अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 7 नवंबर 2019

दिल माँ का किसी को समझ आता नहीं

दिल माँ का किसी को समझ आता नहीं
फूल कौन सा है जो अंत में मुरझाता नहीं
वो देगी बद्दुआ तो भी दुआ बन जायेगी
इतनी सी बात कोई उसे समझाता नहीं

तेरे गुस्से पर भी उसे गुस्सा आता नहीं
मगर तेरा बचपना है कि जाता नहीं
तेरे दर्द से पिघलती है जो दिन-ब-दिन
उसकी हूक का मर्म तुझे समझ आता नहीं

तू लेने हाल माँ का कभी आता नहीं
उसके क़दमों तले जन्नत है जान पाता नहीं
वो आईना है तेरे आने वाले कल का
अभिमानी मगर कल अपना संवार पाता नहीं

गुरुवार, 19 सितंबर 2019

उल्फत के गुलाब

धुआँ घुटन का किस फूँक से उड़ायें
धंसे बेबसी के काँच अब किसे दिखायें
न हो सकी उन्हीं से मुलाकात औ गुजर गयी ज़िन्दगी
अब किस पनघट पे जाके प्यास अपनी बुझायें

मन पनघट पर जा के बुझा ले प्यास सखी
पिया आयेंगे की लगा ले आस सखी
वो भी तुझे देखे बिन रुक न पायेंगे
फिर क्यों विरह से किया सोलह श्रृंगार सखी

साँझ की बेला में ही जवाकुसुम खिलते हैं
मन के हरसिंगार तो मन में ही झरते हैं
कैसे प्रीत की रीत सिखाऊँ सखी
पिया मिलन बिन तो अश्रु बिंदु ही गिरते हैं

चंदा की चांदनी से कर श्रृंगार सखी
तारों की ओढ़नी से सर ढांप सखी
नयनों में डाल विभावरी का सुरमा
दे अपनी प्रतीक्षा को नया आयाम सखी

पल पल युगों सम बीतें जिसके
वो क्या अंतिम क्षणों को रोके
आस का करके स्वयं ही तर्पण
अब अंतिम प्रयाण का है आगाज़ सखी

उल्फत के गुलाब हर बार शरद में ही खिलें जरूरी तो नहीं .....






शुक्रवार, 6 सितंबर 2019

विधवा विलाप की तरह ...



मत बोलना सच
सच बोलना गुनाह है
बना डालो इसे आज का स्लोगन

रावण हो या कंस
स्वनिर्मित भगवान
नहीं चाहते अपनी सत्ता से मोहभंग
और बचाए रहने को खुद का वर्चस्व
जरूरी है
आवाज़ घोंट देना

आवाज़ जो बन न जाए सामूहिक प्रलाप
आवाज़ जिसके शोर से न उखड जाएँ सत्ता के खूँटे
आवाज़ जिसका और कोई पर्याय नहीं
जानते हैं वो

तो जरूरी था दमन
दमन के लिए नहीं होती कोई नियमावली
दमन आज के युग का क्रांतिकारी कदम है
तो कैसे ढूंढते हो उसमें कोई मर्यादा?

सुनो
वो जो रोज करते हैं बड़े बड़े घोटाले
नहीं मारी जातीं उन्हें गोलियाँ
वो जो रोज करते हैं बलात्कार
नहीं खौला करता किसी का खून
वो जो रोज धोखे को बना लेते हैं धर्म का पर्याय
नहीं कसी जातीं उनकी मुश्कें

इस चुप्पे समय के प्रलाप पर मत बहाओ आँसू
कि तुम आ ही नहीं सकते किसी खाते में
जब तक नहीं मिला सकते उनकी हाँ में हाँ

ये वक्त का कमज़ोर पक्ष है
राहू, केतु और शनि का दुर्लभ संयोग है
नहीं सुने या सराहे जायेंगे तुम्हारे नज़रिए
सुन लो
ओ कलबुर्गी, दाभोलकर,पानसारे, गौरी लंकेश
वो नहीं करते लिंग भेद
गर करोगे विद्रोह या प्रतिरोध
देशद्रोह की श्रेणी तैयार है तुम्हारे लिए

सच तो बस एक कोने में सिसकने को बेबस है
आओ सत्य का अंतिम संस्कार करें
एक एक मुट्ठी मिटटी डाल अपने हिस्से की
विधवा विलाप की तरह ...

