिया जाता है और उसे ही यूँ अभिशापित किया जाता है? दोनों उपन्यास प्रश्न छोड़ते हैं जिसके उत्तर हमें ढूँढने हैं और बदलना है वक्त की लकीरों को तब शायद मानवता शर्मसार न हो. 

जॉय श्री रॉय और भगवान् दास मोरवाल जी बधाई के पात्र हैं जो धर्म के नाम पर शोषण को अपनी लेखनी द्वारा प्रस्तुत किया .