अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 20 नवंबर 2010

वो ही पुरातन भारतीय नारी हूँ

चाहे शोषित  करे कोई 
चाहे उपेक्षित भी होती हूँ 
मगर मन के धरातल पर
डटकर खडी रहती हूँ
संस्कारों की वेणी में जकड़ी

मन से तो मैं आज भी वही
पुरातन भारतीय नारी हूँ 


चाहे मानक रोज नए बनाती हूँ
अपनी सत्ता का आभास कराती हूँ 
मगर मन की अतल गहराइयों से तो
आज भी १८वीं  सदी की नारी हूँ 


चाहे आसमां को छू आऊँ 
अन्तरिक्ष में उड़ान भर आऊँ
पर पैर जमीन पर ही रखती हूँ 
अपने मूल्यों की थाती को 
ना ताक पर रखती हूँ
चाहे विचारों में समरसता हो 
चाहे भावों में एकरसता हो
मित्रता के आयाम बनाती हूँ
पर पुरुष मन में उठे भावों की
गंध पहचानती हूँ इसीलिए 
पर पुरुष की छाया का 
ख्वाबों में भी प्रवेश वर्जित है 
मैं ऐसी संस्कारों में जकड़ी नारी हूँ


चाहे कितनी आधुनिक कहलाती हूँ 
अधिकारों के लिए दुनिया से लड़ जाती हूँ
उन्मुक्तता , स्वतंत्रता मेरे अधिकार हैं
स्वच्छंद हवा में विचरण करना मेरी नियति है
मगर उसका दुरूपयोग कभी ना करती हूँ
अधिकारों के साथ अपने कर्तव्यों 
को भी खूब समझती हूँ 
तभी तो  मन से आज भी 
अपनी जड़ों से जुडी नारी हूँ


वक्त पड़ने पर 
दृढ संकल्प शक्ति 
की बदौलत
चाहे दुर्गा बन जाऊँ
काली सा संहार करूँ 
लक्ष्मीबाई सी लड़ जाऊँ
मगर फिर भी मुझमें  बसती 
वो ही पुरातन नारी है 

जो बीज रोपित किये थे सदियों ने 
उन्ही से पोषित होती हूँ
इसीलिए कभी भी अपनी 
संस्कारों की ज़मीन नहीं खोती हूँ 
मैं आज भी संस्कारों के 
बीज रोपती हूँ  और 
संस्कारों की फसल उगाती हूँ
क्योंकि आज भी मन से तो मैं
वो ही पुरातन भारतीय नारी हूँ

57 टिप्‍पणियां:

Sunil Kumar ने कहा…

"संस्कारों की फसल उगाती, क्या बात है सुंदर रचना बधाई

केवल राम ने कहा…

अधिकारों के साथ अपने कर्तव्यों
को भी खूब समझती हूँ
तभी तो मन से आज भी
अपनी जड़ों से जुडी नारी हूँ
इस कविता का हर एक लफ्ज नए आयाम स्थापित करता है ...नारी मन की स्थिति को बखूबी अभिव्यक्त किया है ..नारी के मन में उठने वाले है हर एक भाव को सुंदर तरीके सामने रखा है , कुल मिलाकर पूरी कविता नारी केन्द्रित है, और खुद को १८ वीं सदी का कहना थोडा अटपटा लगा ..क्यूंकि तब की और अब की नारी की स्थिति में बहुत अंतर है हर एक स्तर पर ..कुछ अपवादों को छोड़ कर ...शुभकामनायें

संजय भास्कर ने कहा…

आपके लेखन ने इसे जानदार और शानदार बना दिया है....

मनोज कुमार ने कहा…

माला के मोती की तरह गुथे हुए विचारों से बनी कविता अक ही रौ में लिखी गई है। रचना और उसके प्रभाव को अक्षुण्ण रखना आपको विशिष्ट कवियों की श्रेणी में ला खड़ा करता है। कविता में संवेदना का विस्तार व्यापक रूप से परखा जा सकता है। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
फ़ुरसत में .... सामा-चकेवा
विचार-शिक्षा

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

भारतीय संस्कृति और सभ्यता को साथ लेकर चलना भारतीयता के लक्षण है और भारत की नारी अगर इस विचार पर अटल रहे तो पश्चिम की सभ्यता कभी भारत पर हावी नही हो सकती है...बेहद उम्दा रचना लिखी है आपने...इस सुंदर विचार से परिपूर्ण भावपूर्ण रचना के लिए बहुत बहुत बधाई

deepak saini ने कहा…

भारतीय नारी का सटीक चित्रण
सुन्दर कविता

ZEAL ने कहा…

.

