अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 2 जुलाई 2010

प्यार तो तब था जब ..........

जब भी मिले 
जिस्म मिले
रूह ने तो
रूह को कभी 
छुआ ही नहीं
कभी किसी को
किसी  से 
प्यार हुआ 
ही नहीं
सिर्फ जरूरतों 
के ख्वाहिशमंद
रिश्तो ने कभी
इक दूजे को
पाया ही नहीं
यूँ ही ज़िन्दगी
गुजार गए 
दिखावटी प्यार 
के भरम में 
मगर प्यार के
तो कभी
करीब से भी 
गुजरा ही नहीं
तेरी मौत पर
रोने वाला 
दो दिन में
तुझको भूल गया 
बता फिर
प्यार वहाँ 
कहाँ हुआ ?
प्यार तो तब था 
जब , तेरे विरह में
उसकी सांस भी
थम  जाती
धड़कन उसकी भी
रुक जाती
रूह से रूह
मिल जाती 

42 टिप्‍पणियां:

kshama ने कहा…

Uske qadmon ki aahat aati rahi,zindagi door se guzarti rahi..." Tumhari rachna padh,dimag me yah panktiyan aa gayin!

Renu Sharma ने कहा…

wah ji wah vandana ji !!
kya baat hai , har din ek naya dhamaka aapki taraf se ho raha hai

sahi baat ko badi spashtta se aapne kah diya hai
bahut khoob
sundar shabd rachna padhne ko mil rahin hain
yahi pyaar ke naam ka dhokha hai , jo der baad samajh aata hai
shukriya.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आज तक समझ नहीं पायी कि प्यार होता क्या है?
खूबसूरत अभिव्यक्ति है....मुझे तो लगता है कि सच्चा प्यार आत्मा और परमात्मा के बीच ही हो सकता है...बाकी तो सब ख़याल ही है ..

Apanatva ने कहा…

sabkee apanee apanee samajh hai..........
pyar dikhta nahee mahsoos kiya jata hai.......dikhava to bus chalava hai..........

arvind ने कहा…

जब भी मिले
जिस्म मिले
रूह ने तो
रूह को कभी
छुआ ही नहीं
......vaah, bahut badhiya.

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

सुंदर और यथार्थ कविता है। पर ऐसा लगा कि इसे मैं पहले पढ़ चुका हूँ। कहीं पहले भी प्रकाशित हुई है क्या?

नरेन्द्र व्यास ने कहा…

अच्छी अभिव्यक्ति ! वंदना जी की रचनाएं अन्तरंग मनोभावों को सरल शब्दों में बयान करती हुई बहुत संवेदनशील होती हैं..जो पाठक को भी अपने साथ बहा ले जाने में सक्षम होती हैं..शुक्रिया और आभार वंदना जी !

राजेश उत्‍साही ने कहा…

पर वंदना जी रूह के लिए जिस्‍म जरूरी है। और रूहों को मिलने के लिए भी। वही तो माध्‍यम है। सच है कि असली प्‍यार तो रूह के मिलने से ही होता है, पर कोई माध्‍यम तो चाहिए।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

प्यार को लेकर एक बहुत ही गहन अभिव्यक्ति !
--
इस सशक्त रचना को प्रस्तुत करने के लिए आभार
के साथ बधाई!

रश्मि प्रभा... ने कहा…

zindagi ka nishkarsh hai yah

shikha varshney ने कहा…

ये प्यार क्या बला है ...मुश्किल सवाल है ..पर आपकी कविता बहुत सुन्दर है .

M VERMA ने कहा…

जब भी मिले
जिस्म मिले
रूह ने तो
रूह को कभी
छुआ ही नहीं
सुन्दर रूहानी एहसास और भाव

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

सचमुच प्यार को बहुत सलीके से बयां किया है आपने।
………….
दिव्य शक्ति द्वारा उड़ने की कला।
किसने कहा पढ़े-लिखे ज़्यादा समझदार होते हैं?

वन्दना ने कहा…

दिनेश जी
ये कविता पहली बार ही ब्लोग पर लगी है …………शायद किसी दूसरी कविता का आपको ध्यान हो।

सुमन'मीत' ने कहा…

वन्दना जी
क्या लिखा है अंत तो गजब का है

Sunil Kumar ने कहा…

दिल की गहराई से लिखी गयी एक सुंदर रचना , बधाई

"अर्श" ने कहा…

aapki rachanaa achhi hai ,.. vastavikata saath me liye huye hai..


arsh

राजकुमार सोनी ने कहा…

हमने देखी है इन आंखों की महकती खूशबू.... गीत की याद आ गई।
सचमुच रूहानी अहसास से तो किसी का कोई नाता नहीं रहा।
इस पवित्रता की शायद अब जरूरत नहीं रह गई है। बाजार ने सारे रिश्तों की वाट लगा दी है।
क्या बढि़या लिखा है आपने।
बहुत ही अच्छा लगा।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बढ़िया !

main... ratnakar ने कहा…

mazaa aa gaya, yaqeenan yeh panktiyaan aane wale lambe samay tak pyar ke maayane kee talash ke lie prerit karatee rahengee, bahut achchhee prastuti ke liye bahut saree badhai

महफूज़ अली ने कहा…

खूबसूरत अभिव्यक्ति है....मुझे तो लगता है कि सच्चा प्यार आत्मा और परमात्मा के बीच ही हो सकता है...बाकी तो सब ख़याल ही है .

