अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 10 फ़रवरी 2011

अब अश्रु नही बहाती हूँ

अब अश्रु नही बहाती हूँ
अर्धांगिनी का हर फ़र्ज़
खूब निभाती हूं
अब तुमसे कुछ नही चाहती हूँ
शायद इसीलिये जी पाती हूँ

टाँक दि्या उन बरसो को
आसमाँ पर सितारे बना
जब प्रतीक्षा किया करती थी
हर वेदना के बूँटे बना
सजाया है आसमाँ की चूनर को
अब नीर नही बहाती हूँ
और तुझसे भी कुछ नही चाहती हूँ

डूबा दी वो कश्ती दरिया मे
जिसका साहिल तुम्हे बनाती थी
तुम संग महकने के
बेशुमार इत्र लगाती थी
अब ना दरिया है ना साहिल है
ना महकने की चाहत है
साजन , हाँ , मानो मेरी बात
अब तुम मुझे बुलाते हो
मगर मै ना आ पाती हूँ
मगर
अब न अश्रु बहाती हूँ
और तुमसे भी कुछ ना चाहती हूँ

हर मौसम पर अब मै
धूप की चादर लगाती हूँ
शीत बरखा का अब डर कैसा
ग्रीष्म को गले लगाती हूँ
छालों से मोहब्बत करती हूँ
मगर तुम से ना अब
कुछ चाहती हूँ
और साजन

तुम्हारी भी ना
अब बन पाती हूँ
इसलिये
अब न अश्रु बहाती हूं…………

38 टिप्‍पणियां:

शिखा कौशिक ने कहा…

shayad har stri ke man me ye bhav kabhi n kabhi jaroor uthte hai .yatharth ko udghatit karti bhavabhivyakti .

रचना दीक्षित ने कहा…

बढ़िया कविता स्त्री के मनोभावों को दर्शाती. अभी डाक्टर दराल की लघुकथा पढ़ी. उसकी विषयवस्तु भी कुछ इसी तरह ही थी सुबह सुबह सेंटीमेंटल कर दिया. चलिए बधाई.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

मन भावों ने जब बसन्त के बाद ग्रीष्म देख ली हो तो सब स्वीकार कर लेना है।

sagebob ने कहा…

भाव पूर्ण अभिव्यक्ति.बहुत ही गहन संवेदना.
सलाम

रश्मि प्रभा... ने कहा…

डूबा दी वो कश्ती दरिया मे
जिसका साहिल तुम्हे बनाती थी
तुम संग महकने के
बेशुमार इत्र लगाती थी
अब ना दरिया है ना साहिल है
ना महकने की चाहत है
साजन , हाँ , मानो मेरी बात
अब तुम मुझे बुलाते हो
मगर मै ना आ पाती हूँ
मगर
अब न अश्रु बहाती हूँ
और तुमसे भी कुछ ना चाहती हूँ
antatah yahi hota hai...andar ka basant yun hi maun ho jata hai

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

परिवर्तन.

ajit gupta ने कहा…

अश्रु क्‍यों बहाना? माँ की संतान यदि असंस्‍कारित हो गयी है तो उसे संस्‍कारित करना। लेकिन अश्रु कभी नहीं बहाना।

वाणी गीत ने कहा…

तुम बुलातो हो तो ना आ पाती हूँ ...
तुमसे कुछ नहीं चाहती हूँ , इसलिए अब अश्रु भी नहीं बहती हूँ ...

दर्द का हद से बढ़ना है खुद दवा हो जाना ...
बेहतरीन रचना !

Swarajya karun ने कहा…

दिल की गहराइयों से निकली दिल को छू लेने वाली कविता . आभार.

: केवल राम : ने कहा…

एक सहज समर्पण और किसी की ख़ुशी के ख्याल में व्यक्त किये गए भाव बहुत सुंदर हैं ...

Deepak Saini ने कहा…

सुन्दर कविता

यशवन्त माथुर ने कहा…

भाव विभोर कर देने वाली कविता.

सादर

वर्ज्य नारी स्वर ने कहा…

एक खामोश सफ़र में ..आंसू को भी रोकना परता है ..बहुत सुन्दर .अच्छा लगा....

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

संवेदनात्मक अभिव्यक्ति ...मन को छूती हुई....

