अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 17 जुलाई 2010

खुले विचारों वाली औरत

खुले विचारों 
के साथ 
स्वच्छंद उड़ान 
भरती औरत 
माँ बनते ही
वो भी एक 
बेटी की माँ
उस पर 
जवान होती
बेटी की माँ
के सभी 
खुले विचार 
ना जाने कब
दरवाज़े की
चूल में
फँसकर
चकनाचूर
हो जाते हैं 
आधुनिकता का दंभ 
स्वच्छंद विचारों
की खुशबू 
कब कपूर सी
तिरोहित हो जाती है 
पता भी नहीं चलता 
और फिर 
वहाँ रह जाती 
है सिर्फ माँ
एक ऐसी माँ
जो अपनी
जवान होती
बेटी को
समाज के
नरभक्षियों
के हाथों से 
बचाने की 
फिक्र में
रात भर
सो नहीं पाती 
ऊपर से हँसती
मुस्कुराती 
खिलखिलाती
पर भीतर ही भीतर
दहशत में जीती
एक दकियानूसी माँ
कब बन जाती है
पता ही नहीं चलता
हर निगाह में
उसे  सिर्फ
भयावह डरावने
खूँखार चेहरे
नज़र आते हैं


तब तक
जब तक वो
उसके हाथ
पीले नहीं कर देती 



41 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

आपने एक संवेदनशील माँ का ज़िक्र किया है, जिसकी आधुनिकता में भी संस्कारों के पाजेब होते हैं....आज की अंधी आधुनिकता में फिक्र कहाँ !

शिवम् मिश्रा ने कहा…

एक माँ के दिल की भावना को आपने शब्द दिए है ! आभार और बधाइयाँ एक बेहद उम्दा रचना के लिए !

sada ने कहा…

जब तक वो उसके हांथ
पीले नहीं कर देती,
बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों से सजी बेहतरीन रचना ।

अरुणेश मिश्र ने कहा…

वन्दना जी आपको अनेकश: बधाई । आपने यथार्थ का चित्रण करते हुए प्रेरणा भी दी है ।

अजय कुमार ने कहा…

मां के संवदनशील ह्रदय का अच्छा वर्णन ।

Himanshu Mohan ने कहा…

और तब जाकर-
पता चलता है
कि यह डर
यह ख़ौफ़
यह आशंका
कुछ ख़त्म नहीं हुआ
हादसे की परछाइयों से
निकल पाने तक
एक चुप्पी
इन्तज़ार सी -
क्योंकि
पिक्चर अभी बाक़ी है दोस्त!

राजेश उत्‍साही ने कहा…

वंदना जी खुशी हुई कि आज अपने एक नए विषय को उठाया है। कविता सचमुच में एक ऊंचाई पर पहुंचती है। लेकिन अंत में अचानक वह नीचे आ जाती है। मेरे हिसाब से कविता का इससे बेहतर अंत हो सकता था। जिसमें समाज का वह चेहरा और ज्‍यादा अनावृत होता जिसकी बात कविता करती है। वह औरत जो निकलना चाहती है रूढि़यों और संकीर्ण मानसिकता से बाहर। बाहर निकलने के लिए उसे अपनी आंखें,अपना दिमाग खोलना होगा। अपनी वर्जनाओं को तोड़ना होगा। लेकिन बेटी की मां बनते ही वह फिर से उसी खोल में चली जाती है। लेकिन उसका अंजाम क्‍या है, यह इस कविता का अंत होना चाहिए। अन्‍यथा तो आप जिस समाज के बरअक्‍स उस मां को खड़ा करती हैं ,वह न केवल खुद को बल्कि अपनी बेटी को भी उसी समाज को सौंपकर निश्चिंत हो जाती है। और कविता का उद्देश्‍य ही समाप्‍त हो जाता है। उद्देश्‍य है इस समाज का चेहरा सामने रखना।
बहरहाल आपकी कविता के बहाने मैं यह सब कह पाया,शुक्रिया।
मेरे मत में कविता का अंत इस तरह हो सकता था-

तब तक
जब तक कि वो
उसके हाथ
अनजाने ही बाकायदा उनमें से
किसी एक के हाथ नहीं सौंप देती।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

तब तक
जब तक वो
उसके हाथ
पीले नहीं कर देती

--

एक महिला का सार्थक चिन्तन!
--
जिम्मेदारी का आभास हो तो समय से
सारे् कार्य पूरे हो जाते हैं!

वन्दना ने कहा…

@himanshu ji aur @rajesh ji


मै भी समाज की इसी विसंगति की ओर इंगित करने की कोशिश कर रही हूँ।

कविता रावत ने कहा…

Yathrth se bhari sachhi kavita .. Adhunikta ke daur mein bhi yahi haal hai....

राजेश उत्‍साही ने कहा…

रश्मि जी ने इस कविता पर टिप्‍पणी करते हुए एक और बात कही कि इस अंधी आधुनिकता में फ्रिक कहां। मैं आदर के साथ दो बातें कहना चाहता हूं। एक, आधुनिकता अंधी नहीं है शायद हम अंधे होकर आधुनिक होने की कोशिश में लगे हैं। दूसरी बात संस्‍कारों की पाजेब जब तक पाजेब रहे अच्‍छी बात है। लेकिन यही पाजेब कब बेडि़यों में बदलने लगती है,इस पर ध्‍यान देने की बात है।

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

अपने दायित्वों का निर्वहन करने की सोच माँ की होती है ... बहुत ही संवेदनशील भावप्रधान उम्दा रचना......

kshama ने कहा…

Vandna,Rashmi ji se sahmat hun..! Rachana to samvedansheel haihi!

Sunil Kumar ने कहा…

सच्चाई से लिखी गयी रचना को नमन सारगर्भित रचना बधाई

दीपक 'मशाल' ने कहा…

एक निर्मम सत्य है.. एक कलंकित अहसास.. सिर्फ कविता नहीं बल्कि नंगा यथार्थ है..

girish pankaj ने कहा…

sundar kavita. iss samay ko theek-theek samajhane ki koshish bhi hai. ek stree hi iss tarah ki chintaon se gujarati hai. aur maan...? sachmuch ek nari maan banane ke baad doosare nazariye se dekhati hai apne hi chantan ko.

मनोज कुमार ने कहा…

अच्छी अभिव्यक्ति। सार्थक चिंतन।

ktheLeo ने कहा…

आधुनिकता अपनाई तो उसका मोल भी चुकाना होगा!
गुड खा कर गुलगुले से परहेज़ कैसा! बच्चे को "Good Morning!" बोलोगे तो तैयार रहो सुनने के लिये, "I donot agree with you!You are so old fashioned!!"
हमें जीवन से वो ही मिलेगा जिसका हम खुद चयन करेंगे! ’दलिया’'Kellogs' से इस लिये हार गया क्यों कि वो उत्तम पौष्टिकता होते हुये भी, पकाने में मेहनत और Patience मांगता है! आधुनिक मां के पास दोनों नहीं है!
"मैं कोई झूंठ बोलियां!" ’कोई न! जी कोई न!!!!"
बाकी सब भी इसी तरह समझा जा सकता है, जो आधुनिक मां/बाप और बच्चों के बीच घट रहा है!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

एक यथार्थवादी कविता...सच है एक बेटी की माँ आज भी यही सोचती है...आज तो हाथ पीले होने के बाद भी भरोसा नहीं होता की कब कौन भेदिया कहाँ छुपा हुआ है...पर ज़िंदगी है तो आगे बढ़ना ही होगा...चाहे डर कर या संशय में ...

Akhtar Khan Akela ने कहा…

bahn vndnaa ji bhut khubsurt prstuti ort ki schchaayi yhi he ort teri yhi khaani fta he aanchl or aankon men he paane ort teri yhi haani ghurte hen log vhi jiski shrn men tu jati he lutte he vhi jinke paas friyaa tu lekr jati he ort teri yhi khaani lutaa he aanch sehmi he aaankhen aankhon men he paane or luti he jvaani . akhtar khan akela kota rajsthan

Avinash Chandra ने कहा…

jeevan ke shool, waise ke waise saja diye aapne

Razi Shahab ने कहा…

बहुत ही संवेदनशील भावप्रधान उम्दा रचना......

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

:)

सुमन'मीत' ने कहा…

नारी मन के बदलते पहलूओं को उजागर करती रचना
बहुत सुन्दर.......

राजकुमार सोनी ने कहा…

वंदना जी
आज आपने फिर से चौका दिया है
आज सुबह जब सोकर उठा तो मैंने देखा एक चिड़िया अपने बच्चों के साथ इधर-उधर घूम रही थी.
आपकी कविता ने उस चिड़ियां की याद दिला दी.

ajit gupta ने कहा…

वन्‍दना, बहुत अच्‍छी अभिव्‍यक्ति। एक कटु सत्‍य लिख दिया है तुमने।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

मंगलवार २० जुलाई को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है आभार

http://charchamanch.blogspot.com/

arun c roy ने कहा…

maa ka dwand yahan jhalak rhah hai ! parivesh ke anukul vyawhaar pichdrapan to nahi ! saarthak rachna !

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

सत्य है ... बहुत सुन्दर तरीके से आपने एक औरत के जीवन में बदलाव से जुड़े मानसिक बदलाव को उकेरा है ...

PRAN SHARMA ने कहा…

SEEDHEE-SADEE BHASHA MEIN SEDHE-
SADHE BHAAV.BADHAAEE AUR SHUBH
KAMNAAYEN.

Vinay Prajapati 'Nazar' ने कहा…

आपकी रचनाएँ सदैव ही सुन्दर होती हैं

---
गुलाबी कोंपलें

Mahfooz Ali ने कहा…

आपने एक संवेदनशील माँ का ज़िक्र किया है, जिसकी आधुनिकता में भी संस्कारों के पाजेब होते हैं....आज की अंधी आधुनिकता में फिक्र कहाँ !

M VERMA ने कहा…

जब तक वो
उसके हाथ
पीले नहीं कर देती
शायद यह एक पड़ाव है जहाँ फिक्र को हस्तांतरित कर दिया जाता है
बेहतरीन रचना माँ के एहसास को बयाँ करती

Parul ने कहा…

so touchy!

Parul ने कहा…

so touchy!

वाणी गीत ने कहा…

कब बन जाती है वह सिर्फ एक माँ ...
दहशत में जीती ...
ईमानदार कविता ...!

वीना ने कहा…

आज समाज में घूम रहे दरिंदों की वजह से एक बेटी की मां की रातों की नींद उड़ जाती है...जब तक उसके हाथ पीले नहीं कर देती...तब तक वह चैन से सो नही सकती। सच है।...भावपूर्ण रचना

वीना ने कहा…

भावपूर्ण रचना....आज एक बेटी की मां का सच

नीरज गोस्वामी ने कहा…

कडवी सच्चाई से रूबरू करवाती आप की ये कविता विलक्षण है...बधाई..

नीरज

Mahendra Arya ने कहा…

जीवन की सच्चाई बिना किसी लाग लपेट के.......... खूबसूरत अभिव्यक्ति

Renu Sharma ने कहा…

kya baat hai ji
aapko bhi chinta lag gai
vicharon ko bahut sundar shbdon main bandha hai.