अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

सोमवार, 26 नवंबर 2012

बस मूक हूँ .............पीड़ा का दिग्दर्शन करके



मुझमे उबल रहा है एक तेज़ाब
झुलसाना चाह रही हूँ खुद को
खंड- खंड करना चाहा  खुद को
मगर नहीं हो पायी
नहीं ....नहीं छू पायी
एक कण भी तेजाबी जलन की
क्योंकि
आत्मा को उद्वेलित करती तस्वीर
शायद बयां हो भी जाए
मगर जब आत्मा भी झुलस जाए
तब कोई कैसे बयां कर पाए
देखा था कल तुम्हें 

नज़र भर भी नहीं देख पायी तुम्हें
नहीं देख पायी हकीकत
नहीं मिला पायी आँख उससे
और तुमने झेला है वो सब कुछ
हैवानियत की चरम सीमा
शायद और नहीं होती
ये कल जाना
जब तुम्हें देखा
महसूसने की कोशिश में हूँ
नहीं महसूस पा रही
जानती हो क्यों
क्योंकि गुजरी नहीं हूँ उस भयावहता से
नहीं जान सकती उस टीस को
उस दर्द की चरम सीमा को
जब जीवन बोझ बन गया होगा
और दर्द भी शर्मसार हुआ होगा
कहते हैं "चेहरा इन्सान की पहचान होता है "
और यदि उसी पहचान
पर हैवानियत ने तेज़ाब उंडेला हो
और एक एक अंग गल गया हो
मूंह , आँख , नाक , कान
सब रूंध गए हों
न कहना
न सुनना
न बोलना
जीवन की क्षणभंगुरता ने भी
उस पल हार  मान ली हो
नहीं , नहीं , नहीं
कोई नहीं जान सकता
कोई नहीं समझ सकता
उस दुःख की काली रात्री को
जो एक एक पल को
युगों में तब्दील कर रही हो
एक एक सांस
खुद पर बोझ बन रही हो
और जिंदा रहना
एक अभिशाप समझ रही हो
कुछ देर खुद को
गर गूंगा , बहरा और अँधा
सोच भी लूं
तो क्या होगा
कुछ नहीं
नहीं पार पा सकती उस पीड़ा से
नहीं पहुँच सकती पीड़ा की
उस भयावहता के किसी भी छोर तक
जहाँ जिंदा रहना गुनाह बन गया हो
और गुनहगार छूट गया हो
जहाँ हर आती जाती सांस
पोर पोर में लाखों करोड़ों
सर्पदंश भर रही हो
और शरीर से परे
आत्मा भी मुक्त होने को
व्याकुल हो गयी हो
और मुक्ति दूर खड़ी अट्टहास कर रही हो
नहीं ..........शब्दों में बयां हो जाये
वो तो तकलीफ हो ही नहीं सकती
जब रोज खौलते तेज़ाब में
खुद को उबालना पड़ता है
जब रोज नुकीले भालों की
शैया पर खुद को सुलाना पड़ता है
जब रोज अपनी चिता को
खुद आग लगाना पड़ता है
और मरने की भी न जहाँ
इजाज़त मिलती हो
जिंदा रहना अभिशाप लगता हो
जहाँ चर्म , मांस , मज्जा
सब पिघल गया हो
सिर्फ अस्थियों का पिजर ही
सामने खड़ा हो
और वो भी अपनी भयावहता
दर्शाता हो
भट्टी की सुलगती आग में
जिसने युगों प्रवास किया हो
क्योंकि
जिसका एक एक पल
युगों में तब्दील हुआ हो
वहां इतने वर्ष बीते कैसे कह सकते हैं
क्या बयां की जा सकती है
शब्दों के माध्यम से ?
पीड़ा की जीवन्तता
जिससे छुटकारा मिलना
आसान  नहीं दीखता
जो हर कदम पर
एक चुनौती बनी सामने खड़ी दिखती है
क्या वो पीड़ा , वो दर्द
वो तकलीफ
वो एक एक सांस के लिए
खुद से ही लड़ना
मौत को हराकर
उससे दो- दो हाथ करना
इतना आसान है जितना कहना
"जिस पर बीते वो ही जाने "
यूँ ही नहीं कहा गया है
शब्द मरहम तभी तक बन सकते हैं
जहाँ पीड़ा की एक सीमा होती है
अंतहीन पीडाओं के पंखों में तो सिर्फ खौलते तेज़ाब ही होते हैं
जो सिर्फ और सिर्फ
आत्मिक शक्ति और जीवटता के बल पर ही जीते जा सकते हैं
और तुम उसकी मिसाल हो कहकर
या तुम्हें नमन करके
या सहानुभूति प्रदर्शित करके
तुम्हारी पीड़ा को कमतर नहीं आंक सकती
बस मूक हूँ .............पीड़ा का दिग्दर्शन करके