Amrita Tanmay ने कहा…

हाँ ! जीने की पहली शर्त अपनी चाहत को मिटा देना ही है ..प्रभावी रचना

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

नई चेतना की कविता... घुट कर जीने से अच्छा है खुल कर जीना ... अँधेरे में घुटने से अच्छा है रौशनी में संघर्ष करना.. सुन्दर कविता..

Jayant Chaudhary ने कहा…

वाह वन्दना जी.... बहुत ही सुन्दर.
प्रेम में मर मिटना... यह भी एक इन्तेहा ही है..

Jayant Chaudhary ने कहा…

वाह बहुत ही सुन्दर...
प्रेम में मर मिटना भी इन्तेहा है..

kshama ने कहा…

Uf! Kaisi vedana hai ye!!

sandhya ने कहा…

अब न अश्रु बहाती हूँ ,
और तुम से भी कुछ न चाहती हूँ.
भावपूर्ण गहन संवेदना ..
दर्द की इंतेहा.......

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

इसे कहते हैं सार्थक चिंतन।

बधाई।

---------
पुत्र प्राप्ति के उपय।
क्‍या आप मॉं बनने वाली हैं ?

रंजना ने कहा…

गहन वेदना इसी प्रकार मन में उदासीनता भर दिया करती है...

मनोभावों की प्रभाव शाली अभिव्यक्ति प्रस्तुत की है आपने...

भावुक करती मार्मिक संवेदनशील रचना...

सदा ने कहा…

भावमय करती शब्‍द रचना ।

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

nih-shabd karti rachna..sach me aisee soch kahan se lati hain...par ye bhi sach hai, har koi Vandana thori ho sakta hai..:) hai na

arvind ने कहा…

भाव पूर्ण अभिव्यक्ति

Kunwar Kusumesh ने कहा…

बहुत सुन्दर और प्यारी अभिव्यक्ति

Rakesh Kumar ने कहा…

'vaqt ne kiya,kya hansi sitam
tum rehe na tum,hum rahe na hum'
Vaqt ke aage to sabhi natmastak hai,Phir aap aur hum kya karenge.Jeene ke liye to yahi achcha hai ki 'beeti tahi bisar de,
aage ki sudh lai'.Dunia me gar aaye
hai to jeena hi padega...
vedna aur dard se bhari bhavuk abhivyakti.

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

नितांत सशक्त और भावपूर्ण.

रामराम

डॉ टी एस दराल ने कहा…

अपना सहारा स्वयं बनकर नारी पराधीनता को समाप्त कर सकती है । आजकल इसी की ज़रुरत है । वरना समाज में अभी भी करोड़ों कमला बाई मौजूद हैं । रचना दीक्षित जी की बात से सहमत हूँ ।

गौरव शर्मा "भारतीय" ने कहा…

बेहतरीन भावाभिव्यक्ति...
आभार...

सुमन'मीत' ने कहा…

bahut gahri abhivyaki....

monali ने कहा…

Prem jab prarambh hota h to bhi dard deta h aur jab har halchal ko paar kar k maun ho jata h tab bhi dard hi shesh reh jata h.. fir bhi trishna khatm nahi hoti..

behad sateek kavita :)

राज भाटिय़ा ने कहा…

लगता हे भारत की सारी नारिया बहुत ही दुखी हो गई हे,अभी अभी बेचारी कमला के आंसू पोछ कर आये थे डाक्टर दराल जी के घर पर काम वाली हे वो... उस का पति भी..... बेचारी
बहुत सुंदर रचना, धन्यवाद

Udan Tashtari ने कहा…

सुन्दर भावपूर्ण!!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

भावनाओं के प्रवाह से सजी-सँवरी सुन्दर अभिव्यक्ति!

संजय भास्कर ने कहा…

काफी सुन्दर शब्दों का प्रयोग किया है आपने अपनी कविताओ में सुन्दर अति सुन्दर

amit-nivedita ने कहा…

itna viyog kyon...? so sentimental...

Anupriya ने कहा…

are ye rachna padhna kaise bhul gai main...achcha karti hain, aansu kyon bahaana...
isse kam mehnat kar ke unhi ko kyo na rula du jo in aasuwo ki wajah hain...pyar kiya hai bandna jee, gulami thodi na ki hai...
:)