अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 26 मई 2011

यहाँ तो आसमाँ बचा ही नहीं

अब नही होगा कोई पुनर्गठन
जानती हूँ ...........
कुछ बचे तो होता है
पुनर्गठन ............
मगर जहाँ कुछ बचा ही ना हो
हाथ से लकीरें भी
छिन गयी हों
लाश से कफ़न भी
छिन गया हो
दीपक से लौ
छिन गयी हो
आसमाँ से सूरज
और धरती से वायु
छिन गया हो
वहाँ तो सिर्फ
दूर दूर तक
भयावह सन्नाटे
चीखते हैं
और सन्नाटों की चीखें
सन्नाटों में ही
दफ़न हो जाती हैं
बिना कोई आवाज़ किये
बिना अपनी पहचान दिए
तो कहो फिर
किसका हो पुनर्गठन ?
और कैसे ?
यहाँ तो आसमाँ बचा ही नहीं
फिर दिन कैसे ढलेगा
और शाम कैसे उतरेगी
सात फेरों की अग्नि
में होम हुए उस
नाम वाले बेनाम रिश्ते में
सुबह तो कब की
दफ़न हो चुकी है

36 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

आदरणीय वन्दना जी
नमस्कार !
हर शब्‍द बहुत कुछ कहता हुआ, बेहतरीन अभिव्‍यक्ति के लिये बधाई के साथ शुभकामनायें ।

सदा ने कहा…

नाम वाले बेनाम रिश्‍ते में...

बेहतरीन शब्‍द रचना ।

Rakesh Kumar ने कहा…

हरे राम राम,ये तो प्रलय के से लक्षण दिखलाई पडतें हैं वंदनाजी.
आजकल आपकी लेखनी बहुत ही डराने लगी है.
कुछ शुभ शुभ स्वप्न भी देखिये ना.

Ashutosh Pandey ने कहा…

जीवन के अन्तःस्थल तक पहुचना हर इंसान का ख्वाब होता है, (अब नही होगा कोई पुनर्गठन /जानती हूँ .........../कुछ बचे तो होता है पुनर्गठन ............/मगर जहाँ कुछ बचा ही ना हो) दार्शनिक रूप से कहें या फिर कवित्त सौंदर्य, ये कविता सिर्फ भावों की ...अभिवयक्ति नहीं, वरन एक पूर्ण जीवन दर्शन है, जिसे कहने के लिए तुलसीदास ने रामचरित मानस को रचा, श्री कृष्ण को कुरुक्षेत्र जाना पडा अर्जुन का सारथी बन, उसे वन्दना ने बस यूं ही कह दिया. कितना आसान है उनके लिए काव्य....., (सात फेरों की अग्नि/ में होम हुए उस/ नाम वाले बेनाम रिश्ते में/ सुबह तो कब की/ दफ़न हो चुकी है) जीवन हर भंगिमा को इस कदर गहराई से व्यक्त करती हैं की मानों खुद ही जीवन के रंगमंच पर ये अभिनीत कर रही हों. मैं आज इस सदी की सर्वोत्कृष्ट रचना से रूबरू हुआ हूँ, इस पर टिप्पणी करना मेरे बस में नहीं, काव्य की इतनी गहरी समझ और सोच भी नहीं, फिर जो बना कह दिया...... शब्द कम पड़ते को कोई बात नहीं, आज पहली बार वाक्य विन्यास में भी काफी सोचना पडा.

