अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

सोमवार, 1 नवंबर 2010

कुछ यूँ दुनिया का क़र्ज़ उतारा जाए

चलो अच्छा हुआ
बातें ख़त्म हुयीं 
अब दुनियादारी 
निभाई जाये 
तुझे चाहते 
रहने की सज़ा 
एक बार फिर
सुनाई जाये
चाहतों की सजायें
अजब होती हैं 
बेगैरत फूलों 
की तरह
चलो एक बार
फिर किसी को
चाहा जाए 
कुछ इस तरह
ज़िन्दगी को
मौत से
मिलाया जाये 
यूँ ही नहीं 
मेघ से 
उमड़ -घुमड़ रहे 
इन अलावों को
फिर से 
जलाया जाये
इन रूह की
सीली लकड़ियों को
बुझे चराग से
जलाया जाए
इस सुलगते 
धुएं के
गुबार में 
चलो एक चेहरा
नया ढूँढा जाए
ज़िन्दगी के 
तौर तरीकों को
ताक पर रखकर
एक बार फिर से
चाहतों का ज़नाज़ा 
निकाला जाए
यूँ हसरतों को
रुसवा किया जाए
मौत से पहले 
मौत को
पुकारा जाए

एक बार
फिर से

रूह के
ज़ख्मों को
उबाला जाए
रूह की
खंदकों  में
उबलते लावे को
एक बार 
फिर से 
कढाया जाए
कुछ यूँ
दुनिया का 
क़र्ज़ उतारा जाए

44 टिप्‍पणियां:

मनोज कुमार ने कहा…

कविता में सघनता की अपेक्षा है। जैसे रिश्तों में इसके होने की चाहत, कविता के भाव बताते हैं। विस्तार पाकर संवेदना ....
सीली लकड़ियों को
बुझे चराग से
जलाया जाए
इस सुलगते
धुएं के
गुबार में
चलो एक चेहरा
नया ढूँढा जाए

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

चलो अच्छा हुआ
बातें ख़त्म हुयीं
अब दुनियादारी
निभाई जाये....
--

यही तो सार है इस रचना का!

--
कुछ यूँ
दुनिया का
क़र्ज़ उतारा जाए
--
सार्थक रचना रची है आपने!
जीवन की झंझावातो का प्रस्तुतिकरण बढ़िया रहा!

ZEAL ने कहा…

तुझे चाहते रहने की सजा एक बार फिर सुनाई जाए-- वाह ! क्या बात है !

.

संजय भास्कर ने कहा…

रूह की
खंदकों में
उबलते लावे को
एक बार
फिर से
कढाया जाए
कुछ यूँ
दुनिया का
क़र्ज़ उतारा जाए

बहुत लाजवाब और उम्दा लिखा है......गहरी बात आसानी से कह दी आपने......वन्दना जी

honesty project democracy ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

Apanatva ने कहा…

sarthak lekhan.

shikha kaushik ने कहा…

ek purani film ka gana hai''duniya ko laat maro duniya salam kare'' shayad isi tarah aap ne jindgi ka karz utarne ki yojna banaye hai.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

चाहत न हो पूरी तो सज़ा लगती है ....बहुत खूबसूरत रचना ..

Babli ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत और गहरे भाव के साथ उम्दा रचना लिखा है आपने! बधाई!

सुज्ञ ने कहा…

बहुत ही जानदार रचना!!

क्षितिजा .... ने कहा…

चलो अच्छा हुआ
बातें ख़त्म हुयीं
अब दुनियादारी
निभाई जाये

shuruaat hi behtareen hai vandana ji ... aur ant usse bhi zyada

कुछ यूँ
दुनिया का
क़र्ज़ उतारा जाए

bahut khoob ...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

नहीं उतारेंगे तो प्रश्नचिन्ह खड़े कर देगी यह दुनिया।

mahendra verma ने कहा…

कविता में आपके चिंतन की मौलिकता झलक रही है।...बधाई।

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

दुनिया का क़र्ज़ तो उतर जाएगा प्रेम का क़र्ज़ कैसे उतरेगा.. बहतु सुन्दर रचना.. प्रेम के उतर चढाव को अभिव्यक्त करती एक भीनी भीनी कविता..

kshama ने कहा…

Vandana! Mere to sach mano,raungate khade ho gaye!Gazab!

sada ने कहा…

कुछ यूँ
दुनिया का
क़र्ज़ उतारा जाए ...।


बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों के साथ अनुपम प्रस्‍तुति ।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 02-11-2010 मंगलवार को ली गयी है ...
कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

वंदना जी, बहुत खूबसूरत है यह ख्‍याल।


---------
मन की गति से चलें...
बूझो मेरे भाई, वृक्ष पहेली आई।

इमरान अंसारी ने कहा…

वन्दना जी,

क्या बात है .....बहुत ही खूबसूरती से लिखे है अहसास आपने.....उबाला, खौलाया, जलाया ....वाह जी वाह |

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर रचना धन्यवाद

shikha varshney ने कहा…

कविता का आखिरी पैरा बहुत जानदार है पूरी कविता को एक अलग ही स्तर देता हुआ.