पर पैर जमीन पर ही रखती हूँ....

बेहतरीन रचना वंदना जी, आभार।

.

इमरान अंसारी ने कहा…

वन्दना जी,

बहुत ही सुन्दर रचना...वाह...आधुनिकता की अंधी दौड़ में खोये हुए संसार को ये बताया है आपने की संस्कारों का मूल्य क्या होता है......ये पंक्तियाँ बहुत अच्छी बन पड़ी हैं......उम्मीद है की आज की लड़कियां इन से कुछ सिख सकें.....शुभकामनायें....

"चाहे कितनी आधुनिक कहलाती हूँ
अधिकारों के लिए दुनिया से लड़ जाती हूँ
उन्मुक्तता , स्वतंत्रता मेरे अधिकार हैं
स्वच्छंद हवा में विचरण करना मेरी नियति है
मगर उसका दुरूपयोग कभी ना करती हूँ
अधिकारों के साथ अपने कर्तव्यों
को भी खूब समझती हूँ
तभी तो मन से आज भी
अपनी जड़ों से जुडी नारी हूँ"

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत खूबसूरती से भारतीय नारी की परम्पराओं को कह दिया है ....बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

सच बदलाव भले ही आये हों पर आज भी कुछ बातें नहीं बदली हैं.....बहुत सुंदर और प्रासंगिक पंक्तियाँ .....

M VERMA ने कहा…

संस्कारित होना पुरातनता तो नहीं होना.
और अगर है तो पुरातन होना ही श्रेयस्कर है ..
सुन्दर अभिव्यक्ति दी है आपने

प्रेम सरोवर ने कहा…

Ek lambe arse se chali aa rahi bharatiya nari ka swarup samay ke sath kuchh badala badala sa lagata hai kintu Aaj bhi har nari ko bahartiya nari ke rup mein hi dekha jata hai.Chhayavadi kavi swargiy Jaishankar prasad ji ne likha hai-
Nari tum keval shradha ho,
vishwas rajat nag pag tal mein,
piyush shrot si baha karo
Jivan ke suadar samatal mein. Badhai.Plz. visit my blog.

प्रेम सरोवर ने कहा…

Ek lambe arse se chali aa rahi bharatiya nari ka swarup samay ke sath kuchh badala badala sa lagata hai kintu Aaj bhi har nari ko bahartiya nari ke rup mein hi dekha jata hai.Chhayavadi kavi swargiy Jaishankar prasad ji ne likha hai-
Nari tum keval shradha ho,
vishwas rajat nag pag tal mein,
piyush shrot si baha karo
Jivan ke suadar samatal mein. Badhai.Plz. visit my blog.

प्रेम सरोवर ने कहा…

Ek lambe arse se chali aa rahi bharatiya nari ka swarup samay ke sath kuchh badala badala sa lagata hai kintu Aaj bhi har nari ko bahartiya nari ke rup mein hi dekha jata hai.Chhayavadi kavi swargiy Jaishankar prasad ji ne likha hai-
Nari tum keval shradha ho,
vishwas rajat nag pag tal mein,
piyush shrot si baha karo
Jivan ke suadar samatal mein. Badhai.Plz. visit my blog.

sumit das ने कहा…

aapne ne likha hai nari par jo hamare aas paas har rup mai aapne kavita mai har rupo ka chitrad kiya hai behad shandaar

sumit das ने कहा…

bahut shandaar prastuti

राजेश उत्‍साही ने कहा…

माफ करें वंदना जी। बहुत उलझे हुए विचार हैं। लगता है आप तय ही नहीं कर पा रही हैं कि आप किस युग की नारी हैं। अपने आपको 18 वीं सदी की नारी कहना सचमुच में अटपटा लगता है। सच तो यह कि आप चाहकर भी 18 वीं सदी की नहीं बन सकतीं।
अपनी पूरी कविता को पढ़ें और फिर से सोचें कि आप कहना क्‍या चाहती हैं।

ashish ने कहा…

सुन्दर भाव वाली कविता . प्रथम पंक्ति में "शोषित करे कोई " की जगह शायद शोषण होना चहिये . आभार सुन्दर कविता के लिए .