दोस्तों कल कौन बनेगा करोडपति में धनबाद की सोनाली को देखा और जिस पीड़ा से वो गुजरी उसे जाना , उसे देखा तो मन कल से बहुत व्यथित हो गया और सोच में हूँ तब से कैसे उसने इतने साल एक एक पल मौत से लड़कर गुजारा है ?
विकृत मानसिकता ने एक जीवन को कैसे बर्बाद किया ये देखकर मन उद्वेलित हो गया और उसकी पीडा को सोच सोच कर ही दिल कसमसा रहा है क्या थी और क्या हो गयी और कैसे उसने पिछले दस सालों से जीवन को जीया है ……मुझे सिर्फ़ और सिर्फ़ उसकी पीडा ही तडपा रही है जिसे शब्दों में व्यक्त करना नामुमकिन है।

23 टिप्‍पणियां:

सदा ने कहा…

नि:शब्‍द हूँ ... इस अभिव्‍यक्ति को पढ़कर आपकी लेखनी को सादर नमन

Ayodhya Prasad ने कहा…

बहुत सुन्दर बयां किया आपने...ऐसा करने वालो को कभी माफ नहीं करना चाहिये |

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

यह सब महसूस किया जा सकता है .... ऐसा करने वाले गुनहगारों को सख्त सज़ा मिलनी चाहिए .... संवेदनशील रचना

Kulwant Happy "Unique Man" ने कहा…

भावपूर्ण विचार

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

मार्मिक व्यथा वर्णन..

shikha varshney ने कहा…

कल के बी सी का वह एपिसोड देखकर यही हाल अपना भी है..

रविकर ने कहा…

आभार आदरेया ।।



दर्दनाक घटना घटी, मेरा पास पड़ोस ।

दुष्टों की हरकत लटी, था *धैया में रोष ।

था *धैया में रोष, कोसते हम दुष्कर्मी ।

जेल प्रशासन ढीठ, दिखाया बेहद नरमी ।

उठे मदद को हाथ, पीडिता की खातिर अब ।

अपराधी को सजा, मिलेगी ना जाने कब ।।



*धैया ग्राम हमारे कालेज के बगल में ही है जहाँ यह घटना हुई-

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

वन्दना ने कहा…

@रविकर जी फिर तो आप इस बारे में हम सबसे ज्यादा जानते होंगे बहुत मन व्यथित है ।

वन्दना ने कहा…

@रविकर जी आभार आपका जो आपने इस पोस्ट को लिंक-लिक्खाड़ पर स्थान दिया हम और कुछ तो नही कर सकते बस अपनी अपनी तरह कोशिश करने के सिवा ताकि ऐसे दरिंदों की दरिंदगी और कानून की लचर व्यवस्था का सबको पता चल सके ………

डॉ शिखा कौशिक ''नूतन '' ने कहा…

vandna ji -bahut marmik thi yah ghatna .sarthak prastuti .aapki is prastuti ka link bhartiy nari blog par bhi share kiya hai .aabhar

डॉ टी एस दराल ने कहा…

बहुत शर्मनाक और दर्दनाक घटना है.
अमानवीय कृत्य . मार्मिक प्रस्तुति.

kshama ने कहा…

Maine Crime petrol pe ek arsa hua ye program dekha tha. Gazab kee peeda huee thee. Hamare desh ke qanoon aise hain,ki, aise ghinoune apradhi chhoot jate hain. Police mahakme ke liye bhe ye baat behad demoralising hai,kyonki wo log jee jaan se koshish karke apradhi ko pakadte hain,aur wo apradhi court se riha ho jate hain.Lanat un wakeelon pe jo unki wakalat karte hain. Chamadi to un wakelon ke udhednee chahiye. Kaun udhedega?

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

संवेदनशील मन को व्यथित करती रचना,,

recent post : प्यार न भूले,,,

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

ओह..!
बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण हैं ऐसे प्रायोजित हादसे!
मगर हमारा कानून अन्धा भी है और बहरा भी!
बदलाव होना जरूरी है कानून की धाराओं में!

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

एक लौ इस तरह क्यूँ बुझी ... मेरे मौला - ब्लॉग बुलेटिन 26/11 के शहीदों को नमन करते हुये लगाई गई आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

स्तबध हूँ,ऐसे दरिंदों को वह सज़ा होनी चाहिये कि आगे कोई ऐसा दुस्साहस न करे !

जयदीप शेखर ने कहा…

ताकि किसी युवा को इससे कुछ प्रेरणा मिले...
http://jaydeepshekhar.blogspot.in/2012/02/blog-post_14.html

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

sharminda hoon... dhanbad me jiwan ke sabse adhik varsh guzre hain isliye aur bhi...

यादें....ashok saluja . ने कहा…

हैवानियत ....निशब्द!

HARSHVARDHAN SRIVASTAV ने कहा…

ऐसी घटनायें देश के लिए दुखद।
मेरी नयी पोस्ट "10 रुपये का नोट नहीं , अब 10 रुपये के सिक्के " को भी एक बार अवश्य पढ़े । धन्यवाद
मेरा ब्लॉग पता है :- harshprachar.blogspot.com

ज्ञानचंद मर्मज्ञ ने कहा…

मन को अंदर तक झकझोर दिया !

Meeta Pant ने कहा…

मर्मस्पर्शी !!