सोमवार, 27 मई 2019

ए उदासियों

ए उदासियों आओ
इस मोहल्ले में जश्न मनाओ
कि यहाँ ऐतराज़ की दुकानों पर ताला पड़ा है
सोहर गाने का मौसम बहुत उम्दा है



रुके ठहरे सिमटे लम्हों से गले मिलो
हो सके तो मुस्कुराओ
एक दूजे को देखकर
यहाँ अदब का नया शहर बसा है
सिर्फ तुम्हारे लिये

रूमानी होने का मतलब
सिर्फ वही नहीं होता
तुम भी हो सकती हो रूमानी
अपने दायरों में
इक दूजे की आँख में झाँककर
सिर्फ इश्क की रुमानियत ही रुमानियत नहीं हुआ करती
उदासियों की रुमानियतों का इश्क सरेआम नहीं हुआ करता

चढ़ाये होंगे इश्क की दरगाह पर
सबने ख्वाबों के गुलाब
जिनकी कोई उम्र ही नहीं होती
मगर
उदासियों की सेज पर चढ़े गुलाब
किसी उम्र में नहीं मुरझाते

ये किश्तों में कटने के शऊर हैं
हो इरादा तो एक बार आजमा लेना खुद को
उदासियाँ पनाह दे भी देंगी और ले भी लेंगी
कि उदासियों से इश्क करने की कसम खाई है इस बार...

शुक्रवार, 12 अप्रैल 2019

नयी किताबें सूचनार्थ

मित्रों मेरा दूसरा उपन्यास "शिकन के शहर में शरारत" और नया कविता संग्रह "प्रेम नारंगी देह बैंजनी" किताबगंज प्रकाशन से प्रकाशित होकर आया है जिनके बारे में सब सूचनाएँ नीचे दे रही हूँ :
1

किताब : प्रेम नारंगी देह बैंजनी 
(कविता संग्रह)
लेखिका : वन्दना गुप्ता
मूल्य : ₹ 225/- (पेपरबैक संस्करण)
आवरण : पंकज तिवारी
ISBN : 978-81-938724-2-0
प्रकाशक : किताबगंज प्रकाशन

📱 : 8750660105
इस नवीनतम कविता संग्रह "प्रेम नारंगी देह बैंजनी" में सुप्रसिद्ध कवयित्री वन्दना गुप्ता जी ने स्त्री जीवन को मुख्य विषयवस्तु बनाया है । हिन्दी कविता के सुधी पाठकों के लिए यह एक संग्रहणीय पुस्तक है। यह पुस्तक अब ऑनलाइन शापिंग प्लेटफॉर्म amazon.in पर बिक्री के लिए उपलब्ध है। जो भी पाठक इस किताब की डायरेक्ट बुकिंग कराना चाहते हैं वे हमें हमारे व्हाट्सअप नंबर # 8750660105 पर इनबॉक्स में संपर्क कर सकते हैं ●
अथवा amazon.in से खरीदने के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें-
https://www.amazon.in/PREM-NARANGI-BAINJA…/…/ref=mp_s_a_1_1…


2

किताब : शिकन के शहर में शरारत
(उपन्यास)
लेखिका : वन्दना गुप्ता
मूल्य : ₹ 350/- (पेपरबैक संस्करण)
आवरण : कुंवर रविन्द्र
ISBN : 978-93-88348-95-9
इस उपन्यास में सुप्रसिद्ध कवयित्री एवं कथाकारा वन्दना गुप्ता जी ने "खाप प्रथा" को उपन्यास की मुख्य विषयवस्तु बनाया है । हिन्दी के सुधी पाठकों के लिए "खाप" पर आधारित यह एकमात्र संग्रहणीय पुस्तक है। यह पुस्तक अब ऑनलाइन शापिंग प्लेटफॉर्म amazon.in पर बिक्री के लिए उपलब्ध है। जो भी पाठक इस किताब की डायरेक्ट बुकिंग कराना चाहते हैं वे हमें हमारे व्हाट्सअप नंबर # 8750660105 पर इनबॉक्स में संपर्क कर सकते हैं ●
अथवा amazon.in से खरीदने के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें-


3

लीजिये मित्रों *कॉम्बो ऑफर* किताबगंज प्रकाशन की तरफ से :

उपन्यास "शिकन के शहर में शरारत" और कविता संग्रह "प्रेम नारंगी देह बैंजनी" दोनों अब सिर्फ 500 रूपये में आप इस लिंक से प्राप्त कर सकते हैं या फिर प्रकाशक से इस नंबर पर 8750660105 संपर्क कर पेटीएम कर प्राप्त कर सकते हैं :


सोमवार, 18 फ़रवरी 2019

सफ़ेद नकाबपोश चेहरे...