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत सुंदर शब्द विन्यास है, रचना में सटीक संप्रेषण है, शुभकामनाएं.

रामराम.

रंजना ने कहा…

वाह...वाह...वाह...

और क्या कहूँ....

मन में उतर गयी यह सुन्दर रचना...

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

wah......achha kaha...

सतीश सक्सेना ने कहा…

यह कुछ कुछ अलग सी और सार्थक लगी ! हार्दिक शुभकामनायें !!

डॉ. नूतन - नीति ने कहा…

बहुत सुन्दर.. वंदना जी बधाई..

आशीष/ ਆਸ਼ੀਸ਼ / ASHISH ने कहा…

वंदना जी,
नमस्ते!
पढ़ी-लिखी कविता!
आशीष
--
पहला ख़ुमार और फिर उतरा बुखार!!!

vedvyathit ने कहा…

vndna ji aap ne bhid pr kripa drishti dali hridy se aabhari hoon yh smprk v smvad bna rhna hi bahut kuchh hai
hmari agli goshthi lgbhg27 nov ko srojni ngr me hogi vhan railway ka atithi grih hai us me aap sadr aamntrit hai aap email bhejen to soochna us pr aa jayegi mera email hai
dr.vedvyathit@gmail.com

अशोक बजाज ने कहा…

एक बार फिर
चाहतों का
जनाज़ा निकला जाय .

बात कुछ जची नहीं .

सुमन'मीत' ने कहा…

बेहद सुन्दर अभिव्यक्ति .........

एस.एम.मासूम ने कहा…

I like this andaaz e bayan.

Pyaasa Sajal ने कहा…

har pankti asar karti hai...aur had tak asar kartee hai



http://pyasasajal.blogspot.com/2010/10/blog-post.html

Razia ने कहा…

इन रूह की
सीली लकड़ियों को
बुझे चराग से
जलाया जाए
सीली लकड़ियाँ कब जलती हैं भला ...
दुनियादारी निभाने के लिये पर जलाना भी तो जरूरी है
सुन्दर भाव

Shekhar Suman ने कहा…

बहुत ही सुन्दर कविता.. अभिव्यक्तियों को अच्छे शब्द दिए हैं ...

ѕнαιя ∂я. ѕαηנαу ∂αηι ने कहा…

*चलो एक बर फ़िर किसी को चाहा जाये, ज़िन्दगी को मौत से मिलाया जाये*।
ग़मों से लबरेज़ इस कविता में कही हल्की सी उम्मीद की किरणों का बिम्ब आ जाये तो एक बेमिसाल रचना ,दुल्हन सी खिलखिलाती नज़र आयेगी।

सुरेन्द्र बहादुर सिंह " झंझट गोंडवी " ने कहा…

hriday ki vyatha hi to kavita hoti hai
bina dard ki jindgi ka kya matlab
dil se nikli hai aapki rachna

स्वाति ने कहा…

चलो अच्छा हुआ
बातें ख़त्म हुयीं
अब दुनियादारी
निभाई जाये....
बढ़िया प्रस्तुतिकरण ...

rashmi ravija ने कहा…

चलो अच्छा हुआ
बातें ख़त्म हुयीं
अब दुनियादारी
निभाई जाये

बेहद सुन्दर अभिव्यक्ति .....

M VERMA ने कहा…

एक बार
फिर से
रूह के
ज़ख्मों को
उबाला जाए
और फिर सीली लकड़ियों को बुझे चराग से जलाने की ख्वाहिश .. बहुत खूब

Kailash C Sharma ने कहा…

ज़िन्दगी के
तौर तरीकों को
ताक पर रखकर
एक बार फिर से
चाहतों का ज़नाज़ा
निकाला जाए....

बहुत ही सटीक और भावपूर्ण अभिव्यक्ति...आभार

Dorothy ने कहा…

अपने अंतर्मन की गहराईयों में दफ़्न अंतर्व्यथा के संमदर में डूबते उतराते रहने के साथ साथ अपने परिवेश के कर्जों को भी निभाने का हौसला जीवन को असाधारण बना देता है. बेहद गहन अर्थों को समेटती एक खूबसूरत और भाव प्रवण रचना. आभार.
सादर,
डोरोथी.

KARIM PATHAN Anmol ने कहा…

Vandana Ji,
Namaste.
Mere blog per aapko aane ka nyota de raha hu..
Aapse bebaak comment ki aasha rahegi.
Anmol

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत ही सुन्दर!

बेनामी ने कहा…

वंदना जी..
धन्यवाद, बहुत बहुत धन्यवाद ऐसी कालजई रचना के लिए...
मेरे लिए ये 'बच्चन' जी की "मधुशाला" जैसी सर्वांगमें रचना है...
कृपया आप अन्यथा ना लें पर अगर मैं ले सकता तो इसका कॉपी राईट ले लेता..
जिससे इसे बस मैं अपने पास ही रख लेता...
अफ़सोस है मैं ऐसा नहीं लिख सका.. पर किसी ने तो लिखा.. :)
मेरे लिए अतुलनीय काव्य....