अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 18 फ़रवरी 2011

वो मुझमे क्या ढूँढता था ................

कभी दिन तो कभी रात ढूँढता था
कभी सुबह का मसीहा बनाता था
कभी शाम की दुल्हन बनाता था
कभी भरी दोपहर में चाँद दिखाता था
वो मुझमे क्या ढूँढता था ..................


कभी तमन्नाओं की पायल पहनाता था
कभी आस के बिस्तर पर सुलाता था
कभी ख्वाब सा मुझे सजाता था
कभी गुलाब सा खिल जाता था
वो मुझमे क्या ढूँढता था ....................


कभी चिंदियों सा बिखर जाता था
कभी सुनहरी धूप सा मुरझाता था
कभी आसमां सा शरमाता था
कभी सांसों सा धड़क जाता था
वो मुझमे क्या ढूँढता था ......................


कभी चाँद को जूडे में सजाता था
कभी सितारों की नथनी बनाता था
कभी धरा के कंगन बनाता था
कभी परिंदों सा चोंच लडाता था
वो मुझमे क्या ढूँढता था..................


मेरा अतीत अपना वर्तमान ढूँढता था
शायद वो मुझमे कोई मकां ढूँढता था
कोई तो बता दे इक बार
वो मुझमे क्या ढूँढता था ................

47 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत उम्दा!!

वो शायद अपना अस्तित्व ढूँढता है...कौन जाने!!

संजय भास्कर ने कहा…

आदरणीय वंदना जी..
नमस्कार
इतने सारे खूबसूरत एहसास एक साथ ...
कैसे समेटे इन्हें एक टिप्पणी में
बहुत ख़ूबसूरत हमेशा की तरह ...!

Deepak Shukla ने कहा…

Hi..

Tujhme apna aks liye wo..
Khud ko Dhundha karta hoga..
Tujhe sajakar, tujhe hansakar..
Wo har roz nirakhta hoga..
Preet esi ko kahte hain jab..
'Main' na rahta kisi ke man main..
Sansen 'uski' chalti rahti..
Jeevan sang uske bhi tan main..

Sundar bhav..

Deepak..

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

रहिमन हीरा कब कहे, लाख टका है मोल!

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

इसी उत्तर के तलाश में सारी उमर निकल जाती है..... बढ़िया कविता..

अख़्तर खान 'अकेला' ने कहा…

aek sundr pyaar kaa bhtrin chitrn achchi mnzr kshi he bdhai. akhtar khan akela kota raajsthan . akhtar khan akela kota rajsthan

शिखा कौशिक ने कहा…

bahut gahan bhavon ko sanjoye umda prastuti .

Swarajya karun ने कहा…

सुबह का मसीहा,शाम की दुल्हन , तमन्नाओं की पायल, वाकई दिल को छू लेने वाले प्रतीकों से सजी एक सुंदर कविता. आभार.

दीप्ति शर्मा ने कहा…

vo sirf pyar dhundhta tha
khubsurat rachna
..

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...... अजब है तलाश का द्वन्द

सदा ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर ...यह तलाश ...।

mridula pradhan ने कहा…

bahut achche bhaw ki kavita hai....

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

मेरा अतीत अपना वर्तमान ढूँढता था
शायद वो मुझमे कोई मकां ढूँढता था

बहुत खूबसूरत बिम्बों से अपनी बात सहजता से लिखी है ...सुन्दर अभ्व्यक्ति ...

: केवल राम : ने कहा…

जीवन विरोधाभासों का संगम है ....यहाँ व्यक्ति की अपनी -अपनी तलाश है ..सब कल्पना में जीते हैं ..और यथार्थ को नजरंदाज करते हैं .....आत्मविभोर करती प्रस्तुति

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

jo bhi dhundhta tha............mujhe lagta hai wo khud se jayda pyar karta tha...:)

kya kahen...ek dum se niruttar kar deti hai aapki har post!!

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

हर कोई हर किसीमें कुछ न कुछ ढूँढता है ... सुन्दर !

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

खुबसुरत एहसासों से सजी बहुत ही सुंदर रचना......

Akshita (Pakhi) ने कहा…

सुन्दर सी रचना ....अच्छी लगी.
______________________________
'पाखी की दुनिया' : इण्डिया के पहले 'सी-प्लेन' से पाखी की यात्रा !