दहशत का लिफाफा
हर दहलीज को चूमता रहा
और सुर्ख रंग से सराबोर होता रहा हर चेहरा

फिर किसके निशाँ ढूँढते हो अब ?

तुमने दहशतें बोयी हैं
फसल लहलहा कर आयी है
सदियों से अब कैसी अदावत

तुम्हारे चेहरे की लुनाई है अब क्यों गायब?

प्रायोजित कार्यक्रम बना डाला
सबने अपना गुबार निकाल मारा
मगर हल का कागज़ कोरा ही रहा

कहो कैसे ढकोगे अब रुसवाई को ?

आँधियों ने चीन्हे हैं सफ़ेद नकाबपोश चेहरे...

गुरुवार, 7 फ़रवरी 2019

शिशुत्व की ओर

बन चुकी है गठरी सी 
सिकुड़ चुके हैं अंग प्रत्यंग 
बडबडाती रहती है जाने क्या क्या 
सोते जागते, उठते बैठते 
पूछो, तो कहती है - कुछ नहीं 

सिर्फ देह का ही नहीं हो रहा विलोपन 
अपितु अस्थि मांस मज्जा भी 
शनैः शनैः छोड़ रही हैं स्थान रिक्त 
और कर रही है वो पदार्पण 
एक बार फिर से अपने शिशुत्व की ओर 

शिशु 
सोता है, रोता है, खाता है और सोता है 
बस ऐसे ही तो बन चुकी है उसकी दिनचर्या 
जहाँ स्वयं के शरीर का भार भी नहीं उठा पा रही 
शिशु जो नहीं उठ बैठ पाता खुद से 
नहीं नहा सकता खुद से 
यहाँ तक कि चलने को भी जरूरत होती है सहारे की 
नहीं ओढ़ पाता कम्बल या रजाई खुद से 
सर्द गर्म से होता है जो परे 
मानो समाधिस्थ हो कोई ऋषि मुनि किसी तपस्या में 
इन्द्रियों पर नहीं होता जहाँ नियंत्रण 
मल मूत्र विसर्जन स्वाभाविक प्रक्रिया सा 
जहाँ होता है बिस्तर में ही संपन्न 
यूँ शिशुवत हो गया उसका सब व्यवहार 
लगता है जैसे उसने भी 
ले लिया है जन्म दोबारा एक ही जन्म में 

जन्म क्या है और मरण क्या?
जन्मने के बाद और मरने से पहले 
हो जाती है दैहिक अवस्था जब समान 
फिर शोक किसका और क्यों?
चक्र चलता है पुनः पुनः 
लौटता है फिर फिर मौसम 
यही तो है आवागमन 
देह में देह का 
आत्मा में आत्मा का 
मृत्यु में जन्म का और जन्म में मृत्यु का 
शायद यही कहलाता है पुनर्जन्म 

प्रौढत्व से शिशुत्व की यात्रा में 
मैं देख रही हूँ ... माँ को फिर से शिशु बनते हुए 

सोमवार, 17 दिसंबर 2018

ईश्वर गवाह है इस बार ....

मुझे बचाने थे पेड़ और तुम्हें पत्तियां 
मुझे बचाने थे दिन और तुम्हें रातें 
यूँ बचाने के सिलसिले चले 
कि बचाते बचाते अपने अपने हिस्से से ही 
हम महरूम हो गए 

हो तो यूँ भी सकता था 
तुम बचाते पृथ्वी और मैं उसका हरापन 
सदियों के शाप से मुक्ति तो मिल जाती 

अब बोध की चौखट पर फिसले पाँव में 
कितने ही घुंघरू बांधो 
नर्तकी भुला चुकी है आदिम नृत्य 

ईश्वर गवाह है इस बार ....

