अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

बुधवार, 28 अक्तूबर 2009

मोहब्बत ये तूने क्या किया

किसी ने ख्वाब भी बनाया
पलकों में भी बसाया
किसी के दिल की धड़कन भी बनी
ज़िन्दगी की आरजू भी बनी
उसे भी अपने दिल की धड़कन बनाया
उसके ख्वाबों को भी
अपनी आंखों में सजाया
उसकी हर चाहत को अपना बनाया
बस उसकी इक हसरत को
जो न अपनाया
उस इक कसूर की
सज़ा ये मिली
उसने भी
पलकों से गिरा दिया
धडकनों को भी
क़ैद कर दिया
बे-मुरव्वत मोहब्बत का
पाक गला भी घोंट दिया
इश्क के न जाने
कौन से मुकाम पर ले जाकर
शाख से टूटे पत्ते की मानिन्द
दर -दर भटकता छोड़ दिया
आह ! मोहब्बत ये तूने क्या किया

30 टिप्‍पणियां:

महफूज़ अली ने कहा…

उसने भी
पलकों से गिरा दिया

bahut hi maarmik panktiyan....

शाख से टूटे पत्ते की मानिन्द
दर -दर भटकता छोड़ दिया
आह ! मोहब्बत ये तूने क्या किया...

yeh to hai.... admi tootta hai to dar dar bhatakta hi hai.....

behtareen shabdon ke saath ek behtareen kavita.....

Regards

mahfooZ

www.lekhnee.blogspot.com

(Meri Rachnayen!!!!!)

अजय कुमार ने कहा…

ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया

रचना दीक्षित ने कहा…

कौन से मुकाम पर ले जाकर
शाख से टूटे पत्ते की मानिन्द
दर -दर भटकता छोड़ दिया
आह ! मोहब्बत ये तूने क्या किया
वाह वंदना जी क्या खूब कहा है सच में पढ़ कर बहुत आनंद आ गया
रचना

ओम आर्य ने कहा…

आह के साथ वाह निकली आपकी रचना के बनावट पर ...........

mehek ने कहा…

कौन से मुकाम पर ले जाकर
शाख से टूटे पत्ते की मानिन्द
दर -दर भटकता छोड़ दिया
आह ! मोहब्बत ये तूने क्या किया

waah bahut sunder lagi ye panktiyaan.sunder nazm.

नीरज गोस्वामी ने कहा…

बहुत अच्छी रचना है वंदना जी बधाई स्वीकार करें...
नीरज

AlbelaKhatri.com ने कहा…

अच्छी कविता.........
परिपूर्ण कविता........

बहुत भा गई यह कविता..........

बधाई !

रश्मि प्रभा... ने कहा…

ए मोहब्बत तेरे अंजाम पे rona आया

वाणी गीत ने कहा…

उफ़ ..मुहब्बत ने ये क्या किया ...
भावप्रवण कविता ... !!

रंजना ने कहा…

Bhaavpoorn abhivyakti...

दर्पण साह "दर्शन" ने कहा…

मोहब्बत का
पाक गला भी घोंट दिया....


आह ! मोहब्बत ये तूने क्या किया

wah Vandana ji abki baar phir masterstroke !!
par mujhe to lalach aapke dossre blog ka hai isley ise zaldi zaldi nipta ke ja raha hoon...

M VERMA ने कहा…

शाख से टूटे पत्ते की मानिन्द
दर -दर भटकता छोड़ दिया
आह ! मोहब्बत ये तूने क्या किया...
जज्बातो का सिलसिला हैं आपकी रचनाएँ. आप जिस दर्द, जिस भाव को शब्द देती है वे स्वत: ही मुखरित हो उठते है.
बहुत शानदार रचना

योगेश स्वप्न ने कहा…

ah.........................

wah............................

Mishra Pankaj ने कहा…

बहुत अच्छी रचना है वंदना जी बधाई

Nirmla Kapila ने कहा…

कौन से मुकाम पर ले जाकर
शाख से टूटे पत्ते की मानिन्द
दर -दर भटकता छोड़ दिया
आह ! मोहब्बत ये तूने क्या किया
बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है वन्दना जी बधाई

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

हमारी भी बधाई स्वीकार कीजिए इस सुन्दर रचना के लिए। ना जाने क्यों इक गलती की इतनी बडी सजा मिलती है?

MANOJ KUMAR ने कहा…

वो फूल हो के महक अपने पास रखता है,
मुहब्बतों का वो मौसम उदास रखता है।

राकेश कुमार ने कहा…

प्यार के ना जाने कितने रन्ग होते है और फिर विरह तो जीवन का सौन्दर्य है,जीवन के पथ का सबसे महत्वपूर्ण मोड,एक मील का पत्थर. जिसने इसे समझ कर अपनी जिन्दगी को दिशा दी वे आज कही कही ना कही एक मुकाम पर है और जिसने इससे हार मानी, वे अपने ही चक्षु से निकली गन्गोत्री मे डूब कर अस्तित्व विलीन हो गये.

श्यामल सुमन ने कहा…

खूबसूरती से आपने अपने मन की बात कह दी।

जिन्दगी तो बस मुहब्बत और मुहब्बत जिन्दगी।
तब सुमन दहशत में जी कर हाथ क्यों मलता रहा।।

सादर
श्यामल सुमन
www.manoramsuman.blogspot.com

चंदन कुमार झा ने कहा…

सुन्दर !!!!!

raj ने कहा…

mohabbat se dekha khafa ho gye,
log aaj kal shayad khuda ho gye...

आपके सवाल ने कहा…

har khyaal ka jawaab hai humare paas.... just visit http://yourquestionanswer.blogspot.com/

परमजीत बाली ने कहा…

वन्दना जी बहुत सुन्दर रचना है।बधाई।

satish kundan ने कहा…

kavita ki antim linne man ko bhitar tak kured dali....bahut achhi lagi mujhe aapki ye kavita..maine ek nai post dali hai aapka swagat hai

दिगम्बर नासवा ने कहा…

इश्क के न जाने
कौन से मुकाम पर ले जाकर
शाख से टूटे पत्ते की मानिन्द
दर -दर भटकता छोड़ दिया

मोहब्बत का ऐसा anjaam होता है ........ ये jaante huve भी सब मोहब्बत करते हैं .......... lajawaab rachna है आपकी Vandna ji.....

satish kundan ने कहा…

इश्क के न जाने
कौन से मुकाम पर ले जाकर
शाख से टूटे पत्ते की मानिन्द
दर -दर भटकता छोड़ दिया
आह ! मोहब्बत ये तूने क्या किया

bahut dard bhari line hai..jo man ko chhuti hai..mere blog par aapka swagat hai

creativekona ने कहा…

सुन्दर एवम भावना प्रधान कविता--बहुत अच्छी लगी आपकी अन्य रचनायें भी।
हेमन्त कुमार

शरद कोकास ने कहा…

कविता की शुरुआत एक ओर से एक लाइन से करें अच्छा लगेगा । कुछ नये बिम्बों का प्रयोग करे यह बिम्ब पुराने हो चुके हैं ।

kshama ने कहा…

Sundar tasveer ke saath, saath utnee hi sundar rachna!
Mohobbat na jane kiska kya haal kab bana de?

jaisingh ने कहा…

kahane ko to tumne kah diya bahut kuch. magar vo bat to hui nah jo arth rakhti thee.

vandana ji

aap ki rachnaoo main bhawnay hai or shabdo ka chayan bhi aacha hai.

jaisingh