राजेश उत्‍साही ने कहा…

वह खुद को ही ढूंढ रहा होता है।

Rajey Sha ने कहा…

वाह वन्‍दना जी,कर्म सारे पवन जी के और कवि‍तानुमा बनाकर श्रेय आप ले रही हैं।

dev ने कहा…

सुंदर......

shikha varshney ने कहा…

वो खुद को ही ढूंढता है शायद ..बहुत खूब.

Brijendra Singh... (बिरजू, برجو) ने कहा…

वाह..उत्कृष्ट भाव वंदना जी.. कभी हम अपने अहसासों को दूसरों में महसूस करने की कोशिश करते हैं..शायद यही हाल रहा होगा..

Rajey Sha ने कहा…

स्‍त्री को नमन करती एक रचना
http://rajey.blogspot.com/ पर

डॉ टी एस दराल ने कहा…

यह रचना तो वेलेंटाइन डे को समर्पित होनी चाहिए । सुन्दर ।

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

शायद स्वयं की ही तलाश रही होगी? बहुत ही उत्कृष्ट रचना.

रामारम.

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (19.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत ही सुंदर

Dilbag Virk ने कहा…

bhut sunder prstuti

***Punam*** ने कहा…

dhoondhne vale ko bhi shaayad ye pata nahin hoga ki vo kya dhoondh raha hai.....
aaj yahan ,kal vahan....
bas kuchh khoj raha hai-kya????
koi usi se poochhe....!!

chirag ने कहा…

bahut khoob poem
and bahut hi shandar blog

check my blog also
and if you like it please follow it
http://iamhereonlyforu.blogspot.com/

एस.एम.मासूम ने कहा…

बहुत ही सुंदर कविता ..
कुछ इधर की कुछ उधर की
शारीरिक संबंधों को सहमती देनी
जौनपुर शिराज़ ए हिंद भाग १

वाणी गीत ने कहा…

वो मुझे क्या ढूंढता था ...
शायद अपना मकां ढूंढता था ...
सवाल और जवाब दोनों ही तो हैं यहीं !
अच्छी गज़ल !

ehsas ने कहा…

सारे एहसास को आपने एक कविता मे ढाल दिया है। बेहद ही उम्दा।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

व्यक्ति स्वयं का बिम्ब औरों में ढूढ़ता रहता है।

धीरेन्द्र सिंह ने कहा…

रुनझुन में गूंजता एक सप्तरंगी गीत.

sandhya ने कहा…

वो मुझे क्या ढूंढता था ...
शायद अपना मकां ढूंढता था ...
सवाल और जवाब दोनों है, पर अस्तित्व को ढूंढने का ये प्रश्न अनबुझ पहेली सा है... यथार्थवादी रचना..

रंजना ने कहा…

भाव और लय दोनों दृष्टि से कविता बहुत ही मनमोहक बन पडी है...

मेरा तो आग्रह होगा की आप इस सिलसिले तो जारी रखें...

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

वंदना जी, आपका अंदाजे बयां सचमुच गजब का है। बधाई स्‍वीकारें।

---------
ब्‍लॉगवाणी: ब्‍लॉग समीक्षा का एक विनम्र प्रयास।

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत सुंदर अभिव्यक्ति| धन्यवाद्|

amit-nivedita ने कहा…

bahut hi badhiya, nice lines..

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

सुन्दर और भावपूर्ण कविता के लिए बधाई।

Patali-The-Village ने कहा…

व्यक्ति स्वयं का बिम्ब औरों में ढूढ़ता रहता है।

कविता रावत ने कहा…

मेरा अतीत अपना वर्तमान ढूँढता था
शायद वो मुझमे कोई मकां ढूँढता था
कोई तो बता दे इक बार
वो मुझमे क्या ढूँढता था .............
...pyarbhare jajbaaton ko bahut hi masumiyat se saarhtak dhang se prastut kar aapne man kee gahrayee mein dubkar sawal kiya hai.... yaksh prashn yah har kisi ke liye....
sundar bhavbhivykti.

mahendra verma ने कहा…

इस कविता में सुंदर बिम्बों का प्रयोग किया है आपने।
रचना अच्छी लगी।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत बड़ा प्रश्न है ये ... इंसान को कभी कभी खुद भी पता नहीं चल पाता की वो क्या चाहता है ... अच्छी रचना है ..

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

शायद आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार के चर्चा मंच पर भी हो!
सूचनार्थ