अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

रविवार, 18 जून 2017

आवाज़ - पिता की या बेटी की ?

लाठी पकड़ चलते पिता
कितने अशक्त
एक एक कदम
मानो मनो शिलाओं का बोझ उठाये
कोई ढो रहा हो जीवन/सपने/उमीदें

फिर भी सिर्फ अपनी ममता से हार जाते
खुद को ढ़ोकर
टुक-टुक करते लाठी पकड़
पहुँच ही जाते दूसरे कमरे में टेलीफोन के पास
मोबाइल का ज़माना नहीं था वो
यदि था भी
तो इनकमिंग ही इतनी महँगी थी
कि चाहकर भी
खुद को नहीं दे सकते थे ये उपहार
आखिर पेंशनर जो ठहरे

पिता की ममता
उनका स्नेह
सिमट आता था चंद पंक्तियों में
और हो जाते थे वो संतुष्ट
सुन बेटी की आवाज़
मानो मिली हो उन्हें
सारे जहान की सौगात

कैसी है ?
अच्छी हूँ
आप कैसे हैं ?
मैं भी ठीक हूँ
बच्चे कैसे हैं ?
वो भी ठीक हैं
बस हो गया संवाद सम्पूर्ण
बस मिला गया उन्हें अनिर्वचनीय सुख
बस हो गयी तसल्ली
बेटी सुखी है
सुन ली उसकी आवाज़

तो क्या हुआ
जो कुछ कदम चल
खुद को तकलीफ दे दे
आवाज की आवाज़ से मुलाक़ात तो हो गयी
ब्याह दी जाती हैं जिन घरों से बेटियां
अकेलेपन की लाठी बहुत भारी होती है
तोड़ने को उस लाठी की चुप्पी
पिता, टुक-टुक कर पहुँच सकते थे कहीं भी

बेटियां, पिता की दुलारी बेटियां
पिता को खोने के बाद याद करती हैं
देती हैं आवाज़
एक बार आओ
करो फिर से संवाद
उसी तरह ... बाउजी
कि आवाज़ ही माध्यम है तसल्ली की
कुशलता की
की हो वहाँ सकुशल आप

इस बार फर्क सिर्फ इतना है
पिता की जगह बेटी ने ले ली है...

कोई टिप्पणी नहीं: