अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

बुधवार, 21 मार्च 2018

एक लम्बे अरसे बाद

एक लम्बे अरसे बाद
जब खोलती है घूँघट
अपने मुख से कविता
चकित रह जाता है कवि
देख उसका अनुपम सौन्दर्य

उसकी काम कमान भवें
नेत्रों की चपलता
धीर गंभीर मुखाकृति पर
छोड़ जाती हैं एक विरोधाभास

वो कोई और थी
या तुम कोई और हो
पहचान के सभी चिन्ह मिलते हैं जब नदारद
हो जाता है कवि
चारों खाने चित्त

अब किसे सहेजे
उठ खड़ा होता है प्रश्न
और समय के गर्भ से मिलता है उत्तर
बचपन हो या यौवन
अवसान तो होता है
और जो परिपक्वता प्रौढ़ावस्था को प्राप्त होती है
वहीँ अनुभव की पोटली से सजी श्वेत केशराशी
कर देती है द्विगुणित सौन्दर्य कविता का
जिसका कभी अवसान नहीं हुआ करता 
आओ करो उद्घोष कवि
वक्त जो बीता 
उदासीन निरुद्देश्य 
किसी निरर्थक समाधि सा
उसी के गर्भ में छुपे होते हैं बीज कविता के
वही रचता है कालजयी कविता 
और तुम बन जाते हो कालजयी कवि
मान लेना 
वो खाली दीवारों को तकना 
छत पर मकड़ी के जालों को देखते रहना 
खुद से भी बेजार हो उठना
नहीं था निरर्थक , निरुद्देश्य 
बेचैनी बेसब नहीं हुआ करती ... जानते हो न 

खालीपन वास्तव में खालीपन नहीं होता 
भर रहे होते हो तुम उस वक्त 
जरूरी हवा, पानी और धूप
यही है खाद 
तुम्हारी तरलता की 
क्योंकि 
संवेदनाओं के बीज 
मौसम के अनुकूल  होने पर ही प्रस्फुटित हुआ करते हैं


समय के सीने पर छोड़ने को पदचाप 
जरूरी है तुम्हारा गूंगे वक्त से मौन संवाद

#विश्वकवितादिवस