अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 15 जनवरी 2013

सोचती हूँ क्या दूं तुम्हें तोहफा

 
 
 
सोचती हूँ 
क्या दूँ  तुम्हें तोहफा 
बहुत हो चुका  देना 
वस्तुओं का 
कपडे, पर्स ,ज्वेलरी 
सब भौतिक वस्तुएं 
क्योंकि अब तुम 
पदार्पण कर चुकी हो 
बचपन से उम्र के उस 
पड़ाव में जहाँ 
हर तरफ ज़िन्दगी 
एक जुंग बनकर खड़ी मिलेगी 
दुआएं तो हमेशा 
हर हाल में 
तुम्हारे साथ रहती हैं 
इसलिए चाहती हूँ देना 
एक ऐसा तोहफा 
जिसे तुम हमेशा संजो कर रख सको 
और पीढ़ी दर पीढ़ी 
उसे आबंटित करती रहो 
सुनो बेटी 
जब से तुम्हें जन्म दिया 
न कोई रोक टोक किया 
न कोई फर्क किया
क्योंकि 
मुझे कहीं कोई फर्क ही नहीं दिखा 
नहीं लगा ऐसा कहीं 
जो तुम पर थोपती 
कोई मान्यता 
मगर आज बदल गया ज़माना 
आज बदल गयी इंसानियत 
आज बदल गयी हर तस्वीर 
आज 21 वीं सदी की नारी कहाती हूँ 
इसलिए तुम्हें बताती हूँ 
बेशक वक्त का खौफनाक 
चेहरा सामने आया है 
बेशक एक जंग छिड़ी है 
मगर चाहती हूँ अब 
तुम्हारा भी योगदान 
चाहती हूँ तुम्हें निडर बनाना 
अपने हक़ के लिए लड़ना सिखाना 
अपनी आवाज़ उठाना 
ताकि कल कोई सामाजिक मान्यता 
बेडी  बनकर तुम्हारे पाँव न रोक सके 
अब अपनी जुंग तुम्हें खुद लड़नी है 
किसी निगाह में अपने लिए 
हमदर्दी नहीं देखनी है 
बल्कि अपनी पहचान आप बनना है 
एक ऐसा ताजमहल तुम्हें खड़ा करना है 
जिस दिन अपनी अस्मिता 
अपनी अहमियत , अपनी पहचान 
तुम्हें मिलेगी .........देखना 
यही दुनिया , यही लोग 
यही सोच तुम्हारे आगे 
नतमस्तक होंगे 
बस अपने हौसलों को न टूटने देना है 
बस एक आगाज़ तुम्हें करना है 
मुश्किलों से न डरना है 
क्योंकि 
इतिहास में तारीखें तभी अमर हुआ करती हैं 
जब शख्सियतें इबारत लिखा करती हैं 
और इस बार तुम्हें गढ़नी है इबारत 
अपने अस्तित्व की, अपनी पहचान की , अपने स्वाभिमान की 
 
 
बिटिया के जन्मदिन पर आज के हालत को देखते हुए एक माँ का बस यही है तोहफा उसके लिए 
 

17 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बिटिया के जन्मदिन पर बेहतरीन तोहफा ...

बिटिया को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें

Madan Mohan Saxena ने कहा…

बेहतरीन

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बिटिया को जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई!
--
इस अवसर पर माँ का दिया हुआ तोहफा अमोल होता है।
--
सुन्दर रचना!

mridula pradhan ने कहा…

bemisaal tohfa hai ye to.....

रश्मि प्रभा... ने कहा…

हाँ बेटी,
आशीर्वाद
और माँ के साथ एक सीख मासी की भी
विनम्रता,सहनशीलता का अस्तित्व रखना
पर आँधियों के मध्य (जो ना आयें कभी)
याद रखना
कि आंधियां अपने हिसाब से आ ही जाती हैं
उससे खुद को ना कमज़ोर समझना
ना विफल
अगला कदम और सशक्त रखना .
शारीरिक संरचना प्रभु ने बनाई है
तो उसकी सोच को हमेशा पूजना
उसका सम्मान करना
और ज़िन्दगी को ख़ुशी से जीना

Yugal Mehra ने कहा…

शुभकामनायें

शालिनी कौशिक ने कहा…

सुन्दर प्रयास.सार्थक भावनात्मक अभिव्यक्ति ”ऐसी पढ़ी लिखी से तो लड़कियां अनपढ़ ही अच्छी .”
आप भी जाने @ट्वीटर कमाल खान :अफज़ल गुरु के अपराध का दंड जानें .

इमरान अंसारी ने कहा…

बहुत बहुत शुभकामनायें..... बड़ा तो हूँ ही तो आशीर्वाद भी चलेगा :-)

कुश्वंश ने कहा…

जन्मदिन पर बेहतरीन तोहफा ...

बिटिया को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें

सदा ने कहा…

बिटिया के जन्‍मदिन पर माँ का दिया हुआ अनमोल तोहफा ....
बहुत-बहुत शुभकामनाएं ....

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

भावपूर्ण कविता, बिटिया को जन्मदिन की शुभकामनायें

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

इससे अच्छा भला और क्या हो सकता है तोहफा..

Pallavi saxena ने कहा…

बिटिया के जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकामनायें आज हर माँ को अपनी बेटी को यही तोहफा देने की जरूरत है भावपूर्ण भावभिव्यक्ति...

Kailash Sharma ने कहा…

बिटिया को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें...आज के हालात में बिटिया को इससे अच्छा जन्मदिन का तोहफा और क्या हो सकता है...

अरूण साथी ने कहा…

sadhoo sadhoo

RITU ने कहा…

बेहतरीन ...

बिटिया को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें!!!

Chandan Singh ने कहा…

जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाये
सहरसा टाइम्स