अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 6 अक्तूबर 2009

मत छूना

मत छूना
रूह से भी कभी
मेरी रूह को
इस जनम में
मैं अमानत हूँ
किसी और की
तेरा प्यार नही
गैर हूँ तेरे लिए
मेरी पाकीजा रूह
तेरे रूहानी प्रेम के
लिए नही बनी
इस जनम तो
रूह की क़ैद से
आजाद करो
फिर किसी जनम में
शायद तेरे रूहानी
प्रेम की ताकत
मेरी रूह को पुकारे
और हमारी रूहें
उस जनम में
अपने रूहानी प्रेम की
प्यास बुझायें
उस पल तक प्रतीक्षा करो
और तब तक
मत छूना
रूह से भी कभी
मेरी रूह को

29 टिप्‍पणियां:

ओम आर्य ने कहा…

waah kya baat hai ......atisundar

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

सुन्दर रचना. श्लेष अलंकार का भी सुन्दर प्रयोग.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

इस जनम तो
रूह की क़ैद से
आजाद करो
फिर किसी जनम में

मनोभावों का सुन्दर चित्रण है।
बधाई!

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.

Pankaj Mishra ने कहा…

अत्यंत सुन्दर बधाई स्वीकार करे

Apanatva ने कहा…

ati sundermarmik sandesh detee rachana
badhai

singhsdm ने कहा…

अच्छी रचना ......

singhsdm ने कहा…

अच्छी रचना ......

रश्मि प्रभा... ने कहा…

bahut sundar khyaal......ruh se bhi mat chhuna

दर्पण साह "दर्शन" ने कहा…

behterin poem...
"मेरी पाकीजा रूह
तेरे रूहानी प्रेम के
लिए नही बनी"

bus ek baat jo padhte wakt bahut khatki 'Ruh' word ka baar baar aana....

...waise aapne ise 'intentionaaly' dala lagta hai.
Tab bahut badhiya hai !!

hamesha ki tarah lazaab post.
sabse acchi lines pehle ki chaar:
मत छूना
रूह से भी कभी
मेरी रूह को
wah !!

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

बहुत सुन्दर भाव व्यक्त किए है आपने। और साथ ही गहरी बात भी कह दी। माफी चाहूँगा आपकी कहानी नही पढ पाया अभी।

M VERMA ने कहा…

इस रूहानीपन ने बहुत खूब बयान किया है.
मत छूना
रूह से भी कभी
मेरी रूह को
इस हद तक की सात्विकता और भावानुभूति
बहुत खूब

योगेश स्वप्न ने कहा…

bahu sunder, bahut khoob , sarahniya abhivyakti. badhaai.

mehek ने कहा…

bahut sunder bhavpurn rachana.

"अर्श" ने कहा…

क्या लहजा है क्या शब्दों का तालमेल है और साथ में भाव कमाल की नज्म बनी है बहुत खूब र्मानियत और मर्यादा की बातें हैं बहुत बहुत बधाई

अर्श

MANOJ KUMAR ने कहा…

संवेदनशील रचना। बधाई।

शरद कोकास ने कहा…

भई मै तो रूह मे विश्वास ही नही करता । लेकिन इसका रूपक बढ़िया है ।

kshama ने कहा…

Do vibhinn rachnayen saath,saath...ek chahat bulatee huee...doosaree aagaah kartee huee..'mat chhoonaa'...pyar kee parbhasha kitnee kathin hai..Gulzaar wo geet hamesha se behad achha laga," hamne dekhee hai un aakhon kee mahaktee khushboo,haathse chhooke ise rishonka ilzaam naa do...'!
Behad sundar rachnayen hain aapkee...

आनन्द वर्धन ओझा ने कहा…

वंदनाजी,
'रूह' और 'रूहानी'--इन दो शब्दों की प्रयोगधर्मी रचना कतिपय अन्तरंग भावों की सुन्दर अभियक्ति बन गई है !

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

मन के तारों को झंकृत कर देने वाली रचना है, बधाई।
करवाचौथ और दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।
----------
बोटी-बोटी जिस्म नुचवाना कैसा लगता होगा?

Babli ने कहा…

बहुत ही ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने!

naturica ने कहा…

jism aur rooh aapki kvita men dwaitwad aur adwaitvad ka dwand sundarta se ubharta hai ..badhai
naturica par suniyeकविता -mix

राकेश कुमार ने कहा…

सामाजिक ताने के बीच उलझी एक नायिका के मनोभावो को प्रतिबिम्बित करती यह कविता अन्दर तक जैसे उद्वेलित कर देती है, वैसे प्यार का सच्चा स्वरूप भी यही है, मर्यादाओ की परिधि मे प्रेम अपने आन्तरिक सौन्दर्य के साथ और अधिक तीव्रता से सुवासित होता है.

वैसे भी एक गीत की चन्द पन्क्तिया शायद इसी तरह के रुहानी प्रेम को प्रतिबिम्बित करने के लिये गीतकार ने लिखी होगी- एक अहसास है ये रूह से महसूस करो, प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम ना दो.

सुन्दर और प्रभावशाली कविता, एक बार फिर से बधाई आपको.

Dr. Tripat ने कहा…

aapki kavita seedha rooh tak utar aai hai
bahut badiya
badhai ho!

नीरज गोस्वामी ने कहा…

एक शेर याद आ गया:
तू किसी और की जागीर है ऐ जाने ग़ज़ल
लोग तूफ़ान उठा लेंगे मेरे साथ न चल..."
बहुत सुन्दर रचना है आपकी...बधाई...
नीरज

प्रीति टेलर ने कहा…

रूहानी बात की बात ही अनूठी है ....

दिगम्बर नासवा ने कहा…

lajawaab likha hai. kamaal ki rachna ....

BAD FAITH ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.

पदमजा शर्मा ने कहा…

प्यारका हर रूप अच्छा ही होता है .भाव सुंदर हों तो भाषा खुद ब खुद अच्छी हो जाती है .