अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

सोमवार, 16 अगस्त 2010

बस इतना वादा करती जाओ................

हर जन्म
जब भी मिलीं 
मेरी ना हुयीं
हर बार
मिलकर भी 
ना मिलीं
अब एक वादा
करती जाओ
अगले जन्म
की आस को
कुछ तो
संबल 
देती जाओ 
मेरी 
चिर प्रतीक्षित 
प्यास को
अपने वादे के 
अमृत से 
सींचती जाओ
इस बुझते 
दिए की
टिमटिमाती 
लौ को
अपनी स्वीकृति
की छाप से 
भिगोती जाओ
अगले किसी जन्म
जब भी मिलोगी
सिर्फ मेरी 
बनकर मिलोगी
बस इतना 
वादा करती जाओ ............

52 टिप्‍पणियां:

राजेश उत्‍साही ने कहा…

सुबह सुबह आपकी यह कविता पढ़कर जवाब में बरबस ही शैलेन्‍द्र का यह गीत याद आ गया-

जीना यहां,
मरना यहां
इसके सिवाय
जाना कहां।
अगर दार्शनिकता की बात करें तो अगले और पिछले जन्‍म कौन देखकर आता है। होते भी हैं कि नहीं। और अगर होते हैं तो रिश्‍ता केवल आत्‍मा का होता है। आत्‍मा कभी एक शरीर में नहीं रहती। शरीर का चोला तो बदलती ही रहती है। अगर यह मान लें तो फिर आत्‍मा से बने रिश्‍ते कभी नही टूटते। इसलिए यह आग्रह बेमानी है कि कोई वादा किया जाए।

वाणी गीत ने कहा…

इतनी खूबसूरत अपील किससे की जा रही है ...
सुन्दर कविता ...!

संजय भास्कर ने कहा…

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आपका हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ.

संजय भास्कर ने कहा…

कुछ शीतल सी ताजगी का अहसास करा गई आपकी रचना।

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

बढ़िया अभिव्यक्ति...सुंदर रचना के लिए आभार

मेरे भाव ने कहा…

अगले किसी जन्म
जब भी मिलोगी
सिर्फ मेरी
बनकर मिलोगी
बस इतना
वादा करती जाओ ............
bahut sunder bhav! sachhe prem ki charam sthiti

arun c roy ने कहा…

मेरी
चिर प्रतीक्षित
प्यास को
"अपने वादे के
अमृत से
सींचती जाओ
इस बुझते
दिए की
टिमटिमाती
लौ को
अपनी स्वीकृति
की छाप से
भिगोती जाओ.."
alaukik prem ki alaukik kavita ! sunder

sanu shukla ने कहा…

जब भी मिलोगी
सिर्फ मेरी
बनकर मिलोगी
बस इतना
वादा करती जाओ ............

बेहतरीन रचना.!!

ana ने कहा…

shabda vyanjana ati sundar.......badhai

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

pyar ho to aisa.........:)

bhawpurn rachna..........

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

shandaar rachna!

Shah Nawaz ने कहा…

अच्छी रचना....... बहुत खूब!

देवेश प्रताप ने कहा…

बहुत खूब .......सुन्दर रचना ..

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

अरी भई यह गुज़ारिश किससे ? :):)
सुन्दर अभिव्यक्ति

abhi ने कहा…

khoobsurat...bahut sundar :)

शहरयार ने कहा…

अच्छा लिखा है आपने!

मेरा ब्लॉग
खूबसूरत, लेकिन पराई युवती को निहारने से बचें
http://iamsheheryar.blogspot.com/2010/08/blog-post_16.html

Arvind Mishra ने कहा…

आशा और विश्वास की ताकत को बल देती प्रस्तुति !

रश्मि प्रभा... ने कहा…

khoobsurat manuhaar

PKSingh ने कहा…

bahut sundar..

shikha varshney ने कहा…

क्या इसरार है बहुत सुन्दर.

Shikha Deepak ने कहा…

मेरी
चिर प्रतीक्षित
प्यास को
अपने वादे के
अमृत से
सींचती जाओ
इस बुझते
दिए की
टिमटिमाती
लौ को
अपनी स्वीकृति
की छाप से
भिगोती जाओ
.....सुंदर पंक्तियाँ
................सरल शब्दों में लिखी हुई सुंदर रचना।

ज्योति सिंह ने कहा…

aapki rachna ke saath rajesh ji ki baate bhi prabhavshali rahi ,ati sundar ,bahar rahi kal aai is karan der ho gayi ,aazadi ki barshganth par dhero badhai .vande matram .

