अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

सोमवार, 10 दिसंबर 2012

जब इश्क ही मेरा मज़हब बना ………

आह! आज ना जाने क्या हुआ
धडकनों ने आज इक राग गाया है
बस इश्क इश्क इश्क ही फ़रमाया है
जो जुनून बन मेरे दिलो दिमाग पर छाया है
ये कोई असबाब या साया नहीं
बस इश्क का खुमार चढ आया है
इश्क को ही मैने अपना
मज़हब चुना है
तभी तो देखो
बंजारन बन कैसे अलख जगाती हूँ
और इश्क इश्क इश्क ही चिल्लाती हूँ
इश्क अन्दर जब उतरता है
सीसे सा पिघलता है
ना दर्द होता है
ना कोई अहसास होता है
बस मीठा मीठा सा सुरूर होता है
जिसमें तू और मैं हों जरूरी नहीं
क्योंकि
आज इश्क को खुदा बना लिया मैने
देख खुद को सूली पर चढा लिया मैने
जो दर्द उठा हुस्न के सीने में
अश्क इश्क की आँख से बह गये
मुकम्मल मोहब्बत में सराबोर
दो जिस्म इक जान हो गये………
अब बता और क्या तज़वीज़ करूँ
इश्क की और कौन सी माला जपूँ
जहाँ कुछ बचा ही नहीं
सिर्फ़ इश्क ने इश्क को आवाज़ दी
इश्क ही इश्क की दुल्हन बना
इश्क ने ही इश्क का घूँघट पल्टा
और इश्क ही इश्क में डूब गया
अब कौन कहाँ बचा
जिसका कोई सज़दा करे
ओ यारा मेरे……तभी तो
इश्क ही मेरी दीद बना
इश्क ही मेरी प्रीत बना
इश्क का ही मैने घूँट भरा
इश्क ही मेरा खुदा बना
अब और कौन सा नया मज़हब ढूँढूं
जब इश्क ही मेरा मज़हब बना
जब इश्क ही मेरा मज़हब बना ………

20 टिप्‍पणियां:

सदा ने कहा…

वाह ... बहुत खूब

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

इश्क़ से बड़ा कोई मज़हब नहीं .... पर लोग मज़हब के नाम पर इश्क़ कुर्बान करते हैं ...गहन प्रस्तुति

Amrita Tanmay ने कहा…

उत्कृष्ट लेखन

ZEAL ने कहा…

waah..great creation...

अरुन शर्मा "अनंत" ने कहा…

बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ उम्दा भाव सुन्दर प्रस्तुति
अरुन शर्मा
RECENT POST शीत डाले ठंडी बोरियाँ

संध्या शर्मा ने कहा…

गहराई में डूबे हुए शब्द, अद्भुत, लाजवाब....

liveaaryaavart.com ने कहा…

बेहतर लेखन !!!

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

:)

madhu singh ने कहा…

उत्कृष्ट लेख,सीसे सा पिघलता है मेरा मज़हब ****^^^^^***** धडकनों ने आज इक राग गाया है
बस इश्क इश्क इश्क ही फ़रमाया है
जो जुनून बन मेरे दिलो दिमाग पर छाया है
ये कोई असबाब या साया नहीं
बस इश्क का खुमार चढ आया है
इश्क को ही मैने अपना
मज़हब चुना है

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

प्यार से बढ़कर कुछ भी तो नहीं।

sushma 'आहुति' ने कहा…

खुबसूरत अभिवयक्ति....

Ramakant Singh ने कहा…

मानना पड़ेगा आपके लेखन को प्रणाम

निहार रंजन ने कहा…

काश प्यार ही सबका धर्म होता. ना ये नफरत की दीवारें होती और ना ही क़त्ल-ओ-खून का ये आलम. ना ही ये आलाम रह रह के मकतल बनता.सुंदर भाव.

expression ने कहा…

बहुत सुन्दर......
एक और बेहतरीन अभिव्यक्ति...

सस्नेह
अनु

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति 1

Madan Mohan Saxena ने कहा…

बहुत सराहनीय प्रस्तुति.

Kumar Radharaman ने कहा…

प्रेम के अलावा जीवन को चाहिए भी क्या
प्रेम के अलावा जीवन और है ही क्या!!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

इश्क मजहब हो जाए तो जीवन जोगन हो जाता है ... अलख जग जाती है ... सुन्दर भाव ..

varun kumar ने कहा…

वाह ... बहुत खूब

पूरण खंडेलवाल ने कहा…

उत्कृष्ट रचना !!