अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 8 जून 2012

मेरे दो व्यक्तित्व हैं

मेरे दो व्यक्तित्व हैं
जिसमे पहले में मैं
वो औरत हूँ
जो  पत्नी भी  है
माँ भी है
सांसारिक जिम्मेदारियों  में 
बंधी आम स्त्री
अपने परिवार को 
पूर्णतः समर्पित
जो  अपने पति
अपने बच्चों के लिए
हर हालात का 
मुकाबला कर जाती  है
सबके मुख पर 
एक  मुस्कान लाने के लिए
ज़माने से लड़ जाती है
अपने "मैं" को उतार कर
खूँटी पर टांग देती है
जो परिवार की
धुरी बन  जाती है 
सबका जीवन जिसके 
इर्द - गिर्द घूमता है
हर छोटी बड़ी  समस्या का 
समाधान बन जाती है जो
हाँ , बस वो ही तो 
एक आम औरत हूँ
जिसकी चारपाई के चार पाए उसके
प्यार ,विश्वास, स्नेह
और संबंधों से जुड़े होते हैं
एक में कमी भी
उसके अस्तित्व पर
प्रश्नचिन्ह बन  जाती है 
और यहाँ कोई रबड़ भी नहीं
जिससे लिखा मिटाया जा सके
ना कोई सफहा (पृष्ट) 
जिसे फाड़ा जा सके
तो हर कदम पर
अग्निपरीक्षाओं  से घिरी
मजबूत नींव 
बनती औरत हूँ मैं
जहाँ संदेह , संभावनाओं का
कोई स्थान  नहीं
सिर्फ विश्वास और स्नेह के
लौह्स्तम्भों पर टिकी 
संबंधों की ईमारत ही
उसका राजमहल होती है


और दूसरा व्यक्तित्व भी है मेरा
हाँ , मुझमे जीती है
एक ऐसी कल्पनाशील स्त्री 
जो मनोभावों को
कवित्व  में ढाल कर
मनोयोग कर
स्वयं को संबल  प्रदान करती है
जिसमे वो मिलती  है
ना जाने कितने 
अन्जान चेहरों से
जिन्हें  ना देखा 
ना जाना
मगर फिर भी उन्होंने
उसके  कल्पनालोक में
अपना अस्तित्व बनाया
कोई भाई बना
तो कोई सखा
तो कोई प्रेमी 
तो कोई  हितैषी
तो कोई शुभचिंतक
तो कोई कटु आलोचक 
सबका स्वागत करती हूँ
सबको समभाव से देखती हूँ
मगर फिर भी 
कहीं कहीं किसी के 
भावों में 
शायद कुछ बूँदें 
अपनेपन की 
ऐसी गिर जाती हैं
कि उसे मुझमे 
अपनी कल्पना नज़र 
आने लगती है
कल्पना में कल्पना का आह्वान
एक अनोखा सा संसार रच जाता है
और "मैं" उस भाव से
निकलना चाहती हूँ
उस अनचाहे बँधन से
मुक्त होना चाहती हूँ
क्योंकि मेरी ये तो फितरत नहीं
मैं वो तो नहीं
जो कोई बनाना चाहता है
या मुझे अपनी 
कल्पना की तस्वीरों में
उतरना चाहता है
काल्पनिक चरित्र भी
ना मुझे भाता है
छुड़ाती हूँ स्वयं को
उस फंद से
स्थिति से रु-ब-रु कराकर
हकीकत के धरातल पर 
काल्पनिकता को  लाकर
मगर ना जाने फिर भी
शायद कुछ ख्यालों से
मेरी तस्वीर का दूसरा रुख
निकलता ही नहीं


