अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 25 जून 2015

पहली बरसात में


ऊँहूँ ......नहीं कह सकती 
(तेरा नाम गुनगुना रही हूँ मैं .........यादों की छुअन से गुजरे जा रही हूँ मैं )

ए 
पहली बरसात से कहो न 
यूँ जेहन की कुण्डियाँ न खडकाया करे 
अब यहाँ थाप पर प्रतिध्वनियाँ नहीं हुआ करतीं 
क्यूंकि 
पहली बरसात हो और कोई इश्क में भीगा न हो 
तो 
रूह के छालों पर सारे ज़माने का चंदन लगा लेना 
फफोले तो पड़ कर ही रहेंगे 
ज़ख्म तो रिस कर ही रहेंगे 

क्योंकि यहाँ तो 
पहली बरसात में भीगने का शगल 
जाने कब चौखट लाँघ गया 

सुना है 
तन से ज्यादा तो 
मन भीगा करता है 
जब उमंगों का सावन बरसता है 
मगर जरूरी तो नहीं न 
उमंगों की मछलियों का सुनहरी होना 
हर बरसात में ........

एक अरसा बीता 
तो कभी कभी लगता है 
एक युग ही बदल चुका

मगर मन का कोहबर है कि खुलता ही नहीं ..........

5 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (26-06-2015) को "यही छटा है जीवन की...पहली बरसात में" {चर्चा अंक - 2018} पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

Jitendra tayal ने कहा…

बहुत सुन्दर शब्द

Kavita Rawat ने कहा…

सुना है
तन से ज्यादा तो
मन भीगा करता है
जब उमंगों का सावन बरसता है
मगर जरूरी तो नहीं न
उमंगों की मछलियों का सुनहरी होना
हर बरसात में ........
बहुत सुन्दर ..

Kavita Rawat ने कहा…

सुना है
तन से ज्यादा तो
मन भीगा करता है
जब उमंगों का सावन बरसता है
मगर जरूरी तो नहीं न
उमंगों की मछलियों का सुनहरी होना
हर बरसात में ........
बहुत सुन्दर ..

Manoj Kumar ने कहा…

सुन्दर रचना !
मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है
www.manojbijnori12.blogspot.com