: केवल राम : ने कहा…

यहाँ तो आसमाँ बचा ही नहीं
फिर दिन कैसे ढलेगा
और शाम कैसे उतरेगी
सात फेरों की अग्नि
में होम हुए उस
नाम वाले बेनाम रिश्ते में
सुबह तो कब की
दफ़न हो चुकी है


वर्तमान समय में आसमान न बचना इंसान के मन में संकीर्णता पैदा होने के कारण है ....जब इंसान के मन में खुलापन रहा ही नहीं तो फिर सारे रिश्ते ...धीरे धीरे रिस जाते हैं ...और जिन्दगी संवेदना हीन होते हुए अनाम हो जाती है ....बहुत सुन्दरता से आपने इस भाव को अभिव्यक्ति दी है ...आपका आभार

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

इन दिनों आपकी कविताओं का फलक इतना व्यापक हो रहा है कि रिश्तों की समस्त श्रृष्टि उसमे समा रही है... अभिव्यक्त हो रही है.. बहुत बढ़िया...

सुज्ञ ने कहा…

भयावह सन्नाटे का आक्रोश व्यक्त हुआ है।

अर्थ गम्भीर रचना!!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

कभी कभी सब कुछ खो जाता है ... तो गठन आसान नही होता .. अच्छा लिखा है ...

इमरान अंसारी ने कहा…

बहुत खूब.....आसमान ही नहीं बचा....सर से छत ही छीन गयी.....लाजवाब|

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सात फेरों की अग्नि
में होम हुए उस
नाम वाले बेनाम रिश्ते में
सुबह तो कब की
दफ़न हो चुकी है

करुण वेदना ....

Maheshwari kaneri ने कहा…

यहाँ तो आसमाँ बचा ही नहीं
फिर दिन कैसे ढलेगा
और शाम कैसे उतरेगी
सात फेरों की अग्नि
में होम हुए उस
नाम वाले बेनाम रिश्ते में
सुबह तो कब की
दफ़न हो चुकी है
बहुत सुन्दर पँक्तियाँ हैं ………मेरे मन को छू गई

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

जब दूसरों की स्वच्छन्दता के आसमान को खाने में हम लग जाते हैं तो किसी का आसमान नहीं बचता है।

shikha varshney ने कहा…

उफ़ इतना कुछ हो गया..
क्या क्या लिखने लगी हैं आजकल :)
पर है बहुत सशक्त .

Apanatva ने कहा…

और सन्नाटों की चीखें
सन्नाटों में ही
दफ़न हो जाती हैं
बिना कोई आवाज़ किये
बिना अपनी पहचान दिए
तो कहो फिर
किसका हो पुनर्गठन ?
और कैसे ?
यहाँ तो आसमाँ बचा ही नहीं
फिर दिन कैसे ढलेगा
और शाम कैसे उतरेगी
सात फेरों की अग्नि
में होम हुए उस
नाम वाले बेनाम रिश्ते में
सुबह तो कब की
दफ़न हो चुकी है

behatreen lekhanaur shavd rachana.

वीना ने कहा…

बेहतरीन भाव और खूबसूरत शब्दों का संयोजन...

ZEAL ने कहा…

ऐसा महसूस हुआ मनो सुनामी के बाद के विकराल स्वरुप को चित्रित किया गया हो। अद्भुत !

Rajesh Kumari ने कहा…

isko kah sakte hain ek bolti hui rachna.ek ek shabd bol raha hai.yahi is rachna ki khaasiyat hai.gahan abhivyakti ki is rachna ke liye dheron badhaai.

संध्या शर्मा ने कहा…

यहाँ तो आसमाँ बचा ही नहीं
फिर दिन कैसे ढलेगा
और शाम कैसे उतरेगी
सात फेरों की अग्नि
में होम हुए उस
नाम वाले बेनाम रिश्ते में
सुबह तो कब की
दफ़न हो चुकी है

बहुत ही प्रभावशाली रचना है... एक एक पंक्ति दिल की तह तक जाती है.......

