अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 23 नवंबर 2013

मुझे तो महज तमाशबीन सा खड़ा रहना है

आजकल कुछ नहीं दिखता मुझे 
ना संसार में फैली आपाधापी 
ना देश में फैली अराजकता 
ना सीमा पर फैला आतंक 
ना समाज में फैला नफरतों का कोढ़ 
ना आरोप ना प्रत्यारोप 
कौन बनेगा प्रधानमंत्री 
किसकी होगी कुर्सी 
कौन दूध का धुला है 
किसने कोयले की दलाली में 
मूंह काला किया है 
किस पर कितने भ्रष्टाचार 
के मामले चल रहे हैं 
कौन धर्म की आड़ में 
मासूमों का शोषण कर रहा है 
कौन वास्तव में धार्मिक है 
कुछ नहीं दिखता आजकल मुझे 
जानते हैं क्यों 
देखते देखते 
सोचते सोचते 
रोते रोते 
मेरी आँखों की रौशनी जाती रही 
श्रवणरंध्र बंद हो गए हैं 
कुछ सुनाई नहीं देता 
यहाँ तक की अपने 
अंतःकरण की आवाज़ भी 
अब सुनाई नहीं देती 
फिर सिसकियों के शोर कौन सुने 
और मूक हो गयी है मेरी वाणी 
जब से अभिव्यक्ति पर फतवे जारी हुए 
वैसे भी एक मेरे होने या ना होने से 
कौन सा तस्वीर ने बदलना है 
जोड़ तोड़ का गुना भाग तो 
राजनयिकों ने करना है 
मुझे तो महज तमाशबीन सा खड़ा रहना है 
और हर जोरदार डायलोग पर तालियाँ बजाना है 
और उसके लिए 
आँख , कान और वाणी की क्या जरूरत 
महज हाथ ही काफी हैं बजाने के लिए 
तुम कहोगे 
जब हाथ का उपयोग  जानते हो 
तो उसका सदुपयोग क्यों नहीं करते 
क्यों नहीं बजाते कान के नीचे 
जो सुनाई देने लगे 
जुबान के बंध  खुलने लगें 
आँखों के आगे तारे दिखने लगें 
बस एक बार अपने हाथ का सही उपयोग करके देखो 
है ना …… यही है ना कहना 
क्या सिर्फ इतने भर से तस्वीर बदल जाएगी 
मैं तुमसे पूछता हूँ 
क्या फिर इतने भर से 
घोटालों पर ताले लग जायेंगे 
क्या इतने भर से 
हर माँ , बहन , बेटी सुरक्षित हो जाएगी 
रात के गहन अँधेरे में भी वो 
सुरक्षित घर पहुँच जायेंगी 
क्या इतने भर से 
हर भूखे पेट को रोटी मिल जायेगी 
क्या फिर कहीं कोई लालच का कीड़ा किसी ज़ेहन में नहीं कु्लबुलायेगा 
क्या हर अराजक तत्व सुधर जाएगा 
क्या कानून सफेदपोशों के हाथ की कठपुतली भर नहीं रहेगा 
क्या फिर से रामराज्य का सपना झिलमिलायेगा 
क्या सभी कुर्सीधारियों की सोच बदल जायेगी 
और उनमे देश और समाज के लिए इंसानियत जाग जायेगी 
गर मेरे इन प्रश्नों की उत्तर हों तुम्हारे पास तो बताना 
मैं हाथ का सदुपयोग करने को तैयार हूँ ………एक आज्ञाकारी वोटर की तरह 
जबकि जानता हूँ 
राजनीति के हमाम में सभी वस्त्रहीन हैं  और मैं महज एक तमाशबीन 

9 टिप्‍पणियां:

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

आपके मन के भाव आज न केवल आपके हैं अपितु हर संवेदनशील नागरिक के हैं। माना कि घोर निराशा का वातावरण बन चुका है। सोचने-विचारने की क्षमता समस्याओं के निवारण में थक चुकी है। जिससे से अपेक्षा होती है वह भी तत्काल आशाओं पर पानी फिराता नज़र आने लगता है । जो आदर्श बनाते हैं वे भी क्षण-भंगुर साबित होते हैं। ऐसे में किसकी ऒर निहारें????? ............. यह प्रश्न आज का नहीं है। समय-समय पर ऎसी विकट स्थितियाँ बनती रही हैं।

हम वही देखते हैं, जो 'मीडिया' द्वारा दिखाया जाता है। हम वही जानते हैं जो हमें कई माध्यमों से बताया जाता है। और कोई तरीका भी तो नहीं वास्तविकता जानने का।

प्रायः मीडिया अपनी साख को भुनाता है और अपना मूल्यांकन किसी-न-किसी रूप में वसूलता भी है।

जो मीडिया उसूलों से समझोता नहीं करता और सच को बताने और दिखाने में तत्पर रहता है वह अल्पकालिक जीवन जीता है।

विषम और विपरीत स्थितियों में जो जीता है उसकी जिजीविषा से ही भावी पीढ़ी प्रेरणा पाती है।


आपकी रचना अंत में सवाल करती है इसलिए उत्तर देने में 'उपदेश' दे बैठा। अन्यथा न लेना।

कविता रावत ने कहा…

सच कहा शोर बहुत है आजकल ...
आम जनता सच में तमाशबीन से बढ़कर कुछ नहीं नहीं ..........वादें तो बहुत होते हैं लेकिन सिर्फ चुनाव तक ..बहुत बढ़िया प्रेरक प्रस्तुति ...

Rajesh Kumar ने कहा…

nice

Onkar ने कहा…

वास्तविकता दर्शाती रचना

Amrita Tanmay ने कहा…

तमाशबीन...इससे ज्यादा कुछ भी नहीं हैं हम ..

मदन मोहन सक्सेना ने कहा…

Sundar

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

एक नागरिक और वोटर की पीडा को सटीक अभिव्यक्ति दी है आपने, शुभकामनाएं.

रामराम.

Digamber Naswa ने कहा…

ये तो पता नहीं की बदलेगा या नहीं ... पर फिर भी कोशिश तो करनी ही होगी ... समय में बदलाव कभी तो आएगा ही ...

मदन मोहन सक्सेना ने कहा…

बहुत सुन्दर आभार