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

प्रेम और वियोग रस का मिश्रण करती अति सुन्दर रचना, वंदना जी !

sada ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ।

Coral ने कहा…

सुन्दर रचना!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

प्रेम की स्थायी अनुभूति।

nilesh mathur ने कहा…

बहुत सुन्दर !

mohan ने कहा…

ये राजेश उत्साही कौन है जबरन का भाषण झाड़ता रहता है.इसे कोई समझाओ भाइयों कि हम ब्लागर लोग अपनी प्रशंसा ही सुन सकते हैं किसी के सुझाव पर हमें यकीन नहीं है
वाह-वाह वाह क्या रचना है आपकी

Sonal Rastogi ने कहा…

surili rachnaa gunguna rahi hoon

Akhtar Khan Akela ने कहा…

vndnaa bhn apni ummid ko jis andaaz men pesh ki he vaaqyi bhut khub mzaa aa gyaa . akhtar khan akela kota rajsthan .

Shekhar Suman ने कहा…

bahut hi khubsurat rachna...
ummed hai aap isi tarah likhti rahengi...
mere blog par is baar
राष्ट्रीय ध्वज का महत्व...

रानीविशाल ने कहा…

Viyog ke dard ka vilakshan varanan kiaya aapane is kavita me ....bahut sundar.

मनोज कुमार ने कहा…

यही तो एक आस है जो जिलाए रखती है।

शहरोज़ ने कहा…

क्या बात है !! सुन्दर रचना !
हमज़बान का लिंक तो अपने यहाँ दें ख़ुशी होगी! अपन तो बहुत पहले आपको शामिल कर चुके हैं.

हमज़बान यानी समय के सच का साझीदार
पर ज़रूर पढ़ें:
काशी दिखाई दे कभी काबा दिखाई दे
http://hamzabaan.blogspot.com/2010/08/blog-post_16.html

राजभाषा हिंदी ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति!


“कोई देश विदेशी भाषा के द्वारा न तो उन्नति कर सकता है और ना ही राष्ट्रीय भावना की अभिव्यक्ति।”

manu sharma ने कहा…

bahut khub likha aap ne. aur mujhe maaf ki jiyega ki mein aap ke sath 16 august ko charcha mein shamil na ho saki.

निर्मला कपिला ने कहा…

जब भी मिलोगी
सिर्फ मेरी
बनकर मिलोगी
बस इतना
वादा करती जाओ ...
सुन्दर और सही इसरार है। अच्छी लगी रचना बधाई।

इमरान अंसारी ने कहा…

बहुत खूब वंदना जी, लफ्जों की बयानी अच्छी लगी | एक सवाल अगर आप बुरा न माने तो मैं आपके एक ब्लॉग को फॉलो करता हूँ | जिनगी ...एक खामोश सफ़र ....आपकी रचनाये अच्छी लगती हैं, लफ्जों पर आपकी पकड़ अच्छी है...जो आपकी अच्छी शिक्षा की और इशारा करती है....पर इसके अलावा आपके शायद २ या ३ ब्लॉग और हैं .....मेरा सवाल है की आपके ३ ब्लॉग मैंने देखे हैं ...जिसमे आपकी रचनाये लगभग एक जैसी ही होती हैं, मेरा मतलब ब्लॉग की पोस्ट के विषय से नहीं है .....मर्म लगभग एक जैसा है .....ये साड़ी रचनाये आप एक ही ब्लॉग पर भी लिख सकती हैं.....फिर इतने ब्लॉग क्यूँ?

Parul ने कहा…

gujarish jis kisi se bhi ho..koi inkaar na karega/karegi :)..so beautiful!