शनिवार, 15 दिसंबर 2018

मुझे ऊपर उठना था

मुझे ऊपर उठना था
अपनी मानवीय कमजोरियों से
आदान प्रदान के साँप सीढ़ी वाले खेल से

मैंने खुद को साधना शुरू किया
रोज खुद से संवाद किया
अपनी ईर्ष्या
अपनी कटुता
अपनी द्वेषमयी प्रवृत्ति से
पाने को निजात
जरूरी था
अपने शत्रुओं से दूरी बनाना
उनका भला चाहना
उनका भला सोचना

ये चाहना और सोचना संभव न था
सिर्फ मेरे लिए ही नहीं , किसी के लिए भी
मगर मेरी जिद ने
मुझमें रोंपे कुछ सुर्ख गुलाब संवेदना के
कि शहर से विस्थापित होने के लिए
करना ही होगा एक हवन
अपनी प्रवृत्तियों से मुक्त होने का
और शुरू हो गयी जिरह

मैं ही जज
मैं ही वकील
मैं ही मुजरिम
बहस के पायदान पर
जितनी बार आत्ममुग्धता की सीढ़ी चढ़ी
उतनी बार द्वेष के साँप से डंसा गया
जितनी बार सिर्फ अपने 'मैं' को पोषित किया
उतनी बाद आंतरिक विद्रोह से आहत हुआ
'खुद का खुद से संवाद कहीं ढकोसला तो नहीं' का जब आक्षेप लगा
व्याकुल चेतना फडफडा कर जमीन पर गिर पड़ी

फैसला एकपक्षीय मोहर के इंतज़ार में
आज भी
वटवृक्ष की छाँह में कर रहा है परिक्रमा

विषवमन ही अंतिम विकल्प नहीं किसी भी युद्ध का ...




रविवार, 9 दिसंबर 2018

उम्र के तीसरे पहर में मिलने वाले

ओ उम्र के तीसरे पहर में मिलने वाले
ठहर, रुक जरा, बैठ , साँस ले
कि अब चौमासा नहीं
जो बरसता ही रहे और तू भीगता ही रहे

यहाँ मौन सुरों की सरगम पर
की जाती है अराधना
नव निर्माण के मौसमों से
नहीं की जाती गुफ्तगू

स्पर्श हो जाए जहाँ अस्पर्श्य
बंद आँखों में न पलता हो
जहाँ कोई सपना
बस साथ चलने भर से तय हो जाता हो सफ़र
वहाँ जरूरी नहीं
उपासना के लिए गुठने के बल बैठना
और सजदा करना

गुनगुना उम्र की हर शाख को
हर पत्ते को
हर बेल बूटे को
कि महज यहीं रमण करती हैं
सुकून की परियाँ

और शब्द खो जाएँ सारे
किसी अनंत में उड़ जाएँ पंछी बन
सोचना जरा अब
मिलने का अर्थ
जीवन का अर्थ
तब
रूह और प्रकृति का नर्तन ही गूंजेगा दशों दिशाओं में
और मुकम्मल हो जायेगा सफ़र
एक अंतहीन मुस्कराहट के साथ

अंतिम यात्रा के श्लोक हैं ये .... याद कर लेना और गुनगुनाना
फिर
हसरतों के पाँयचों में लटके घुँघरूओं की झंकार हो जायेगी सुरीली इस बार ....




गुरुवार, 22 नवंबर 2018

कुछ_ख्याल_कुछ_ख्वाब

1
मेरे इर्द गिर्द टहलता है
कोई नगमे सा
मैं गुनगुनाऊं तो कहता है
रुक जरा 
इस कमसिनी पर कुर्बान हो तो जाऊँ
जो वो एक बार मिले तो सही
खुदा की नेमत सा
2
दिल अब न दरिया है न समंदर ...
तुम चीरो तो सही
शोख नज़रों के खंजर से
रक्स करती मिलेगी रूह की रक्कासा
उदासियों के उपवन में
3
आओ आमीन कहें
और मोहब्बत के ख्वाबों को एक बोसा दे दें
कि
रुख हवाओं का बदलना लाज़िमी है
4
न रास्ते हैं न ख्वाब न मंजिलें
कहो, कहाँ चलें
कि उम्र फ़ना हो जाए और मोहब्बत सुर्खरू
5
बिना किसी तालीम के हमने तो जी ली
कि
जो कायदों में बंधे
वो भला कैसी मोहब्बत

