अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 4 मार्च 2010

तेरी ख़ामोशी

तेरी ख़ामोशी
जब बातें करती है
मुझसे
बस वहीं धडकनें
रूक जाती हैं
जो तुझसे
नहीं कह पातीं
वो अफसाने
मेरे कानो में
बयां कर जाती हैं
कभी तेरा
तितलियों सा
उड़ना
कभी तूफ़ान सा
मचलना
कभी खग सदृश
आकाश में उड़ना
कभी यादों के
कटहरे में
सजायाफ्ता
मुजरिम सा
खामोश ठहर जाना
कभी मेघों सा
गरजना
कभी वेणी में गुंथे
पुष्पों सा महकना
और फिर कभी- कभी
कांच की तरह टूटे
ख्वाबों सा तेरा टूटना
कभी किसी
रुके दरिया सा
ख़ामोशी का सन्नाटा
कभी आँख से गिरे
अश्क सा मिटटी
में मिल जाना
तेरे हर पल
हर लम्हे की
दास्ताँ सुना जाती हैं
तेरी ख़ामोशी मुझे
बता फिर कैसे
कोई जिंदा रहे
और धडकनों की
आवाज़ सुने

40 टिप्‍पणियां:

shikha varshney ने कहा…

waah bhaut hi khubsurat...bahut sundarta se abhivyakt kia hai aapne ahsason ko.

limty khare ने कहा…

sach bat hai khamoshi he khamoshi ke sath bahut kuch kah jate hai. . . . ik bahut aache kavita ke liye dher sari badhai

Mithilesh dubey ने कहा…

क्या बात है , बहुत खूब लिखा है आपने , लाजवाब अभिव्यक्ति लगी , शब्दो का संयोजन भी काबिले तारिफ रहा ।

यशवन्त मेहता "फ़कीरा" ने कहा…

jab ham khamosh hote hei to ankhen bat karti hei......khamoshi sab kuch keh jati hei...achi lagi kavita

राकेश कौशिक ने कहा…

"तेरे हर पल
हर लम्हे की
दास्ताँ सुना जाती हैं
तेरी ख़ामोशी मुझे
बता फिर कैसे
कोई जिंदा रहे"
वाह वाह - पता नहीं "तेरी ख़ामोशी" जैसे कितने नगीने संजोये रखे हैं आपने अपने "कविता-खजाने" में - शानदार कविता के लिए बधाई.

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) ने कहा…

सच में वंदना जी अंतस से अंतस का भाव समझने की योग्यता तभी आ सकती है ,, जव द्वैत होते हुए भी दो जान एकिकार हो ,,,मिलन की महत्ता समेटे अद्भुद रचना
सादर
प्रवीण पथिक
9971969084

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) ने कहा…

सच में वंदना जी अंतस से अंतस का भाव समझने की योग्यता तभी आ सकती है ,, जव द्वैत होते हुए भी दो जान एकिकार हो ,,,मिलन की महत्ता समेटे अद्भुद रचना
सादर
प्रवीण पथिक
9971969084

Udan Tashtari ने कहा…

वाह वाह!! बहुत बेहतरीन खामोशी की जुबां.

kshama ने कहा…

Khamoshi itna kuchh kah sakti hai to samvedansheel manhi use sun sakta hai!

M VERMA ने कहा…

खामोशी जब कहती है तो बहुत कुछ कहती है.
सुन्दर भाव

Kusum Thakur ने कहा…

बहुत ही सहज रूप में शब्दों को पिरोया है ....लाजवाब अभिव्यक्ति है !!

Aparajita ने कहा…

CONGRATES VANDANA...
bahut sundar rachna....sundar abhivyakti.....shabdo ka sundar samanvay......sach hi kaha kisi ne SILENCE SPEAKS MORE THEN WORDS.....
tumhari is rachna ne in shabdo ko sabit kar dia...congrates again...

आनन्द वर्धन ओझा ने कहा…

शानदार शब्द-संयोजन और उसमे अनुस्यूत भाव अपना व्यापक प्रभाव छोड़ते हुए.... वंदनाजी, एक अच्छी रचना पाठक से स्वयं संवाद करती है खामोशी से... ! आभार !!
साभिवादन--आ.

ktheLeo ने कहा…

बता फिर कैसे
कोई जिंदा रहे
और धडकनों की
आवाज़ सुने

वाह!

