अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 23 जून 2012

बस कहानियों की खुरचन बच जाती है





अकाल

जिसमे नही कोई काल

काल तो खुद

काल कवलित हो गया

सिर्फ़ एक दृश्य

बाकी रहता है

जो मूँह जोये 
खडा रहता है
और अपनी बरबादी पर
खुद ही अट्टहास करता है
कल तक जहाँ दरिया बहा करते थे
आज वहाँ एक बूँ द पानी 
भी खुद को ना देख पाता है
छातियाँ धरती की ही नही फ़टतीं
हर छाती पर इतनी गहरी दरारें
उभर आती हैं जिसमे
सागर का पानी भी कम पड जाता है
आकाश की आग तो धरती सह लेती है
पर उस आग की तपिश ना सह पाती है
जिसमे मासूम ज़िन्दगियां झुलस जाती हैं
फ़ाकों पर इंसान तो रह लेता है
पर बेजुबान जानवरों की तो जान पर बन आती है

वक्त की तपती आँच पर जलते
बेजुबानों की सिसकती आवाज़
बिल से बाहर रेंगने लगती है

ना धरती पर जगह मिलती है

ना आकाश ही हमदर्दी दिखाता है

घर ,आँगन ,नदी ,तालाब ,पोखर
कच्ची- पक्की पगडंडियाँ
सूखे झाड- खंखाड 
उजाड बियाबान बस्ती 
बिना किसी आस के
शमशान मे तब्दील हो जाती हैं
एक जलता रेगिस्तान 
बाँह पसारे सबको 
स्वंय मे समाहित कर लेता है

हर चूल्हे की आग तो जैसे

हवाओं मे बिखर जाती है

तवों की ठंडक हड्डियों मे उतर आती है

और लाशों मे तब्दील हो जाती है

उस अकाल मे काल भी झुलस जाता है

सिर्फ़ राख का ढेर ही नज़र आता है
बस कहानियों की खुरचन बच जाती है
धरती का सीना उधेडती हुयी
किसी तश्तरी मे भोज सामग्री उँडेलती हुयी
अकाल का ग्रास बनती हुयी …………




21 टिप्‍पणियां:

सदा ने कहा…

भावमय करते शब्‍दों का संगम .. उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ।

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

सराहनीय चिंतन

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

vastvikta ka darpan ....bahut acchi prastuti vandana jee ....mera blog aapke intjaar me hai...

expression ने कहा…

excellent expression vandana jee

regards

anu

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

अकाल सब खा जाता है..

dheerendra ने कहा…

सराहनीय मन के भावों की सुंदर प्रस्तुति

MY RECENT POST:...काव्यान्जलि ...: यह स्वर्ण पंछी था कभी...

इमरान अंसारी ने कहा…

आपके शीर्षक अनायास ही मन मोह लेते है ....बहुत खूब।

रश्मि प्रभा... ने कहा…

खुरचन ही शेष है .... कहानियाँ ढूँढने को

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

kuchh khurchan hame bhi mil jate shabdo ke to kuchh rachna type bana dalte:)

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

जीवंत दृश्य दिखा दिया है अकाल का ... संवेदनशील प्रस्तुति

Reena Maurya ने कहा…

pidito ki dasha unake manobhav ko shabd de diye hai apne..
gahan bhav liye behtarin post...
:-)

Noopur ने कहा…

Bohot hi sundar likha h. . . har pal rang bdalti bus yahi zindagi h... yadein hi hoti h jo hmesha sath rehti h.... :)

Ramakant Singh ने कहा…

excellent expression and full of emotions with true and deep feelings.

वाणी गीत ने कहा…

अकाल की विभीषिका साकार हो रही है !

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

बारिश की शुरूआत में ही अकाल का खयाल! शुभ शुभ लिखना पड़ेगा, डर लगता है।

रचना दीक्षित ने कहा…

बस कहानियों की खुरचन बच जाती है,

क्या बात है बहुत सुंदर चिंतन. खूबसूरत अभिव्यक्ति.

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत ही सटीक वर्णन किया है, शुभकामनाएं.

रामराम.

mridula pradhan ने कहा…

prabhawshali.....

Rachana ने कहा…

kahaniyon ki khurchan kya line hai
rachana

RAJWANT RAJ ने कहा…

behtreen our sach ke behad kreeb se gujarti prstuti .

RAJWANT RAJ ने कहा…

sach ke behad kreeb se gujarti ek behtreen prstuti .