अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 4 दिसंबर 2012

जरूरी तो नहीं देव उठाने की रस्म हमेशा मैं ही निभाऊँ ………

ना जाने किस नींद में सोयी थी
युग बीत चुके ……टूटी ही नहीं
ये कल्पनाओं के तकियों पर
ख्वाहिशों के बिस्तर पर
बेहोशी की नींद आना तो लाज़िमी था
मगर उस दिन हकीकत ने जो
ख्वाबों को आँखों से खीचा
सिर से पल्लू को हटाया
धडधडाती हुयी धरती पर गिर पडी
जब तुमने कहा …………
नहीं है ये तुम्हारा घर, बच्चे और संसार
नहीं है तुम्हारा कोई अधिकार
सिर्फ़ गृहिणी हो

ना स्वच्छंद बनो
बस नून, तेल और रोटी का ही 
हिसाब रखा करो
यही तुम्हारी नियति है
जीती रहो जैसे सब जीया करती हैं
क्या तुम्हारे लिये ही बंधन है
क्या तुम्हारे लिये ही जीवन दुष्कर है
क्या करोगी बाहर निकलकर
क्या करोगी इतिहास रचकर

कौन जानेगा तुम्हें
कौन पहचानेगा तुम्हें
ये सिर्फ़ सब्ज़बाग हैं
मन को बहलाने के ख्यालात हैं 
वापसी यहीं करनी होगी
क्योंकि
किस्मत में तुम्हारी तो फिर भी
सिर्फ़ चूल्हा , चौका और बर्तन हैं
नहीं जानती थी
समर्पण सिर्फ़ किताबी लफ़्ज़ हुआ करता है
प्रेम सिर्फ़ किताबों में ही मिला करता है

और गृहिणी का जीवन तो सिर्फ़
चूल्हे की राख सा हुआ करता है 
कितनी उडान भर ले
कितना खुद को सिद्ध कर ले 
मगर कुछ नज़रों में 
उनकी  उपलब्धियों का 
ना कोई मोल होता है
उनके लिये तो जीवन 
एक आखेट होता है
जहाँ वो ही शिकार होती हैं
तब बहुत विश्लेषण किया
बहुत सोचा तो पाया
यूँ ही थोडे बेसूझ साया हमारे जीवन में लहराया था
हाँ ………देव उठनी एकादशी
मै तो इसी ख्वाब संग जीती रही
मेरे देवता तो कभी सोयेंगे ही नहीं
क्योंकि
इसी दिन तो तुमने मुझे ब्याहा था
पता नहीं
मैं नींद में थी या तुम्हारे मोहपाश में बँधी मैं
देख नही पायी
तुम तो हमेशा अधसोये ही रहे
अपनी चाहतों के लिये जागते
मेरी ख्वाहिशों के लिये सोते
अर्धनिद्रित अवस्था को धारण किये
हमेशा एक मुखौटा लगाये रहे
और मैं
अपनी अल्हड ख्वाहिशों में
तुम्हारी बेरुखी का पैबन्द लगा
जीने का उपक्रम करती
भूल गयी थी एक सच
"सोये देवता भी एक दिन उठा करते हैं …………"




सुनो 

सोचती हूँ 
इस बार मैं सो जाती हूँ ………गहरी नींद में
अपनी चाहतों को परवाज़ देने के लिये 
और जब उठूँ तो 
क्या मिलोगे तुम मुझे इसी मोड पर ठहरे हुये
अपना हाथ मेरी ओर बढाते हुये
और शायद उस वक्त 
मेरा मूड ना हो हाथ पकडने का 
जागने का …………गहन निद्रा से


क्या तब भी देवता उठाने की रस्म परांत के नीचे 
प्रेम का दीया जलाकर 
प्रेम राग गाकर 
मुझे पुकार कर 
कर सकोगे …………सोचना ज़रा इस बार तुम भी 


क्योंकि 
मैने देवता उठाने की रस्म बंद कर दी है
और 
जरूरी तो नहीं देव उठाने की रस्म हमेशा मैं ही निभाऊँ ………

19 टिप्‍पणियां:

ओंकारनाथ मिश्र ने कहा…

सुन्दर कविता...सच्ची भावनाएं जिससे कई आशना हैं.

Unknown ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (05-12-12) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
सूचनार्थ |

Madan Mohan Saxena ने कहा…

सुन्दर कविता...सच्ची भावनाएं

Shalini kaushik ने कहा…


बहुत सुन्दर व् सार्थक भावाभिव्यक्ति .बधाई
दहेज़ :इकलौती पुत्री की आग की सेज

रश्मि शर्मा ने कहा…

शायद हर तीसरी स्‍त्री की यही त्रासदी है कि‍ वो जीना चाहती है...उड़ना चाहती है पर मगर उसके पर बांध दि‍ए जाते हैं....बहुत सुंदर कवि‍ता

अनाम ने कहा…

बेहतर लेखन !!

सदा ने कहा…

मनोभावों का अनुपम चित्रण किया है आपने ... आभार इस उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति के लिये

ANULATA RAJ NAIR ने कहा…

वाह वंदना....
झकझोर देती हैं आपकी कवितायें....

बहुत सुन्दर.
सस्नेह
अनु

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…

भाव उभर आते हैं मन के
मगर युग बदल रहा है
बदल भी गया है
यदि गाड़ी के दोनो पहियों
ने समझ लिया होता है
अपना अपना महत्व
चलते हैं जग मे 'तन' के……
"देवोत्थनी एकादशी" परब के माध्यम से
हक़ीक़त का सुंदर चित्रण ……।

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत सुंदर उत्कृष्ट प्रस्तुति,,,

recent post: बात न करो,

मन के - मनके ने कहा…

कल्पनाओं के तकिये पर
ख्वाइशों के बिस्तर पर
बेहोशी की नींद तो आना लाज़मी है—
भावों को सुंदर शब्द-संयोजन में पिरोया है.

Unknown ने कहा…

गजब की कसीस

Arun sathi ने कहा…

साधू-साधू
अतिसुन्दर

Arun sathi ने कहा…

गंभीर रचना, आभार.

संध्या शर्मा ने कहा…

बहुत गंभीर विषय... बड़ी ही सरलता से नारी मन की व्यथा को शब्द दे देती हैं आप गहन भाव ...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत ही सुन्दर चित्रण...

रचना दीक्षित ने कहा…

सुंदर सार्थक प्रस्तुति.

Amrita Tanmay ने कहा…

कितना सुन्दर लिखा है..

Mamta Bajpai ने कहा…

दिल से लिखी गयी है ..और दिल तक पहुची भी