और "मैं" कौन हूँ
वो औरत जो घर परिवार 
को समर्पित है 
या वो जो एक 
संवेदनशील मन रखती है
हर भाव को कविताओं में 
ढाल खुद को अभिव्यक्त करती है
इस प्रश्न जाल में उलझने लगती हूँ
क्योंकि हैं तो दोनों ही
मेरे व्यक्तित्व
एक मेरा धर्म है
और एक मेरा कर्म
दोनों में से किसी से 
विमुख ना हो पाती हूँ
पर फिर भी 
स्वयं के साथ
सबको बतलाना चाहती हूँ
हकीकत से मिलवाना चाहती हूँ
बताना चाहती हूँ
वास्तविकता के कठोर धरातल पर
मैं वो औरत पहले हूँ 
जो अपने परिवार को समर्पित है
फिर चाहे 
संवेदनाओं  के कितने ही
शिखर क्यों ना बुलंद हों
मेरा कर्म कभी मुझे
मेरे धर्म से डिगा नहीं सकता
तो आज तक ना 
किया होगा किसी ने
आज मैं करती हूँ
ना आत्ममुग्धता है
ना आत्मश्लाघा 
बस स्वयं से मुखातिब 
होने के लिए
खुद से अपनी पहचान 
कराने के लिए
लो आज की ये कृति
मैं खुद को ही समर्पित करती हूँ
आत्मविश्लेषण के हवि में 
पूर्णाहूति होना भी तो जरूरी होता है
यूँ ही तो मनोकामनाएं पूर्ण नहीं होतीं ..........




(यूँ तो सभी एक दूजे को तोहफ़ा देते हैं मगर खुद को तोहफ़ा देने का ये पहला मौका आज मै खुद अपने आप को दे रही हूँ आज के दिन के लिये खुद को तोहफ़ा देने के लिये इससे उत्तम और क्या होगा )


38 टिप्‍पणियां:

dheerendra ने कहा…

कोई भाई बना तो कोई सखा तो कोई प्रेमी तो कोई हितैषी तो कोई शुभचिंतक तो कोई कटु आलोचक सबका स्वागत करती हूँ सबको समभाव से देखती हूँ मगर फिर भी कहीं कहीं किसी के भावों में शायद कुछ बूँदें अपनेपन की ,,,,,,,

खुद को समर्पित करती,भाव पुर्ण बहुत ही सुंदर रचना के लिये ,,,,,,,वंदना जी बधाई ,,,स्वीकारे

MY RESENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: स्वागत गीत,,,,,

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

जन्म दिन की हार्दिक शुभकामना.. बढ़िया कविता जो स्वयं से सार्थक संवाद कर रही है...

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

जन्मदिन पर इतना सुन्दर आत्मविश्लेषण !
इससे अच्छा उपहार और क्या होंगा . आपके जीवन में दुनिया भर की खुशिया आये . आपको वो सब कुछ ईश्वर दे , जो आपको और आपके परिवार को खुश करे.
कविता में आपने अपने स्त्रीत्व के हर पहलु को उभारा है . बधाई स्वीकारे करे.

mridula pradhan ने कहा…

anmol hai ye uphar......janmdin ki badhayee.

shikha varshney ने कहा…

अपने "मै " को उतार के खूंटी पर तंग देती है...
अच्छी लगी ये पंक्ति
औरत का समर्पण दिखाती सुंदर कृति.

दीपिका रानी ने कहा…

बधाई वंदनाजी.. जन्मदिन की भी.. और खुद को पहचानने की इस कोशिश के लिए भी..

Kailash Sharma ने कहा…

स्त्रीत्व के विभिन्न रूपों का बहुत सटीक आंकलन... आत्ममंथन करती बहुत सशक्त अभिव्यक्ति...जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें !

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

janamdin ki bahut bahut shubhkamna ......bahut accha vishleshan bhi....

रश्मि प्रभा... ने कहा…

यह जो दूसरा व्यक्तित्व है न , वह पहले की दृढ़ता है ... कल्पनाशीलता असंभव को संभव बनाती है ......खुद को व्याख्यित करके , खूबसूरत अलंकृत जिल्द चढ़ा जो तोहफा दिया है - वह जीवन मूल्य है - जिसकी प्रेरणा ईश्वर है , और आंतरिक तेजस्वी जिजीविषा ,
यह उपहार अपनी चमक बनाये रखे

इमरान अंसारी ने कहा…

आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें.....खुदा आपको लम्बी उम्र दे और ढेर सारी खुशियाँ .....आमीन।

दोनों ही व्यक्तित्व के पहलु हैं....मैं कौन हूँ ?.....ये जगत का एकमात्र प्रश्न है जब इसका हल मिल गया समझो सब मिल गया।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

काश उनका चौराहा फिर मिलता..

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

क्या दूं तुम्हें शुभकामनाएं !
आत्मविश्लेषण आसान काम नहीं है फिर भी जब एक औरत को उसकी भूमिका के अनुसार पढो तो उसके कई रूप होते हें और वह हर रूप को उतनी दक्षता के साथ जीती है कि उसका कोई भी रूप कहीं कमजोर नजर नहीं आता है लेकिन ऐसा हर एक के साथ नहीं होता क्योंकि हर कोई वंदना नहीं होता.

Shanti Garg ने कहा…

बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना....
मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

Aruna Kapoor ने कहा…

जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई!...आप के दोनों व्यक्तित्व आकर्षक है!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (09-06-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!

सदा ने कहा…

खुद को समर्पित यह उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति बहुत ही अच्‍छी लगी बधाई सहित शुभकामनाएं ...

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बहुत ही बढ़िया।

जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ।

सादर

अरूण साथी ने कहा…

शाश्वत
एक यथार्थ,

संध्या शर्मा ने कहा…

जन्म दिन की हार्दिक शुभकामना... आत्मविश्लेषण के हवि में पूर्णाहूति होना बहुत जरूरी होता है. बहुत-बहुत सुन्दर पूर्णाहुति दी है आपने वंदना जी...

dr.mahendrag ने कहा…

SUNDAR

omiyk ने कहा…

वाह वंदना जी, एक सांस मे पूरी रचना पढ़ गये, शुरू करने के बाद रोकना संभव ही नहीं था। इतनी प्यारी और मन को प्रफ़्फुलित करने वाली रचना के लिए शुक्रिया और जन्म दिन की बधाई। शब्दों का संयोजन अनुपम है और सटीक भी। स्त्री के आपने दौ व्यक्तित्व की बहुत सुंदर व्याख्या की है और सच मे सभी स्त्रियाँ के दोहरे, तीहरे... व्यक्तित्व होते हैं। करीब सभी अपने आपको इस रचना मे पाएँगी।
डा० पाण्डे ने बहुत सुंदर लिखा है,
तू अगर ना होती तो
ये समाँ ना होता
ये जमीँ ना होती
ना आसमाँ होता
ये धरा का नजारा ना होता
औरत अगर ना होती तो
ये सँसार ना होता
माँ भी तू है
बेटी भी तू है
हाँ किसी की पत्नी भी तू है
अगर तू ना होती तो ये
पुरूष बाप पति या बेटा ना होता
तेरी शक्ती ना होती
तेरी भक्ती ना होती
ये शिव और कुछ नही बस शव होता।
सच है, या तो कुछ होता ही नहीं और अगर होता तो वह इतना सुंदर ना होता।

omiyk ने कहा…

वाह वंदना जी, एक सांस मे पूरी रचना पढ़ गये, शुरू करने के बाद रोकना संभव ही नहीं था। इतनी प्यारी और मन को प्रफ़्फुलित करने वाली रचना के लिए शुक्रिया और जन्म दिन की बधाई। शब्दों का संयोजन अनुपम है और सटीक भी। स्त्री के आपने दौ व्यक्तित्व की बहुत सुंदर व्याख्या की है और सच मे सभी स्त्रियाँ के दोहरे, तीहरे... व्यक्तित्व होते हैं। करीब सभी अपने आपको इस रचना मे पाएँगी।
डा० पाण्डे ने बहुत सुंदर लिखा है,
तू अगर ना होती तो
ये समाँ ना होता
ये जमीँ ना होती
ना आसमाँ होता
ये धरा का नजारा ना होता
औरत अगर ना होती तो
ये सँसार ना होता
माँ भी तू है
बेटी भी तू है
हाँ किसी की पत्नी भी तू है
अगर तू ना होती तो ये
पुरूष बाप पति या बेटा ना होता
तेरी शक्ती ना होती
तेरी भक्ती ना होती
ये शिव और कुछ नही बस शव होता।
सच है, या तो कुछ होता ही नहीं और अगर होता तो वह इतना सुंदर ना होता।

kshama ने कहा…

Aapko apne jeewn ke liye anek shubh kamnayen!