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

अगले किसी जन्म
जब भी मिलोगी
सिर्फ मेरी
बनकर मिलोगी
बस इतना
वादा करती जाओ
...इसके आगे क्या कहें...शानदार कविता..बधाई.
_________________________
'शब्द-शिखर' पर प्रस्तुति सबसे बड़ा दान है देहदान, नेत्रदान

डॉ टी एस दराल ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति ।
बस पहले इस जन्म में तो साथ निभा लें ।

Majaal ने कहा…

इतने जन्मो से,
न मिल रही जो,
कुछ तो कारण रहा होगा.
अगले में न टालो,
इसी जन्म में पता लगाओ!
कोशिश करते रहो 'मजाल',
गुत्थी सुलझाओ!

Majaal ने कहा…

इतने जन्मो से,
न मिल रही जो,
कुछ तो कारण रहा होगा.
अगले में न टालो,
इसी जन्म में पता लगाओ!
कोशिश करते रहो 'मजाल',
गुत्थी सुलझाओ!

vikram7 ने कहा…

अगले किसी जन्म
जब भी मिलोगी
सिर्फ मेरी
बनकर मिलोगी
बस इतना
वादा करती जाओ
ati sundar kavita

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

शानदार रचना के लिये बधाई.

रामराम.

Anand ने कहा…

padhne likhne vaale bache bahut ache lagte hai mujhe...:)

bahut dur tak sochte hai aapke sabd

achhi rachna

kavyalok.com

Please visit, register, give your post and comments.

Rajendra Swarnkar ने कहा…

आदरणीया वंदना जी
नमस्कार !
मौन - शिष्ट प्रेम की इतनी सुंदर अभिव्यक्ति के लिए बहुत बहुत बधाई और आभार स्वीकार करें ।

जब भी मिलीं , मेरी न हुई
प्रेम है , कामना है !
लेकिन साथ ही शालीनता भी है , धैर्य भी है ! … और प्रिय पर विश्वास भी है ।

मुझ जैसा तो अधीर हो'कर कह देता है -

किताबे - आसमानी में लिखी क़िस्मत नहीं मिटती
तुम्हें मेरा नहीं लिक्खा तो अब रद्दोबदल होगी



शस्वरं पर आपकी प्रतीक्षा है , आइए…

सादर शुभकामनाओं सहित …
- राजेन्द्र स्वर्णकार
शस्वरं

दीपक 'मशाल' ने कहा…

:) कई साल पहले एक कविता लिखी थी मैम.. थी तो छोटी लेकिन काफी कुछ यही भाव लिए हुए.. इसे पढ़ कर वो कविता फिर याद आगई.. देखिएगा..
शीर्षक था मजबूरियाँ..
ऐ!!!
कुछ कहना था तुमसे
है तो कुछ ख़ास नहीं
मगर फिर भी इतना कहना है कि
अगले जनम में जब भी आओ
इतनी मजबूरियाँ लेके मत आना
कि हम मिल के भी ना मिल सकें
तुम्हें देख कर भी ना देखा सकें..
कुछ कह कर भी ना कह सकें..
तुम्हें अपना कर भी ना अपना सकें
समझ कर भी ना समझ सकें
और हम एक दूजे को
चाह कर भी ना चाह सकें..

शब्दों और भावों का उत्तम संग्रह दिखा

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत खूब .. वैसे तो हमारी पद्धति में ७ जन्मों का वादा होता है .... पर दूरसे जान में मिलने का वादा .... बाबूत खूब लिखा है ...

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

VANDANA JI

prem ki maun abhivyakti ko aapne bahut hi acche dhang se pesh ki ya hai .

badhayi

PN Subramanian ने कहा…

किसी ने पूछा है की इतनी खूबसूरत अपील किससे की जा रही है. मेरा तो जवाब होगा, कुदरत से. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति. आभार.

सर्वत एम० ने कहा…

सबसे पहले स्वाधीनता दिवस की बासी और रक्षा बंधन की एडवांस शुभकामना.
फिर क्षमा क्योंकि बहुत लम्बे समय बाद आ सका हूँ आपके ब्लॉग तक, मेरा ख्याल है, माफी मिल ही जाएगी.
कविता के बारे में क्या कहूं, शब्द जैसे खो गए हों. उत्साही जी ने अपने कमेन्ट में, बाकी लोगों ने अपने शब्दों में जो तारीफें की हैं, उन सबके बाद मेरे लिए शायद कुछ कहने को बचा ही नहीं. सार्थक और जीवंत लिखा आपने और यही तो आपके लेखन की विशेषताहै.