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

वंदना जी,
नारी की सच्चाई यही है, वह अपनी जमीन से हमशा जुड़ी रहती है. वह सीता भी है तो दुर्गा भी है. अगर उसके दोनों रूप न होते तो ये सृष्टि रसातल में चली गयी होती . नारी में बसे संस्कार और गरिमा कब की ख़त्म हो गयी होती या फिर उसके अस्तित्व को ख़त्म कर दिया गया होता. इन सभी गुणों के समावेश से जो नारी है वही प्रशंसनीय है.
बहुत खूब लिखा है आपने.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

आज ऐसी ही बारतीय नारी की अपेक्षा है समाज को ... बहुत अछा लिखा है ....

Kajal Kumar ने कहा…

धुरंधर नारीवादी रूष्ट हो सकते हैं...

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

kya kahen! aapka lekhan nari man ki kahin to vedna hai to wahin doosri aor nari shakti ka chitrankan karta hua ek bahuayami
aandolan .
samarth lekhni aur sarthak lekhan
dono sarahniy hain.

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

बहुत सुंदर भाव। बधाई।

---------
मैं अभी तक तो स्‍वयं को शाकाहारी मानता रहा था, पर इस लेख को पढ़कर मेरी चूलें हिल गयी हैं।

'उदय' ने कहा…

... prasanshaneey rachanaa ... badhaai !!!

रचना ने कहा…

good poem

"अभियान भारतीय" ने कहा…

अधिकारों के साथ अपने कर्तव्यों
को भी खूब समझती हूँ
तभी तो मन से आज भी
अपनी जड़ों से जुडी नारी हूँ

इन पंक्तियों ने बेहद प्रभावित किया........
हमेशा की तरह सार्थक एवं प्रभावी रचना के लिए बधाई |

Tarkeshwar Giri ने कहा…

ऐसी नारियों को मेरा सत-सत नमन.

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

बहुत सुन्दर वन्दना जी ! रचना की कुछ लायिने कोट करना चाह्ता था मगर आपका ब्लोग प्रमिट नही करता !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

संस्कार में पुरातन, श्रेष्ठता में गार्गीसम।

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

पुरातन होने को नया सन्दर्भ और अर्थ देती कविता... पुरातन होने को सांस्कृतिक महत्व दे रही है आपकी कविता.. आधुनिक नारी भी पुरातन हो सकती है और पुरातन नारी भी आधुनिक.. आपकी कविता एक नई समझ दे रही है...

abhi ने कहा…

यही तो खासियत है,
भारतीय नारी आधुनिक भी है और पारंपरिक भी :)

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

शोषित भी होती हूँ
उपेक्षित भी होती हूँ
मगर मन के धरातल पर
डटकर खडी रहती हूँ
संस्कारों की वेणी में जकड़ी
मन से तो मैं आज भी वही
पुरातन भारतीय नारी हूँ
--
यही तो विशेषता है
कल की अबला आज की साहसी
भारतीय नारी की!

सुमन'मीत' ने कहा…

अति सुन्दर............

kshama ने कहा…

Sanskaron kee fasal ugane waali naaree hee to shaktishaalee hai!
Vandana bahut sundar rachana hai!

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

यही सच सदा भारतीय नारी के साथ जुडा रहेगा.
सुंदर रचना.

अशोक बजाज ने कहा…

कार्तिक पूर्णिमा एवं प्रकाश उत्सव की आपको बहुत बहुत बधाई !

दीप्ति शर्मा ने कहा…

bahut sunder rachna

www.deepti09sharma.blogspot.com

muskan ने कहा…

Bahut Khubsurat rachna

क्षितिजा .... ने कहा…

खूबसूरत रचना वंदना जी ... आज चाहेई महिलाएं आधुनिक हो गयी है .. पर अपने संस्कार नहीं त्यागने चाहिए ...

anupama's sukrity ! ने कहा…

आपकी बात बहुत पसंद आई -
बहुत सुंदर कविता -
सबला की कहानी कहती हुई कविता -
अनेक शुभकामनाएं .

