अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 23 मार्च 2013

दिल में होली जल रही है .......................

जिस भी रंग को चाहा 
वो ही ज़िन्दगी से निकलता रहा 

लाल रंग .......... सुना था प्रेम का प्रतीक होता है 

बरसों बीते 
खेली ही नहीं 
बिना प्रेम कैसी होली 
उसके बाद तो मेरी हर होली ........बस हो ..........ली !!!

दहकते अंगारों पर 
अब कितना ही पानी डालो 
कुछ शोले उम्र भर सुलगा करते हैं 

दिल में होली जल रही है .......................

20 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बाहर होली, भीतर होली..
थिरक रही हैं रंग-रंगोली...!
--
सभी का यही हाल है वन्दना जी!
--
धधक रही है मन में ज्वाला।
होली का दस्तूर निराला!

शोभना चौरे ने कहा…

इतनी उथल पुथल हो रही है ,तो सच दिल में होली जल रही है ।

शालिनी कौशिक ने कहा…

भावनात्मक प्रस्तुति आभार अमिताभ बच्चन :सामाजिक और फ़िल्मी शानदार शख्सियत .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही भावपूर्ण प्रस्तुति,आभार.

PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.) ने कहा…

bahut hi saar garbhit kavta or lekhni hoti hai ji !! prerna dayak bhi hoti hai !! ham ise share karna chahte hain apne blog " 5th pillar corruption killer " par kripya hameshaa ke liye izaajat de dijiye ji !!

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत सुंदर भावपूर्ण प्रभावी रचना,,,
होली की हार्दिक शुभकामनायें!
Recent post: रंगों के दोहे ,

Kalipad "Prasad" ने कहा…


अन्दर आग धधकता रहता है
रंग के बौछार से कुछ ठंडा होता है
latest post भक्तों की अभिलाषा
latest postअनुभूति : सद्वुद्धि और सद्भावना का प्रसार

संध्या शर्मा ने कहा…

गहन भाव... शुभकामनायें

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

प्रभावशाली ,
जारी रहें।

शुभकामना !!!

आर्यावर्त

आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

Onkar ने कहा…

सुन्दर रचना

वाणी गीत ने कहा…

दहकते शोलों पर पानी डालो , मगर सुलगते ही रहते हैं !
बहुत खूब !

अरुन शर्मा 'अनन्त' ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (24-03-2013) के चर्चा मंच 1193 पर भी होगी. सूचनार्थ

डॉ टी एस दराल ने कहा…

किसी की होली -- किसी की बस हो ली !
गहन भावों को समेटे सुन्दर रचना।

Reena Maurya ने कहा…

भावपूर्ण अभिव्यक्ति,,,

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

अगले दिन रंग भी बरसेंगे उसमें..

Anita (अनिता) ने कहा…

भावुक करती रचना......
~सादर!!!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत खूब ... दिल में जब होली जल रही हो तो रंगों का असर कहां होता है ...

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

हीली तो हो ली

Pratibha Verma ने कहा…

बहुत सुन्दर ...
पधारें " चाँद से करती हूँ बातें "

Manohar Teli ने कहा…

Happy holi