अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 5 नवंबर 2015

ये हैं अच्छे दिन

ये है सुशासन
तुम्हें पता नहीं
ये हैं अच्छे दिन
ये है विकास का मूल मन्त्र

घर बाहर
गाँव नगर
चुप रहना है तुम्हारी नियति
सिर्फ सिर झुकाने की अदा तक ही
तुम्हारी कर्मस्थली
गर बोलोगे
घर से बाहर कदम रखोगे
मिलोगे एक दूसरे से
हम तालिबानी बन जायेंगे
तुम चीखते रहना
कहीं न सुनवाई होगी
न्याय की दहलीज पर ही
तुम्हारी हजामत होगी

चुप हो जाओ नहीं तो करवा दिए जाओगे
धर्म के नाम पर चिनवा दिए जाओगे
कब चुपके से हालाक कर दिए जाओगे
पता भी न चलेगा
फिर चाहे कलबुर्गी हों या पानसरे या आम आदमी .........

कुछ भी कहने और करने की आज़ादी
सिर्फ उन्हें और उनके गुर्गों को है ......तुम्हें नहीं 
क्या इतना सा तथ्य भी नहीं जानते
देश में अराजकता हो या धार्मिक उन्मादी माहौल
यही तो है हमारी पहली पहल
किसी भी कीमत पर खुद को साबित कर दें
और दुनिया हमें सबसे ताकतवर इंसान की श्रेणी में स्थान दे दे ..............

मुफ्त में कुछ नहीं मिला करता
इसलिए प्यारों
सुशासन और अच्छे दिन की कुछ तो कीमत तुम भी चुकाओ
उनके दिखाया चश्मा ही लगाओ 
तभी सहज जीवन जी पाओगे  
फिर सिर झुकाए सिर्फ यही चिल्लाओगे
ये हैं अच्छे दिन 
ये हैं अच्छे दिन 
ये हैं अच्छे दिन 


3 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (06-11-2015) को "अब भगवान भी दौरे पर" (चर्चा अंक 2152) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

mukesh dubey ने कहा…

मुफ्त में कुछ नहीं मिला करता,
इस लिये प्यारों........
संकेतों का अद्वितीय प्रयोग। सुन्दर तस्वीर... सटीक अभिव्यक्ति।
बहुत बधाई वन्दना जी।

सु-मन (Suman Kapoor) ने कहा…

खूब लिखा है दी