दीपक 'मशाल' ने कहा…

कविता हमेशा की सी ताज़ी और बेहतरीन.. आजकल फंसा हुआ हूँ तो नियमित नहीं आ पा रहा.. क्षमाप्रार्थी हूँ..

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

सुंदर अभिव्यक्ति...

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…

प्रेम की अलौकित अभिव्‍यक्ति.

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…

प्रेम की अलौकिक अभिव्‍यक्ति. धन्‍यवाद.

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

बहुत खूब, बहुत खूब।
................
अपने ब्लॉग पर 8-10 विजि़टर्स हमेशा ऑनलाइन पाएँ।

निर्मला कपिला ने कहा…

जब भी मिले
जिस्म मिले
रूह ने तो
रूह को कभी
छुआ ही नही
बहुत अच्छी लगी पँक्तियां। अखिरी पाँक्तियां भी बहुत अच्छी हैं धन्यवाद। बधाई

आशीष/ ASHISH ने कहा…

वंदना जी,
नमस्ते!
छोड़ दे सारी दुनिया किसी के लिए, ये मुनासिब नहीं आदमी के लिए....
कविता बेहद उम्दा है! इस मतलबी दुनिया को आईना दिखाती हुई....
लेकिन आपसे सहमत नहीं हूँ.......
जिस्म ना मिले, दिल भी ना मिले, फिर भी रूहों का रिश्ता हो सकता है!
है ना!
एक और चीज़ आपसे शेयर करना चाहूँगा... एक एस एम एस जो मेरे परम मित्र ने भेजा था.....
कौन किसको दिल में जगह देता है?
पेड भी सूखे पत्ते गिरा देता है!
हम वाकिफ हैं इस दुनिया के चलन से!
मरने पर कोई अपना ही जला देता है!

उन्हें मैंने ये जवाब दिया था:
ये सच है ए मेरे रफीक, हमें आना और जाना है!
किसी को दफ्न होना है, किसी को अपनों ने जलाना है!
मगर जब तक हम और तुम हैं मतलबी इस दुनिया में!
मुझे बस इश्क करना है, तुम्हे उसको निभाना है!

आजकल बैचलर बहुत परेशां है....
इट्स टफ टू बी ए बैचलर!

Virendra Singh Chauhan ने कहा…

Vahut hi sunder tareeke se aapne pyaar ko samjhaane ki koshish ki hai.
Padhkar achha lagaa.

sajid ने कहा…

खूबसूरत अभिव्यक्ति है...
आप की ये नाचीज़ जितनी तारीफ करे कम है...
धन्याद क़ुबूल करे !

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

बहुत कम लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें प्यार का सच्चा अर्थ पता होता है ...
ज्यादातर जो प्यार का दम भरते हैं ... उन्हें बस जिस्म का आकर्षण होता है ...
सुन्दर रचना !

Dr.Ajeet ने कहा…

सक्रिय ब्लागर होने के बाद भी आपका बहुत दिनो से शेष फिर और खानाबदोश पर आना नही हुआ,
ब्लागिंग के टिप्पणी आदान-प्रदान के शिष्टाचार के मामले मे मै थोडा जाहिल किस्म का इंसान हूं लेकिन आपमे तो बडप्पन है ना...!

डा.अजीत
www.monkvibes.blogspot.com
www.shesh-fir.blogspot.com

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सच कहा ... आज प्यार के मायने बदलने लगे हैं ... खूबसूरत अभिव्यक्ति है.....

Vijay Pratap Singh Rajput ने कहा…

सच है, हार्दिक बधाई.
ढेर सारी शुभकामनायें.

शरद कोकास ने कहा…

कविता तो अच्छी है लेकिन इसमे विचार नया नहीं है इसी विचार को कुछ नये तरीके से कहने की कोशिश करें ।

girish pankaj ने कहा…

ab roohen kahaan milati hai. deh hi kafee fai. yahi sachchaai hai.baharhaal kavitaa kavitaa ka dard samajhaa ja sakataa hai.

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

kahan hota hai pyar....bas jismani sambandh ban jate hain....:(

bahut achchhe bhaw!!

Prarthana gupta ने कहा…

kubsoorat abhivayakti......

Prarthana gupta ने कहा…

khoobsurat abhivayakti.....

Prarthana gupta ने कहा…

khoobsurat abhivayakti.....

हास्यफुहार ने कहा…

उत्तम अभिव्यक्ति।

tum to fir ek haqeeqat ho......... ने कहा…

pahli baar aaki rachna padhne ka avsar mila suchmuch behtarin hai...aapki kavitaaye...