sushma 'आहुति' ने कहा…

प्रभावशाली अभिवयक्ति... अपने वक्तितव.की.....

pran sharma ने कहा…

SUNDAR JANM DIWAS AUR US PAR KAVITAAON MEIN KARTAVYON SE
OTPROT AAPKAA ANUPAM JEEWAN .
BAHUT - BAHUT BADHAAEE AUR
SHUBH KAMNA AAPKO AUR AAPKE
PARIWAAR JANON KO .

pran sharma ने कहा…

SUNDAR JANM DIWAS AUR US PAR KAVITAAON MEIN KARTAVYON SE
OTPROT AAPKAA ANUPAM JEEWAN .
BAHUT - BAHUT BADHAAEE AUR
SHUBH KAMNA AAPKO AUR AAPKE
PARIWAAR JANON KO .

हिमांशु । Himanshu ने कहा…

जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!
खूबसूरत रचना ।

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

अर्थपूर्ण....सशक्त अभिव्यक्ति
हर औरत के मन के भाव लगे आपके विचार , शुभकामनायें स्वीकारें ...

आमिर दुबई ने कहा…

वाह क्या रचना है.जबरदस्त .

मोहब्बत नामा
मास्टर्स टेक टिप्स

Dr. shyam gupta ने कहा…

----वह जो दूसरा व्यक्तित्व है वह इसीलिये निखर पाता है कि पहला व्यक्तित्व अपने पूर्ण रूप में अस्तित्व में आपाया...यह पहला व्यक्तित्व ही नारी का मूल व्यक्तित्व है जो अन्य विभिन्न व्यक्तित्वों, नारी आयामों को संकल्प व शक्ति देकर जन्म देता है...
---और जो दूसरा ( व दूसरे) व्यक्तित्व हैं वे सदैव ही पहले व्यक्तित्व की महत्ता को और भी अधिक स्पष्टता से स्थापित करते हैं |
---क्या यह समन्वित व्यक्तित्व ही "नारी" नहीं है ?

योगेश शर्मा ने कहा…

mantramugh hoon...bas itna hee kahoonga. :)

रश्मि ने कहा…

एक औरत एक साथ कई जिंदगी जीती है....आपने हर पहलू को बहुत सुंदरता के साथ बताया है। बधाई...

Ramakant Singh ने कहा…

ना आत्ममुग्धता
ना आत्मस्लाघा
खुबसूरत समर्पण

Reena Maurya ने कहा…

बहूत सुंदर ह्रदयस्पर्शी रचना..
प्रभावशाली भाव अभिव्यक्ती...

प्रेम सरोवर ने कहा…

बेहतरीन प्रस्‍तुति। मेरे नए पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । धन्यवाद ।

Onkar ने कहा…

जन्म दिन की बधाई. बहुत सुन्दर रचना

राजेश उत्‍साही ने कहा…

ये कबूलनामा पसंद आया।

Rakesh Kumar ने कहा…

ओह!
बहुत खूब.
जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएँ.
बाहरी 'मै' एक दो क्या हजार हो सकते हैं.
पर आंतरिक 'मैं' तो स्थूल,सूक्ष्म और कारण से परे 'सत्-चित-आनन्द मय'
ही है वंदना जी.

बाहरी 'मैं' को आप कितनी भी अभिव्यक्ति दीजियेगा
आतंरिक तो हमेशा एक मौन,शांत गंभीर आनन्द सागर है.