अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 22 अक्तूबर 2011

आज राधा बनी है श्याम






आज राधा बनी है श्याम 
 नाचें कैसे नन्दकुमार

पैरों मे पहने कैसे पायलिया
छम छम नाचें देखो कैसे सांवरिया
मुरली पे छेडी कैसी तान 
 नाचें कैसे नन्दकुमार
आज राधा ...................

लहंगा चोली कैसे पहने सुकुमार
लाला से बने लली कैसे नन्दलाल
सिर पर ओढ़ी है चूनर लाल
 नाचें कैसे नंदकुमार
आज राधा.................


मोहिनी मूरत रही कैसे लुभाय
मधुर चितवन ने दियो होश गंवाय
माथे पर बिंदी ने कियो है कमाल
 नाचें कैसे नंदकुमार
आज राधा बनी है श्याम 
 नाचें कैसे नन्दकुमार

मेरो तन मन लियो है वार
नाचें कैसे नंदकुमार
मेरो जियो लियो है चुराय
नाचें कैसे नंदकुमार
जिसकी ठोढ़ी पे चमके हीरा लाल 
नाचें कैसे नंदकुमार 
आज वृषभान लली बनी श्याम
नाचें कैसे नंदकुमार 


आज राधा बनी है श्याम 
 नाचें कैसे नन्दकुमार








अब चाहें तो इस लिंक पर सुन भी लीजिये 
http://www.facebook.com/photo.php?v=२६६००९८६०१०९८८१



38 टिप्‍पणियां:

सदा ने कहा…

वाह ...बहुत ही बढि़या ..।

संतोष कुमार ने कहा…

vandana ji bahut hi sunder geet.
Man bhi radhe radhe ho gaya.

संजय भास्कर ने कहा…

अलग ही अंदाज सुन्दर गीत वन्दना जी।

डा.राजेंद्र तेला"निरंतर" Dr.Rajendra Tela,Nirantar" ने कहा…

vandnaajee bahut khoobsoorat likhtee hein aap,bhagwaan ishwar aapko bahut oochaayiaan de ,aap kee kalam din raat nikhartee rahe

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति ने कहा…

वंदना जी ... आज आपने याद दिला दी कृष्ण लीला... उम्दा वाह ..आज राधा बनी श्याम ..सुन्दर कविता

Rakesh Kumar ने कहा…

आपकी अनुपम प्रस्तुति ने तो दिल चुरा लिया है वंदना जी.प्रेम के रंग में रंग दिया है आपने.

सुन्दर प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

राधा मय होते श्याम ..सुन्दर गीत

Rakesh Kumar ने कहा…

आपकी मधुर भक्तिमय भोलीभाली सी आवाज
में सुनकर तो मन आनंद के सागर में गोते लगा रहा है.

सुनवाने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया,वंदना जी.

इमरान अंसारी ने कहा…

very nice vandana ji.

संध्या शर्मा ने कहा…

मधुर भक्तिमय गीत...

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

पढ़ कर और सुनकर बहुत अच्छा लगा।

सादर

Onkar ने कहा…

सुन्दर गीत

Amrita Tanmay ने कहा…

हमें भी थिरका दिया..

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

राधामय जगत..

Rajesh Kumari ने कहा…

bahut manmohak bhaktimay prastuti.

रविकर ने कहा…

षड्यंत्रों का जाल रच रहे, सब दुश्मन रहे सता
प्रेम-नगाड़ा बात बिगाड़ा, पाण्डेय रहे बता
राधा बनी श्याम सी साँवर, पर वन्दन देत जता
"दीपक का त्यौहार आ गया तू कर ले रूप पता

लिंक आपकी रचना का है
अगर नहीं इस प्रस्तुति में,
चर्चा-मंच घूमने यूँ ही,
आप नहीं क्या आयेंगे ??
चर्चा-मंच ६७६ रविवार

http://charchamanch.blogspot.com/

योगेश स्वप्न ने कहा…

vandana ji aaj RADHA AUR SHYAM se sambandhit aapka shirshak dekh kar apne ko rok nahin paya aur madhur bhakti rachna ko padh aur sunkar bhav vibhor ho gaya , anand hi anand.

मनोज कुमार ने कहा…

यह कृष्णमय पोस्ट पढ़ कर मन-मयूर नाच उठा।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर और सुमधुर गीत!

संगीता पुरी ने कहा…

वाह .. बहुत खूब !!

सुमन'मीत' ने कहा…

surmayee geet....

Arvind Mishra ने कहा…

खूबसूरत लीला है सब कुछ राधा और कृष्णमय ही तो है

sushma 'आहुति' ने कहा…

बहुत ही सुन्दर शब्द भाव और रचना....

mahendra verma ने कहा…

आज राधा बनी है श्याम
नाचें कैसे नंदकुमार।

राधा और श्याम की लीला अपरम्पार है।
मोहक छवि जीवंत करती सुंदर कविता।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

वाह सुन्दर कल्पना को धब्द दिए अहिं आपने ... आज राधा बनी है श्याम ...

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

“कब राधा औ श्याम हैं, अलग अलग दो अंग
इन सा संगम औ कहाँ, जैसे जमुना गंग”.

बहुत सुन्दर रचना....
आपको सपरिवार दीप पर्व की सादर बधाईयां....

चन्दन..... ने कहा…

बहुत हि सुन्दर एवं भावनात्मक !
दीवाली कि हार्दिक शुभकामनायें!

अशोक कुमार शुक्ला ने कहा…

आपकी कविता सटीक लगती है। दीपावली की हार्दिक शुभकामनाऐं!!

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

राधे, कृष्ण की लीला का क्या कहना ....इसे सुंदर शब्दों में पिरोया आपने .....

Babli ने कहा…

आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

कुमार राधारमण ने कहा…

राधा ही श्याम नहीं बनी,श्याम ने भी महिला का वेष धारण कर मिलने का उपक्रम किया है। विद्यापति ने इस विषय पर कुछ बहुत सुंदर गीत लिखे हैं।

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

सुन्दर गीत... सुरीली आवाज़... बहुत सुन्दर... अप्रतिम...

PRAN SHARMA ने कहा…

HRIDAYSPARSHEE GEET .

NEELKAMAL VAISHNAW ने कहा…

अति सुन्दर...

आपको धनतेरस और दीपावली की हार्दिक दिल से शुभकामनाएं
MADHUR VAANI
MITRA-MADHUR
BINDAAS_BAATEN

Kunwar Kusumesh ने कहा…

भावों से लबरेज़.
दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.

रचना दीक्षित ने कहा…

लाजवाब प्रस्तुति

आपको व आपके परिवार को दीपावली कि ढेरों शुभकामनायें

सागर ने कहा…

bhaut khubsurat... happy diwali...

Reena Maurya ने कहा…

rangin radha ji ke chitra or sundar kavita..
bahut hi behtarin post hai..