पृष्ठ

अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 11 फ़रवरी 2010

चक्रव्यूह

विरह दंश से
पीड़ित धड़कन
तेरे नाम से ही
धड़क जाती है
सोच ज़रा
क्या होगा
उस पल जब
युगों के चक्रव्यूह
में फँसी
जन्म -जन्मान्तरों
से भटकती रूहों
का मिलन होगा
और दीदार को
तरसते नैन
चार होंगे
जब प्रेम अपने
चरम पर होगा
उस चिर प्रतीक्षित
क्षणिक पल में

धड़कन रूक नही जाएगी
साँस थम नही जाएगी
और एक बार फिर
प्रेम , विरह और मिलन
के चक्रव्यूह में
अगले कई युगों तक
कई जन्मो के लिए
रूहें हमारी
फिर उसी दलदल में
फँस नही जाएँगी

19 टिप्‍पणियां:

Preeti tailor ने कहा…

sachmen ek khubsurat kalpana hai ..thodi dari.. thodi sahmi...
jo har pyar ke saath hoti hi hai ..

Randhir Singh Suman ने कहा…

nice

दिगम्बर नासवा ने कहा…

प्रेम विरह के चक्र से निकलना भी कौन चाहता है ....... इस दलदल में डूबने का मज़ा जिसने लिया वो इसका ही हो कर रह जाता है .........

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

प्रेम , विरह और मिलन
के चक्रव्यूह में
अगले कई युगों तक
कई जन्मो के लिए
रूहें हमारी
फिर उसी दलदल में
फँस नही जाएँगी

वाह,,,!
बहुत गहरा मन्थन और संवेदनाओं का चिन्तन
आपकी रचना में बहुत बढ़िया संगम रहा दोनों का!

Yogesh Verma Swapn ने कहा…

vandana ji bhavnaon ki ati uttam abhivyakti hai.

kshama ने कहा…

Behad sundar rachana!

निर्मला कपिला ने कहा…

यी जानते हुये भी कि इस चक्रव्यूह को भीद पाना कठिन है फिर भी इन्सान इस मे जाने से घबराता नही है । बहुत अच्छी लगी ये रचना बधाई

रानीविशाल ने कहा…

बहुत सुन्दर तरिके से विरह की दशा बताई आपने...आभार!
http://kavyamanjusha.blogspot.com/

Himanshu Pandey ने कहा…

सुन्दर रचना । धन्यवाद ।

M VERMA ने कहा…

सोच ज़रा
क्या होगा
उस पल जब
युगों के चक्रव्यूह
में फँसी
जन्म -जन्मान्तरों
से भटकती रूहों
का मिलन होगा
------
अनबोले स्वरों में बात होगी तब
शायद खुद से मुलाकात होगी तब

Razi Shahab ने कहा…

nice

rashmi ravija ने कहा…

prem,virah aur milna ke chakrvyooh ko badi achhi tarah bayaan kiya hai...yah daldal hi to hai...ji se nikal pana kitna mushkilo hai...sundar rachna

रचना दीक्षित ने कहा…

विरह को दर्शाती एक अच्छी रचना
अच्छा लगा पढ़ कर

सुशीला पुरी ने कहा…

waah kya baat hai !!!!!!!

Urmi ने कहा…

महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें !
बहुत ही ख़ूबसूरत और लाजवाब रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! इस शानदार और उम्दा रचना के लिए बधाई!

डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali) ने कहा…

सुंदर शीर्षक के साथ..... लाजवाब और सुंदर रचना....

डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali) ने कहा…

aaj hi lauta hoon....deri se aane ke liye .... maafi chahta hoon....

Unknown ने कहा…

वाह !!......बहुत बढ़िया .......विरह होता ही कुछ ऐसा .

दीपक 'मशाल' ने कहा…

आपने दर्शन को प्रेम में और प्रेम को दर्शन में कुछ इस तरह लिपटा है की पूछिए ही मत... ऐसे ही खूबसूरत कवितायन बनती हैं..
जय हिंद... जय बुंदेलखंड...