अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

रविवार, 21 मार्च 2010

गर प्यार से छू ले

आज भी 
सिहर जाए 
रोम रोम
गर तू
प्यार से 
छू ले मुझे
आज भी
डूब जाऊँ 
नैनों की 
मदिरा में
 गर तू
नज़र भर 
देख ले मुझे
आज भी 
बंध  जाऊँ
बाहुपाश में तेरे
 गर तू
स्नेहमय निमंत्रण दे 
उर स्पन्दनहीन
नहीं है
बस नेह जल के 
अभाव में
बंजर हो गया है

33 टिप्‍पणियां:

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत ही सुंदर रचना और उतने ही सुंदर भाव.

रामराम.

दीपक 'मशाल' ने कहा…

Aapki kavitaaon ki ek alag hi khoobsurat pahichan ho gayi hai.. shabdon me lay aur tartamyata dekhte banti hai.
kahin bhi likhi ho to ek bar dekh kar andaza jaroor lag jayega ki aapka hi likha hai.. ek aur sundar kavita moti ke liye aabhar..

sangeeta swarup ने कहा…

कोमल एहसासों को खूबसूरती से लिखा है...नेह का बादल बरसेगा...

शुभकामनायें

Shikha Deepak ने कहा…

उर स्पन्दनहीन
नहीं है
बस नेह जल के
अभाव में
बंजर हो गया है

अति सुंदर !!!!!!!!!

अजय कुमार झा ने कहा…

कविता की अंतिम पंक्तियां ..बेहद खूबसूरत हैं ....बहुत ही सुंदर कविता
अजय कुमार झा

vinay ने कहा…

सुन्दर रचना,और मेरी शतकिय पोस्ट पर टिप्पणी देने के लिये ध्न्यवाद ।

संजय भास्कर ने कहा…

कई रंगों को समेटे एक खूबसूरत भाव दर्शाती बढ़िया कविता...बधाई

M VERMA ने कहा…

उर स्पन्दनहीन
नहीं है
बस नेह जल के
अभाव में
बंजर हो गया है
बहुत कोमल और कमनीय भाव और एहसास
क्या खूब लिखा है

सुशीला पुरी ने कहा…

बहुत भाऊक होके लिखा अपने

रश्मि प्रभा... ने कहा…

bahut hi pyaare se bhaw

मनोज कुमार ने कहा…

आशावादिता से भरपूर स्वर इस कविता में मुखरित हुए हैं।

देवेश प्रताप ने कहा…

सुन्दर भाव मन से प्रस्तुत किया है आपने इस रचना ......बहुत खूब

योगेश स्वप्न ने कहा…

ur spandan heen nahin hai....................banjar ho gaya hai.

behatareen abhivyakti. wah.

kshama ने कहा…

Bahut khoob...mere paas alfaaz nahi...

vikas ने कहा…

शब्दों का सुन्दर संकलन,बहुत ही अच्छी पक्तियां .

VIKAS PANDEY

WWW.VICHAROKADARPAN.BLOGSPOT.COM

Apanatva ने कहा…

bahut sunder abhivykti apane sunder bhavo kee.........

नीरज गोस्वामी ने कहा…

उर स्पंदन हीन
नहीं है
बस नेह जल के
अभाव में
बंजर हो गया है...


वाह वाह वाह वंदना जी वाह...अद्भुत पंक्तियाँ...मेरी बधाई स्वीकार करें...
नीरज

Babli ने कहा…

बेहद ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना प्रस्तुत किया है आपने!

sidheshwer ने कहा…

कव्यों के उर से
कभी न सूखे नेह का जल
यही कामना
पल - प्रतिपल

Dr. Amarjeet Kaunke ने कहा…

bahut hi khooobsurat ahsaaas....ham kitna intzaar karte hain aur kaise kaise sapne dekhte hain ...un ke liye jo kabhi laut kar nahi aate.........

दिगम्बर नासवा ने कहा…

उर स्पन्दनहीन
नहीं है
बस नेह जल के
अभाव में
बंजर हो गया है ..

वाह .. बहुत खूबलिखा है ... नेह की वर्षा में कलियाँ फिर खिल उठेंगी ... तू कोशिश तो कर ...

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

इस विषय पर तो मुझसे कुछ नहीं कहा जायेगा वंदना जी ......!!

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

उर स्पन्दनहीन
नहीं है
बस नेह जल के
अभाव में
बंजर हो गया है
बहुत सुन्दर कविता है वंदना जी. बधाई.

भूतनाथ ने कहा…

kabhi-kabhi bahut jyada bdhiya likh deta है....tab भी तो samajh nahin ata ki kya kahen.....उफ़ kahe तो kya kahen.....!!

हिमांशु । Himanshu ने कहा…

कोमलतम अनुभूतियाँ ऐसे सज जाती हैं अभिव्यक्ति में कि पूछिए मत !
सुन्दर रचना, आभार ।

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

achhi rachna hai ji...saadhuwad..

CS Devendra K Sharma ने कहा…

apki kavita padhkar yaad aata hai vo gaalib sahib ka kehna ki "yu hota to kya hota"!!!

sunder rachna

आशीष/ ASHISH ने कहा…

Kya baat hai!
Behad romani, samvedansheel aur khoobsoorat!
Ur spandanheen nahin hai
Bas neh jal ke abhav mein
Banjar ho gaya hai....
Bahut ras liya maine!
Shubhkamnaen!

Kulwant Happy ने कहा…

अति सुंदर रचना।

mahaboob aftab ने कहा…

हिन्दी जगत को इन खऊबसूरत अह्सासोँ से नवाजने के लिए बहुत बहुत बधाइयाँ

सागर ने कहा…

kavita wakai behad khubsurat hai... padhkar kaafi aanand aaya...

ajib vidambna hai dard bhare geet zyada aanand dete hain!!!!!

Umesh Pathak / उमेश पाठक ने कहा…

कमाल है ! अद्भुत भावभरी रचना !
जब हम जुदा हुए थे रात बाकि थी,
उम्र कट गयी सारी,मगर रात बाकी है !

Parul ने कहा…

vandna ji bahut sundar!