अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

रविवार, 28 अगस्त 2011

कालजयी नही बन सकती.............

वो कहते हैं मुझसे
कालजयी बन जाओ

भाषा शैली को दुरुस्त करो
मगर कैसे कालजयी बन जाऊँ

कैसे भावों से खिलवाड़ करूँ
अपने सुख के लिए लिखती हूँ
भावों में ही तो बस जीती हूँ
कैसे उनका भी व्यापार करूँ
वक्त की कसौटी पर खरा उतरने के लिए
कैसे खुद पर अत्याचार करूं
अब कसौटियो पर नही जी सकती
सबके लिये नही बदल सकती


भाव ही मेरी पूंजी हैं
भाव ही मेरा जीवन हैं
भाव बिना शून्य हूं
भावों को ही जीती हूँ
भावों को ही पीती हूँ
भाव ही मेरी थाती हैं
कैसे उनसे समझौता करूँ
कैसे भावों का त्याग करूँ
खुद से विश्वासघात करूँ
और रूह को लहूलुहान करूँ
फिर कहो कैसे शैली को बदलूं मै
कैसे भावों को कुचलूं मै
फिर मै ना मै रह पाऊंगी
अपने ही हाथों ठगी जाऊँगी
मुझे मुझसे जुदा मत करना
जैसी हूं बस वैसा अपना लेना
अब कालजयी नही बन सकती
कालजयी नही बन सकती............


28 टिप्‍पणियां:

पत्रकार-अख्तर खान "अकेला" ने कहा…

vndna bahn aap apne vicharon par hi adi rahen tbhi sahity or smaaj ka bhlaa ho skegaa kalajyi na bne pliz ..akhtar khan akela kota rajsthan

mahendra verma ने कहा…

भाव ही पूंजी है, भाव ही जीवन है।
सुंदर सृजन।

संध्या शर्मा ने कहा…

कैसे भावों से खिलवाड़ करूँ
अपने सुख के लिए लिखती हूँ
भावों में ही तो बस जीती हूँ
कैसे उनका भी व्यापार करूँ
वक्त की कसौटी पर खरा उतरने के लिए
कैसे खुद पर अत्याचार करूं
अब कसौटियो पर नही जी सकती
सबके लिये नही बदल सकती...

वंदनाजी बेमिसाल शब्द रचना है आपकी...ऐसा लग रहा है मेरी ही अंतरात्मा से निकले हैं ये शब्द और विचार... आप की तरह मैं भी नहीं बदल सकती कभी नहीं किसी के लिए भी नहीं...

कुश्वंश ने कहा…

बहुत खूब वंदना जी , यु ही बरकरार रखे भावनाए और तेवर शशक्त रचना के लिए बधाई

kshama ने कहा…

मुझे मुझसे जुदा मत करना
जैसी हूं बस वैसा अपना लेना
अब कालजयी नही बन सकती
कालजयी नही बन सकती............
Kya gazab likhti ho....mai to hamesha nishabd ho jatee hun!

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

कैसे भावों से खिलवाड़ करूँ
अपने सुख के लिए लिखती हूँ
भावों में ही तो बस जीती हूँ
कैसे उनका भी व्यापार करूँ


अत्यंत उत्कॄष्ट बात कही आपने, यह समझ आजाये तो यह लिखना भी ईश्वर की इबादत है, बहुत शुभकामनाएं.

रामराम.

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

अपने सुख के लिए लिखती हूँ
भावों में ही तो बस जीती हूँ
कैसे उनका भी व्यापार करूँ...

वाह! उत्तम प्रस्तुति...
सादर बधाई...

Suresh kumar ने कहा…

वंदना जी क्या खूब लिखा है आपने
दिल को छु लेने वाली कविता है
..........धन्यवाद्.....

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

भावों का गुबार जब स्थिर होता है तो कालजयी रचना बनती है।

mridula pradhan ने कहा…

wah......

sushma 'आहुति' ने कहा…

बहुत ही खुबसूरत भावमयी रचना...

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

भावशून्य होकर कोई भी प्रस्तुति कैसे दी जा सकती है ? अपनी भावनाओं को अपनी ही शैली में अभिव्यक्त करती रहें । शुभकामनाएँ...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बिना भावों के कुछ लिखना मुश्किल है .. अच्छी प्रस्तुति ...

Dr Varsha Singh ने कहा…

कैसे खुद पर अत्याचार करूं
अब कसौटियो पर नही जी सकती
सबके लिये नही बदल सकती...

मन को छू लेने वाली रचना....

मनोज कुमार ने कहा…

लिखती अपने सुख के लिए
कैसे भावों से खिलवाड़ करूँ

भावों में ही बस जीती हूँ
कैसे उनका व्यापार करूँ

बस ऐसे।
बाक़ी आपकी भावनाएं आपकी हैं, भावभूमि भी।

Babli ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना! आपकी लेखनी को सलाम! बेहतरीन प्रस्तुती!
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

सदा ने कहा…

कैसे भावों से खिलवाड़ करूँ
अपने सुख के लिए लिखती हूँ
भावों में ही तो बस जीती हूँ
कैसे उनका भी व्यापार करूँ
हर शब्‍द गहराई लिये हुये ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

इमरान अंसारी ने कहा…

बहुत सुन्दर वंदना जी.......सही बात है कुछ बदलने से बनावट आ जाती है जो सादगी को छीन लेती है.......

Rajey Sha राजे_शा ने कहा…

सही लि‍खा है कालजयी होने की भी क्‍या तुक
कवि‍ता का वि‍षय

कुमार राधारमण ने कहा…

बहुधा,अपने जीवन काल में ही कालजयी बन जाना नहीं हो पाता। और उसके बाद,आलोचक ही कालजयी घोषित करते नहीं अघाते।

PRAN SHARMA ने कहा…

Vandana ji , aap ke bhaav kaljayee
hain . Shubh kamnaayen .

डॉ0 ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Dr. Zakir Ali 'Rajnish') ने कहा…

इसी तरह से मन से लिखती रहीं, तो ब्‍लॉगजगत में कालजयी बनने से कोई नहीं रोक पाएगा।

------
कसौटी पर शिखा वार्ष्‍णेय..
फेसबुक पर वक्‍त की बर्बादी से बचने का तरीका।

अरूण साथी ने कहा…

भावों में ही तो बस जीती हूँ
कैसे उनका भी व्यापार करूँ

सुन्दर अहसास
शाश्वत जीवन का आधार

Rajesh Kumari ने कहा…

bahut bhaavpoorn post hai sahi likha hai doosro ke kahne par badalna khud ki aatma ko dhoka dena hoga.

JHAROKHA ने कहा…

vandna ji
sach! aapki yah rachna kisi kaljai se kam nahi lagi .
kitni sundarta ke saath aapne ek yatharth ko is rachna ke madhyam se darshya hai.
iaske aage kya likhun-----?
nihshabd ho gai hun main to.
bahut bahut badhi
poonam

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

सीधे ह्रदय की बात कह दी वंदना जी !
कविता का मूल या यूँ कहें कि कविता का प्राण उसका भाव ही होता है |
शब्दों की ऐसी जादूगरी से क्या फायदा जिसमे भाव ही न हो ...

Rakesh Kumar ने कहा…

आह! आप तो कालजयी ही बनती जा रहीं हैं,वंदना जी.यूँ लगता आपकी इस प्रस्तुति में मानो भाव समुन्द्र ही उमड़ आया है.उमं तो आपने डुबो ही दिया है.आभार.

Dr.Bhawna ने कहा…

khubsurat rachna..