अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 18 दिसंबर 2010

ये प्रेम के कौन से मोड आ गये

ये प्रेम के कौन से मोड आ गये
जहाँ लम्हे तो गुजर गये
मगर हम बेजुबाँ हो गये
कहानी कहते थे तुम अपनी
और हम बयाँ हो गये
ये बादल मेरी बदहाली के
क्यूँ तेरी पेशानी पर छा गये
इस रूह के उठते धुयें मे
तुम कैसे समा गये
काश!
कोई नश्तर तो चुभता
कुछ लहू तो बहता
कुछ दर्द हुआ होता
तो शायद
तेरा दर्द मेरे दामन से
लिपट गया होता
फिर न यूँ रुसवाइयों
के डेरे होते और
जिस्म के दूसरे छोर पर
तुम मेरे होते
जहाँ रूहों के रोज
नये सवेरे होते

मगर ना जाने 
ये कैसे प्रेम के
मोड़ आ गए
जो सिर्फ भंवर 
में ही समा गए
अब ना तुम हो
ना मैं हूँ 
ना भंवर है 
बस प्रेम का ये 
मोड़ सूखे अलाव 
 ताप रहा है

37 टिप्‍पणियां:

ZEAL ने कहा…

.

आपकी अभिव्यक्ति की क्षमता की जितनी तारीफ करूँ कम होगी।
बहुत सुन्दर रचना
आभार।

.

Apanatva ने कहा…

dil ko choo jane walee rachana.....
sunder abhivykti ...

dev ने कहा…

वंदना.....थोड़ी व्यस्तता के कारण आप के रत्नों पर कोई कॉमेंट्स ना डाल सका, क्षमाप्रार्थी हूँ....

प्रेम...एक अजूबा है....ओरों के लिए तो पता नहीं.....मेरे लिए तो ये संजीवनी बूटी है.....हां.

बात आप अपनी कहतीं हैं....और बयाँ मैं होता हूँ......निःसंदेह.... बधाई....मीरा भी प्रेम दीवानी थी...और राधा भी....आप भी.

संगीता पुरी ने कहा…

वाह .. बहुत अच्‍छी अभिव्‍यक्ति !!

रश्मि प्रभा... ने कहा…

ये प्रेम के कौन से मोड आ गये
जहाँ लम्हे तो गुजर गये
मगर हम बेजुबाँ हो गये
.....waah bezubaan ho gaye hum to !

सुज्ञ ने कहा…

प्रेम के अनन्य पडाव अभिव्यक्त हुए।

आभार इस कविता के लिये।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

ये कहाँ आ गए .. सरे राह चलते चलते

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

ये प्रेम के कौन से मोड आ गये
जहाँ लम्हे तो गुजर गये
मगर हम बेजुबाँ हो गये
कहानी कहते थे तुम अपनी
और हम बयाँ हो गये
--
प्रेम को परिभाषित करती हुई एक सुन्दर रचना!

Swarajya karun ने कहा…

दिल के नाज़ुक ज़ज्बातों की सुंदर अभिव्यक्ति. आभार .

saanjh ने कहा…

as always....amazing
kaash koi nashtar chubha hota, kuch dard hua hota....beautiful !

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना ... आभार

Anupriya ने कहा…

bahot sundar...bas maza aa gaya...bahot achcha likha aapne...

ये प्रेम के कौन से मोड आ गये
जहाँ लम्हे तो गुजर गये
मगर हम बेजुबाँ हो गये
कहानी कहते थे तुम अपनी
और हम बयाँ हो गये...wah wah wah...

Harman ने कहा…

prem ke khoobsurat jazbaat..

mere blog par bhi sawagat hai..
Lyrics Mantra
thankyou

राज भाटिय़ा ने कहा…

अति सुंदर रचना धन्यवाद

'उदय' ने कहा…

... bahut khoob ... prasanshaneey rachanaa !!!

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

क्या बात है .. प्रेम के सुन्दर अभिव्यक्तियों सहित खुबसूरत कविता !

JHAROKHA ने कहा…

vadana ji
bahut hi behatreen abhivyakti.
kash!ye mid na aaya hota to jidgi ka rang kuch aur hi hota.
poonam

प्रेम सरोवर ने कहा…

वंदना जी,
1.एक बात सदा याद रखिएगा-मुहब्ब्त सब की महफिल में शमां बन कर नही जलती।
2.मुहब्बत के लिए कुछ खास दिल मखसूस होते हैं,
यह वो नगमा है जो हर साज पर गाया नही जाता ।
अच्छी प्रस्तुति।

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत सुंदर शब्दों में भावों को सजाया है.

mridula pradhan ने कहा…

kitna nazuk andaz hai apka.wah.

Kailash C Sharma ने कहा…

अब ना तुम हो
ना मैं हूँ
ना भंवर है
बस प्रेम का ये
मोड़ सूखे अलाव
ताप रहा है

कमाल का दर्द है आपकी रचनाओं में.इन के बारे में कुछ भी कहना असंभव है..सिर्फ एक अहसास बन कर घुमड़ती रहती हैं विचारों में कई दिन तक..लाज़वाब..बेहद सुन्दर प्रस्तुति.आभार

Manav Mehta ने कहा…

bahut khoob ...vandna ji... premaghat kuchh aisa hi hota hai....

मनोज कुमार ने कहा…

बादे-सबा हूं, छू के गुज़र जाउंगा तुझे
मैं चांदनी नहीं कि तेरी छत पे सो सकूं
बहुत सुंदर!

डॉ० डंडा लखनवी ने कहा…

कमाल की रचना लिखी है। बधाई हो।
सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी
==============================
प्रेम पर एक टिप्पणी-
==================
प्रेम सुपरफ्लेम है।
मजेदार गेम है॥
हार-जीत पर इसमें
होता न क्लेम है॥

-डॉ० डंडा लखनवी

Arvind Mishra ने कहा…

कहानी कहते थे तुम और हम बयाँ हो गए -वाह क्या कहने !

nivedita ने कहा…

प्रेम की सुन्दर अभिव्यक्ति ।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

प्रेम में जो न हो जाये वो कम है... अच्छी रचना है ..

ashish ने कहा…

सुन्दर एवं भावप्रवण अभिव्यक्ति , पढ़कर प्रेम रस का अद्भुत आनंद सुख मिला .

Suman Sinha ने कहा…

is mod ko samajhna itna aasaan kahan !

अरुणेश मिश्र ने कहा…

प्रेम के आयामों को वाणी देती प्रशंसनीय रचना ।

adil farsi ने कहा…

ये प्रेम के कौन से मोड़ आ गये...बहुत सुन्दर

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

prem ras me dubi khubsurat rachna...

"पलाश" ने कहा…

प्रेम को शब्दों में बाँधना आसान नही होता , मगर आपने यह बहुत खूबसूरती से किया है ।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत ही सुन्दर रचना।

अनुपमा पाठक ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति!

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

प्रेम के मोड़ जीवन के मोड़ से भिन्न नहीं होते.. इस तरह एक अच्छी कविता है यह...

इमरान अंसारी ने कहा…

वंदना जी,

वाह....वाह....क्या बात है ....बहुत खूबसूरती से उर्दू के लफ्जों का सही इस्तेमाल किया है |