शरद कोकास ने कहा…

इस पुरातन पर अच्छा विमर्श है ।

Manav Mehta ने कहा…

आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आया हूँ बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ........

Manav Mehta ने कहा…

आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आया हूँ बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ........

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना मंगलवार 23 -11-2010
को ली गयी है ...
कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


http://charchamanch.blogspot.com/

रंजना ने कहा…

सत्य कहा...

सत्संस्कार तो नारीत्व की गरिमा है,पहचान है..जो इसको छोड़ दिया तो बचा ही क्या...

प्रभावशाली सुन्दर अभिव्यक्ति !!!

hot girl ने कहा…

बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति ...

उस्ताद जी ने कहा…

5.5/10

एक कविता के रूप में मुझे यह रचना जमी नहीं. किन्तु विचारों और भावों के रूप में महत्वपूर्ण लगी और विचारणीय भी. तमाम उहापोह और क्रांतिकारी परिवर्तनों के बावजूद भी नारी अपनी जड़ों से, अपने संस्कारों से दूर नहीं जा पायी है.

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

जमीन से जुड़ना और संस्कारों को न छोड़ना अच्छी बात है मगर आज भी रूढ़िवादी मानसिकता, अंधविश्वास, धर्म-जाति के नाम पर भेदभाव, लिंग-भेद आदि अनेकों बुराइयों से भारतीय नारी ही नहीं पुरूष भी जकड़े हुए हैं। संस्कार और संस्कृति के नाम पर हम अपनी मानसिकता बदलने की हिम्मत ही नहीं जुटा पाते।

Asha ने कहा…

आज भी नारी नारी ही है |आपने बहुत गहराई से सोच को उभारती कविता लिखी है बहुत बहुत बधाई |
आशा

Dr. O.P.Verma ने कहा…

सुश्री वंदना जी,
आप उत्कृष्ट रचनाकार हो। बधाई।

डॉ. ओम प्रकाश अलसी चेतना यात्रा

धीरेन्द्र सिंह ने कहा…

नारी का यह रूप शायद सभी भारतीय नारी में है। आधुनिकता की लय में बाह्य थिरकन केवल समय के संग औपचारिकता निभाना ही कहा जाएगा। एक भव्य प्रस्तुति।

धीरेन्द्र सिंह ने कहा…

भारतीय नारी का यह रूप अधिकांश भारतीय नारियों में है। जिन संस्कारों को कविता मुखर कर रही है उस क्षण को धन्यवाद।

निर्मला कपिला ने कहा…

अधिकारों के साथ अपने कर्तव्यों
को भी खूब समझती हूँ
तभी तो मन से आज भी
अपनी जड़ों से जुडी नारी हूँ
बहुत सुन्दर अपने संस्कारों से जुडे रहने से बडी एक नारी के लिये और क्या चीज़ हो सकती है। सुन्दर कविता। बधाई।

अनुपमा पाठक ने कहा…

विचारपूर्ण रचना...!

Sadhana Vaid ने कहा…

एक भारतीय नारी की मानसिकता और उसकी प्रवृत्तियों की बड़ी सूक्ष्मता के साथ पड़ताल की है आपने ! वास्तव में भारतीय नारी बिल्कुल वैसी ही है जैसी आपने परिभाषित की है ! बहुत सुन्दर प्रस्तुति !

डॉ. नूतन - नीति ने कहा…

वंदना जी आपने सच ही लिखा है....कितनी भी उचाइयो में नए ज़माने की दौड के साथ चले पर दिल से तो आज भी नारी अंदर अंदर अपने संस्कारों को पाले हुवे है... और वाही तो है अपने संस्कारों को आगे तक ले जाने वाली... शुभकामनयें..

वाणी गीत ने कहा…

उन्मुक्तता , स्वतंत्रता मेरे अधिकार हैं
स्वच्छंद हवा में विचरण करना मेरी नियति है
मगर उसका दुरूपयोग कभी ना करती हूँ
अधिकारों के साथ अपने कर्तव्यों
को भी खूब समझती हूँ
तभी तो मन से आज भी
अपनी जड़ों से जुडी नारी हूँ...

आधुनिक होती नारी अपनी जड़ों से आज भी ऐसे ही जुडी है ...
इतनी खूबसूरत कविता देर से पढ़ पायी ...