अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

रविवार, 15 नवंबर 2009

मैं इंतज़ार करूँगा ..........

कभी वादा तो नही किया
मगर फिर भी
मैं इंतज़ार करूँगा तेरा
एक जनम की मुझे चाह नही
तुझसे मिलने की कोई राह नही
मगर फिर भी
मैं इंतज़ार करूँगा तेरा
इस कायनात के उस
आखिरी जनम तक
जब तुम सिर्फ़ मेरी होगी
तुम्हारा दीदार सिर्फ़ मेरा होगा
शरीर तो हर जनम मिलते रहे हैं
इंतज़ार है उस आख़िर जनम का
जब तेरी रूह का प्यार भी
सिर्फ़ मेरा होगा
मैं इंतज़ार करूँगा..............

19 टिप्‍पणियां:

महफूज़ अली ने कहा…

जब तुम सिर्फ़ मेरी होगी
तुम्हारा दीदार सिर्फ़ मेरा होगा
शरीर तो हर जनम मिलते रहे हैं
इंतज़ार है उस आख़िर जनम का
जब तेरी रूह का प्यार भी
सिर्फ़ मेरा होगा
मैं इंतज़ार करूँगा............

bilkul aisa laga padhke .....jaise ki main bhi yahi kahna chahta tha...... bas soch meri hai,,....aur shabd aapke....

bahut hi behtareen rachna ....jisne man ke andar tak chhoo liya hai.....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

पोस्ट सो बहुत ही बढ़िया लिखी है,
मगर डर है कि कहीं प्रेत-योनि में
भटकना न पड़े।
हा..हा...हा...हा...!

Harkirat Haqeer ने कहा…

जब तेरी रूह का प्यार भी
सिर्फ मेरा होगा .....

सच कहा आपने मोहब्बत तो रूहों का मेल है ....वो इन्तजार परवान चढ़े....दुआ है ....आमीन ....!!

MANOJ KUMAR ने कहा…

सुंदर भावाभिव्यक्ति।

अजय कुमार ने कहा…

इंतज़ार का फल मीठा ही होगा

M VERMA ने कहा…

जब तेरी रूह का प्यार भी
सिर्फ़ मेरा होगा
मैं इंतज़ार करूँगा............
क्या खूब है इसे कहते हैं रूहानी एहसास

बखूबी आपने बयाँ किया है

raj ने कहा…

जब तेरी रूह का प्यार भी
सिर्फ मेरा होगा .....pak or nazuk pankatia....

Udan Tashtari ने कहा…

बढ़िया रचना..करो इन्तजार!!

Nirmla Kapila ने कहा…

शरीर तो हर जनम मिलते रहे हैं
इंतज़ार है उस आख़िर जनम का
जब तेरी रूह का प्यार भी
सिर्फ़ मेरा होगा
मैं इंतज़ार करूँगा............
iइससे सुन्दर प्यार की अभिव्यक्ति क्या होगी । सुन्दर कविता के लिये बधाई

योगेश स्वप्न ने कहा…

VANDANA JI, KYA BOLUN UFFFFFFFFF!!!!!!!!!!!

रश्मि प्रभा... ने कहा…

खूबसूरत एहसासों से भरे ख्याल ...........

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

... बहुत सुन्दर !!!!!

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

जब तेरी रूह का प्यार भी
सिर्फ़ मेरा होगा
मैं इंतज़ार करूँगा.........
बहुत ही सुंदर ।

Babli ने कहा…

इंतज़ार है उस आख़िर जनम का
जब तेरी रूह का प्यार भी
सिर्फ़ मेरा होगा
मैं इंतज़ार करूँगा............
बहुत सुंदर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने लाजवाब रचना लिखा है! दिल को छू गई आपकी ये बेहतरीन रचना! इंतज़ार का फल हमेशा मीठा होता है!

mark rai ने कहा…

haan wada karna khaternaak ho sakta hai...........shaandaar.
...kuch naya dekha........
zindagi ke maayne ..........
kya baat hai ..........
thanks for post......

नीरज गोस्वामी ने कहा…

ये तो वोही बात हुई....हम इंतज़ार करेंगे तेरा क़यामत तक....खुदा करे की क़यामत हो और तू आये...बहुत अच्छी रचना वंदना जी...बधाई...
नीरज

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

आपकी इस कविता ने बहुत पुरानी फ़िल्म नीलकमल की याद दिला दी !

प्रीति टेलर ने कहा…

intazaar sachmuch jine ki vajah ban jata hai ...
sundar abhivyakti .....

Razi Shahab ने कहा…

nice poetry