योगेश स्वप्न ने कहा…

bata phir kaise koi zinda rahe, aur dhadkanon ki awaz sune. wah kya baat hai, vandana ji , bahut sade shabdon men ..............wah.

महफूज़ अली ने कहा…

लाजवाब अभिव्यक्ति के साथ.... बहुत सुंदर रचना....

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

...सुन्दर भाव ...सुन्दर रचना ...खूबसूरत अभिव्यक्ति!!!

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

बेहतरीन भाव को प्रस्तुत करने में कोई कमी नही की आपने..जितने सुंदर भाव उससे बढ़ कर सुंदर शब्द जो भाव को रूप दिए है....कविता बहुत अच्छी लगी..बधाई

Babli ने कहा…

बहुत ही सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने उम्दा रचना प्रस्तुत किया है! बेहद पसंद आया!

दीपक 'मशाल' ने कहा…

Vandna ji behatreen lagi ye kavita bhi.. aapki lekhni me paripakvata aa chuki hai, kyonki prem kavitayen lekhnee ko dhaar dene ka kaam karti hain ab is dhardar qalam ko anya samvednayon, darshan aur samaz par chalaiye.. :)

सुमन'मीत' ने कहा…

वन्दना जी
आपने तो खामोशी की परिभाषा ही बयां कर दी बहुत सुन्दर रचना
सुमन’मीत’

sangeeta swarup ने कहा…

तेरी खामोशी
जब बातें करती है
तो ना जाने क्या क्या कह देती है....बहुत खूबसूरती से धडकनों को बुना है ....सुन्दर अभिव्यक्ति

vikas ने कहा…

bahut hi khoobsurat rachna,kabhi kabhi khamoshee bhi bahut kuchh kah jaati hai,,

VIKAS PANDEY

http://vicharokadarpan.blogspot.com/

Apanatva ने कहा…

atulneey abhivykti.

RaniVishal ने कहा…

Waah! bahut hi sundar behad dilkash khamoshi ke rup bayaan kiye aapne pad kar mugdh ho gae ...Aabhar!!
http://kavyamanjusha.blogspot.com/

हिमांशु । Himanshu ने कहा…

बेहद खूबसूरत कविता !
खामोशी स्वयं में एक अभिव्यक्ति है, जिसमें पिरोया है सब कुछ !
आभार ।

RaniVishal ने कहा…

Behad sundar Abhivyakti hai....!!
Aapko pahale bhi comment ka try kiya tha lekin ho nahi paya ...yakin maniye bahana nahi hai:)
http://kavyamanjusha.blogspot.com/

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत लाजवाब रचना.

रामराम.

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

बहुत खूब बेहतरीन लिखा है आपने ख़ामोशी की भी अपनी एक अदा है शुक्रिया

रश्मि प्रभा... ने कहा…

chalo sunte hain dhadkanon ko
jo tham gai hai baat dil tak
uske raaj kholen

प्रीति टेलर ने कहा…

khamoshi kitni saari juban jaanti hai!!!!!!!!!!!!!
bahut khub !!!!badhaai ....

नरेन्द्र व्यास ने कहा…

"तेरी ख़ामोशी
जब बातें करती है
मुझसे
बस वहीं धडकनें
रूक जाती हैं
जो तुझसे
नहीं कह पातीं
वो अफसाने
मेरे कानो में
बयां कर जाती हैं..."
खामोशी के बहुत सुन्दर उपमान पेश किये हैं...एक उम्दा रचना। आभार!!

'अदा' ने कहा…

bahut pasand aayi aapki khamoshi ki aawaaz..
sundar si kavita hai ye..

'अदा' ने कहा…

bahut pasand aayi aapki khamoshi ki aawaaz..
sundar si kavita hai ye..

abhyushit ने कहा…

सुंदर रचना, आपको बधाई

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सच है खामोशी की ज़ुबान होती है ... सन्नाटे में भी उनकी चीख सुनाई देती है ... अच्छा लिखा है बहुत ही ...

manav vikash vigyan aur adytam ने कहा…

teri khamosee bahoot khoob rahi

रवि धवन ने कहा…

.

Kulwant Happy ने कहा…

काफी गहरे विचार। बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति

परमजीत बाली ने कहा…

बहुत सुन्दर लिखा है...

कभी किसी
रुके दरिया सा
ख़ामोशी का सन्नाटा
कभी आँख से गिरे
अश्क सा मिटटी
में मिल जाना
तेरे हर पल
हर लम्हे की
दास्ताँ सुना जाती हैं