मंगलवार, 6 नवंबर 2018

राम तुम आओगे

राम क्या तुम आ रहे हो 
क्या सच में आ रहे हो 
राम तुम जरूर आओगे 
राम तुम्हें जरूर आना ही होगा 
आह्वान है ये इस भारतभूमि का 

हे मर्यादापुरुषोत्तम 
मर्यादा का हनन नित यहाँ होता है 
करने वाला ही सबसे बड़ा बिगुल बजाता है 
तुम्हारे नाम का डंका बजवाता है 
ये आज का सच है राम 
कहो, कैसे करोगे स्थापित फिर से 
मर्यादा का कलश?
जब तुम्हारे नाम पर यहाँ 
रोज लूटे जाते हैं जन के मन 

हे राम 
आज हर मन एक अयोध्या है 
हर घर एक अयोध्या है 
कहो, कैसे हर मन औ घर में 
करोगे विचरण 
साधोगे लगाम 
जब हर मन और हर घर में 
रावण रक्तबीज से उगा है 

राम तुम आओगे 
तुम जरूर आओगे 
तुम्हें आना ही होगा 
हम कह रहे हैं सदियों से 
और कहते रहेंगे 
आगे भी सदियों तक 
यहाँ अब पाला पड़ा है संवेदनाओं पर 
निज स्वार्थ से वशीभूत है हर राग 
ऐसे में कैसे होगा तुम्हारा पदार्पण 
जब कंटकाकीर्ण है पथ 
इस बार घायल फिर तुम्हें ही होना होगा 

राम ये त्रेता नहीं है 
कलयुग है 
क्या सच में तुमने हर मन और घर में विराजित 
रावण का अंत कर दिया है ?
क्या सच में तुम दीपोत्सव के हकदार हो?
प्रश्न तो उछाले ही जायेंगे 
क्या सह पाओगे 
या दे पाओगे उत्तर ?

शायद नहीं दे पाओ कोई उत्तर 
देख , इस युग की दीन हीन दशा 
कलयुग में राम नहीं आते 
सिर्फ राम के आने की आस उपजाई जाती है 
और उसी आस पर रक्तपात कर हित साधे जाते हैं 
क्योंकि 
हर बार तुम आ जाते हो एक पुकार पर 
और फिर चले जाते हो हित सधने पर 
समीकरण दुरुस्त रहता है उनका 

राम तुम्हारे नाम का 'पुआ' दिखा 
जीत लिए जाते हैं देश 
ऐसे में तय करो 
किस तरफ होगा तुम्हारा पदार्पण 
क्योंकि 
आना तुम्हारी नियति है 
और तुम आओगे 
फिर छद्म रूप में ही सही 

क्या देख पाओगे उनका बनाया अपना छद्म रूप ?

देखो राम 
तुम्हारे आने पर सम्पूर्ण अयोध्या है जगमग 
हाँ, तो आ रहे हो न ?

तो क्या हुआ जो छद्मता है आज तुम्हारा पर्याय ...

सोमवार, 29 अक्तूबर 2018

बुरा वक्त कहता है

बुरा वक्त कहता है
चुप रहो
सहो
कि
अच्छे दिन जरूर आयेंगे

सब मिटा दूँ, हटा दूँ
कि
आस की नाव पर नहीं गुजरती ज़िन्दगी

छोड़ दूँ सब कुछ
हो जाऊँ गायब
समय के परिदृश्य से
अपने दर्द की लाठी पकड़

फिर
वक्त खोजे मुझे और कहे
आओ न
मैंने संजोये हैं तुम्हारे लिए अच्छे दिन
तुम्हारे मनचाहे दिन
करो जो तुम करना चाहती हो
जियो जैसे जीना चाहती हो
हँसो जैसे हँसना चाहती हो
उडो जैसे उड़ना चाहती हो

और एक पूरी ज़िन्दगी जी जाऊँ मैं जीभर के
अपनी तमन्नाओं हसरतों और चाहतों का कोलाज बनाकर

सपना अच्छा है न ...
लड़की जो सिर्फ स्वप्न देखना ही जानती है बस