कुश्वंश ने कहा…

यहाँ तो आसमाँ बचा ही नहीं
फिर दिन कैसे ढलेगा
और शाम कैसे उतरेगी
सात फेरों की अग्नि
में होम हुए उस
नाम वाले बेनाम रिश्ते में
सुबह तो कब की
दफ़न हो चुकी है

शाम अभी बाकी है दफ़न होने के लिए, फिर रात आयेगी , फिर आयेगा सवेरा , इन्द्रधनुषी रंगों से प्रस्फुटित तब खिलेंगे फूल आयेंगी बहारें , प्रकृति निराश नहीं करती किसी को. वंदना जी , बेहतरीन मर्मान्तक शब्दांकन के लिए आपका अभिनन्दन

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर और भावपूर्ण प्रस्तुति!

kshama ने कहा…

Aaah! Phirbhee kahungee,waah!

राज भाटिय़ा ने कहा…

एक बहुत अच्छी रचना, धन्यवाद

विवेक मिश्र ने कहा…

जिंदगी की सच्चाइयों को बड़ी खूबसूरती से बयाँ करती हुई आपकी रचना है |

M VERMA ने कहा…

अंतर्वेदित एहसास और मिथ्या आडम्बर से विद्रोह की छटपटाहट ....

रचना दीक्षित ने कहा…

बेहतरीन भाव और खूबसूरत शब्दों का संयोजन प्रभावशाली रचना

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

आपने अपनी कविता द्वारा जीवन की बात बताई है ... आधुनिक समाज का जीवन ... उलझनों का जीवन ...

Amrita Tanmay ने कहा…

सन्नाटे को चीड़ देने वाली रचना ..प्रभावी ...

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर...मन के भाव जो स्पष्टता लिए हैं.....वो बेहतरीन हैं....

सुमन'मीत' ने कहा…

bahut khoob ....laajwab

मनोज कुमार ने कहा…

एक बहुत अच्छी रचना के लिए बधाई।

PK Sharma ने कहा…

bahut accha

JHAROKHA ने कहा…

avandana ji
sarv pratham to dil se dhnyavaad aapka jo aapne mere blog par aakar apna bahumuly samarthan duya
sach! badi hi prasnnta hui .
aapki kavita darshnikta liye hue hai .bahut hi gahrai se aapne shabdo ka jo gath-badhan kaiya vah waqai bahut hi kabile tarrif hai .
bahut hi gahan manan aur chitan ke baad hi aapne apni kavita ko itne gahrai se likh kar use vistaar diya hai.
bahit ho gahan abhivykti sepurn aapki is behatreen post ke liye
hardik badhai.
poonam
idhar kuchh dino se net par koi prblem ho rahi thi .kahi bhi koi bhi comments post nahi ho pa rahe the .kal se kuchh kam karna shuru kiya hai kb daga de jaye koi bharosa nahi.
isiliye subah ke sadhe paanch baje se hi net par chipak gai hun .aakhir apne aadarniy v snehi jan ko tippni jo dalni hai .
sheshhh -shubh
poonam

mahendra verma ने कहा…

एक विशेष भावदशा में सृजित इस कविता में आवेगपूर्ण आक्रोश व्यक्त हुआ है।
यह भावगंभीर कविता बहुत कुछ सोचने के लिए विवश कर रही है।

nilesh mathur ने कहा…

बेहतरीन अभिव्यक्ति!

ज्योति सिंह ने कहा…

तो कहो फिर
किसका हो पुनर्गठन ?
और कैसे ?
यहाँ तो आसमाँ बचा ही नहीं
फिर दिन कैसे ढलेगा
और शाम कैसे उतरेगी
gahri chinta darshati hui rachna ,likha bahut sundar hai

Dr Varsha Singh ने कहा…

यहाँ तो आसमाँ बचा ही नहीं
फिर दिन कैसे ढलेगा
और शाम कैसे उतरेगी
सात फेरों की अग्नि
में होम हुए उस
नाम वाले बेनाम रिश्ते में
सुबह तो कब की
दफ़न हो चुकी है


शब्द-शब्द संवेदनाओं से भरी मार्मिक रचना ....
बहुत ही कोमल भावनाओं में रची-बसी इस खूबसूरत रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई।