अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 6 जुलाई 2010

फलक पे झूम रही साँवली घटाएँ हैं

फलक पे झूम रही साँवली घटाएँ हैं 
मेघ सारे तेरे गेसुओं में उतर आये हैं 


बहक रही फिजा में शोख हवायें हैं
उड़ा के तेरा आँचल नाज़ से इतराए हैं 

 बदरी जो बरस के आज इठलाये है
 जुल्फों के पेंचोखम तेरे भटकाए हैं 

भटकते आवारा बादलों की छटाएँ हैं
गोरी के मुखड़े को क्यूँ लजाएँ हैं 

रिमझिम के गीत हर दिल ने गाये हैं 
लबों पर तेरे सभी उतर आये हैं

अदायें तेरी बिजलियाँ सी गिरायें हैं
खोई- खोई सी तेरी सब अदायें हैं 

मुखड़े पर छाई शोख चंचल अदायें हैं
अरमाँ सारे तेरे आगोश में सिमट आये हैं 

फलक पर झूमते सभी सितारे हैं 
तेरे रूप के आगे सभी शरमाये हैं 

रुखसार पर छाए मोहब्बत के साये हैं 
नैनों में तेरी मेरे अहसास उतर आये हैं 

तेरे रूप पर फ़िदा सारी फिजायें हैं
ये किस मोड़ पे हालात ले आये हैं 

कुछ ख्याल तेरे निगाहों में उतर आये हैं
हम इक ज़िन्दगी वहाँ गुजार आये हैं 

अँखियों के पेंच जब से लड़ाए हैं 
सुबहो शाम तेरे नाम लिख आये हैं 

प्रीत के दीप देहरी पर सजाये हैं 
आस की बाती से सभी जगमगाए हैं

उमड़- घुमड़ कर बदरा जब छाए हैं 
पिय मिलन को सजनिया अकुलाये हैं 


फलक पे झूम रही साँवली घटाएँ हैं
रह -रह कर यादें उनकी सताएँ हैं 


दोस्तों , 
सबसे पहली लाइन पंकज सुबीर जी के ब्लॉग से ली है क्यूंकि वहाँ उन्होंने मुशायरा रखा हुआ है और हमारा उस विधा में हाथ तंग है ----नुक्ता,बहर , मात्रा इन सबसे हम तो अंजान हैं इसलिए वहाँ भेजने का तो सवाल ही नहीं उठता था मगर उस दिन जैसे ही ये पहली पंक्ति पढ़ी दिल झूम उठा और कुछ ख्याल उसी दिन दिल से निकले और कागजों पर उतर आये --------अब इसमें सिर्फ भावों को ही देखियेगा शायरी की रूह मत खोजियेगा क्यूंकि यहाँ तो जो भी लिखा जाता है सिर्फ भावों से ही लिखा जाता है --------उम्मीद है पसंद आएगी .

27 टिप्‍पणियां:

वाणी गीत ने कहा…

saavan aise jhoom kar aaya hai ...
kaise naa bhayegi gazal ...

वाणी गीत ने कहा…

saavan aise jhoom kar aaya hai ...
kaise naa bhayegi gazal ...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

वाह वाह ....आज तो बहुत गज़ब का अंदाज़ है ....बहुत रूमानी सी गज़ल ..सुन्दर..

shikha varshney ने कहा…

क्या बात है सावन में झाम झाम करता खूबसूरत गीत ..पंकज जी कि पंक्तियाँ भी लाजबाब हैं .

नीरज गोस्वामी ने कहा…

आपने सही कहा शायरी के कड़े नियमों को अगर ताक पर रख दें तो आपकी रचना के भाव बहुत सुन्दर हैं...आप में भरपूर प्रतिभा है जब आप इतना सुन्दर लिख सकती हैं तो शायरी के नियमानुसार आपके लिए लिखना अधिक मुश्किल नहीं होना चाहिए...कोशिश कीजिये आपको सफलता जरूर मिलेगी...

नीरज

राजेश उत्‍साही ने कहा…

वंदना जी आपके साथ सुर मिलाकर हम यही कह सकते हैं-

शब्‍द तेरे हमारे मन को भाए हैं

तभी तो लौटलौटकर यहां आए हैं।

राकेश कुमार ने कहा…

मेरे लिये तो आपकी कई उम्दा कविताये गजलो की भान्ति खूबसूरत रही है,मै इस विधा मे आपको पहले से ही सुनता रहा हू, इस बार एक साथ सुन्दर गजलो को देख मे मन [रफुल्लित हो गया, इनमे से से कई तो जैसे भीतर तक छू गयी-

कुछ ख्याल तेरे निगाहों में उतर आये हैं
हम इक ज़िन्दगी वहाँ गुजार आये हैं

कितनी बडी बात कही है इन दो पन्क्तियो मे, यदि इसकी व्याख्या करू तो शायद पन्ने भर जाये. लेकिन टिप्पणी की सीमाओ को ध्यान मे रखते हुये इतना ही कहून्गा, अत्यन्त उम्दा, बस इसे और पैना कीजीये.

निर्मला कपिला ने कहा…

ये सांवली घटायें होती ही इतनी चंचल कि सब का दिल झूम उठे। अच्छी लगी रचना बधाई

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…

उमड़ते घुमड़ते हैं विचार, जगते हैं मन मे भाव। रचना स्वत: लेखनी का दामन थाम लेती है, फिर आव देखा जाता न ताव। बढ़िया ग़ज़ल।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बढ़िया भाव लिए है आपकी यह रचना ! बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

Vandana jee, mujhe to ye technical terms ka to ekdum pata nahi hai......bas aap jaiso ko padh kar ye koshish karta hoon ki kaise emotions ko pen ke through paper pe laya jata hai......:)

उमड़- घुमड़ कर बदरा जब छाए हैं
पिय मिलन को सजनिया अकुलाये हैं

isko padh kar aur Delhi ke mausam ko dekh kar.......koi bhi sajaniya/sajan se milne ko aatur ho sakta hai........:)

aap bahut achchha likhti hain.....!

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

प्रीत के दीप देहरी पर सजाये हैं
आस की बाती से सभी जगमगाए हैं


गीत बहुत ही बढ़िया हैं...आभार.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

yahi gazal yahan ke baadal bhi suna rahe hain......

हिमान्शु मोहन ने कहा…

और भाव तो झमाझम बरस रहे हैं,
तर कर रहे हैं
एकदम भिगो डाला!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

ग़ज़ल के भाव तो बहुत कमाल के हैं ही ... थोड़ी सी मेहनत से ग़ज़ल की बारीक़ियाँ भी आ जाती हैं ... आप प्रयास तो करें .. पंकज जी का ब्लॉग तो सागर है जहाँ से कोई भी बूँद भर सकता है ...

M VERMA ने कहा…

भाव है तो सब कुछ है
बहुत सुन्दर लिखा है आपने

girish pankaj ने कहा…

mujhe yah baat achchhi lagi ki aapne-ghazal ke mamale mey- saty ko sveekaraa. aisaa bahut kam log karte hai. abhyaas aadmi ko hunarmand banaateta hai. khair, fir bhi aapne jo bhavanaaye vyakt kee hain, ve sundar hai. pahale bhaav zarooree hai, shilp to baad mey aa hi jataa hai.

Rajeev Bharol ने कहा…

सुंदर भाव हैं.

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत सुंदर भाव ..

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

सुंदर भाव...वंदना जी सुंदर भाव और विचार होते है फिर तो धीरे धीरे बहर और लय भी आ जाती है....बढ़िया प्रस्तुति...धन्यवाद

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

बदरी जो बरस के आज इठलाये है
जुल्फों के पेंचोखम तेरे भटकाए हैं

वाह क्या बात है ... बारिश का मौसम हो और उसपे पिया मिलन की आस ...

sada ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना, इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये आभार सहित बधाई ।

rashmi ravija ने कहा…

बहुत ही रूमानियत भरी ग़ज़ल लिखी है....एक एक पंक्ति पर मन झूम गया..बारिश का जिक्र जो है...बेहद ख़ूबसूरत रचना

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) ने कहा…

वाह बहुत खूब एक अलग से अहसास में डूबी हुई रचना
सादर
प्रवीण पथिक
9971969084

Virendra Singh Chauhan ने कहा…

Sabhi.. viduanon ne itni achhi-achhi baaten aapki kavita ke baare men kahi hai ..ki kuchh kahne ko bacha hi nahin.
Itna zaroor kahunga ki padhkar maza aa gaya.

navneet ने कहा…

saavan kavita me utar aaya hai.

दीपक 'मशाल' ने कहा…

अच्छा प्रयास. आपका सत्य कथन मुझे भी अच्छा लगा..