अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 1 मई 2015

'आय ऍम नॉट मजदूर '

'आय ऍम नॉट मजदूर '

स्वीकार रही हैं कुछ स्त्रियाँ 
हाँ , आज मजदूर दिवस है 
और गर्व है मुझे 
अपने मजदूर होने पर 

ये किस सोच को जन्म दिया 
स्त्री होकर स्त्री को मजदूर का दर्जा दिला 
कौन सा महान कृत्य किया 
समझ से परे नज़र आया 

आज की आधुनिक पढ़ी लिखी स्त्री भी 
गर खुद को मजदूर की श्रेणी में रखेगी 
तो अनपढ़ पिछड़ी तो कभी 
अपने होने के अर्थ को न समझ सकेगी 

ये कैसे मापदंड हम बना रहे 
ये कौन सी आग जला रहे 
जो स्त्री को स्त्री की समुचित पहचान न करवा 
उसे खुद ही दोजख की आग में झोंक रहे 

नहीं , नहीं स्वीकारती मैं ये तमगा 
मेरे लिए सबसे पहले है मेरा अस्तित्व 
मेरा होना , मेरी पहचान 
जो नहीं गुजरती किसी भी तंग गली से 

नहीं  , नहीं हूँ मैं मजदूर 
और मैं ही क्या 
नहीं है कोई मेरी नज़र में मजदूर 
क्योंकि 
जीवनयापन हेतु किया कार्य 
नहीं बनाता किसी को मजदूर 

मैं हूँ एक ऐसा व्यक्तित्व 
जो देश समाज और घर में देकर अपना योगदान 
करती है भविष्य निर्माण 

हाँ , निर्मात्री हूँ मैं भविष्य की 
मगर नहीं हूँ मजदूर 
इसलिए कह सकती हूँ गर्व से 
'आय ऍम नॉट मजदूर '

10 टिप्‍पणियां:

Madan Tiwary ने कहा…

perhaps you have wrongly conceived meaning of this word. it appears , in your view,being labour is something derogatory and your opinion is influenced by conventional meaning that is to say someone engaged in rikshaw pulling or bricks making. it is really unfortunate . labour means all those contributing in prosperity of nation but not getting their pie. it is a class represents subject not the ruler. system is controlled by ruler class with their administrative hands ,they are called ruler class and those who are ruled called labour ,working ,contributing and being exploited by rulers. we all are labour .

Mohan Sethi 'इंतज़ार' ने कहा…

सुंदर एवं सशक्त भाव ......

Asha Joglekar ने कहा…

मजदूर भी तो निर्माण करता है भविष्य का। जिस सडक जिस इमारत को वह बना रहा है उसके जरिये, और जिस कमाई को वह अपने और परिवार पर खर्च करता ह उसके जरिये। स्त्री भी माँ, पत्नी, बहन के रूप में वही करती है। मुझे गर्व है कि मै हूँ मजदूर उन लाखों करोडों स्त्रियों की तरह।

International Directory Blogspot ने कहा…

Hello I'am Chris !
I suggest you to publicize your blog by registering on the "directory international blogspot"
The "directory" is 19 million visits, 193 Country in the World! and more than 18,000 blogs. Come join us, registration is free, we only ask that you follow our blog
You Have A Wonderful Blog Which I Consider To Be Registered In International Blog Dictionary. You Will Represent Your Country
Please Visit The Following Link And Comment Your Blog Name
Blog Url
Location Of Your Country Operating In Comment Session Which Will Be Added In Your Country List
On the right side, in the "green list", you will find all the countries and if you click them, you will find the names of blogs from that Country.
Imperative to follow our blog to validate your registration.Thank you for your understanding
http://world-directory-sweetmelody.blogspot.fr/search/label/Asia%20India%20______452%20%20Members
Happy Blogging
****************
Thank you for following my blog - it is greatly appreciated! :o)
i followed your blog, please follow back
++++++++++++++++
Get a special price for your blog! with compliments
Best Regards
Chris
http://nsm08.casimages.com/img/2015/04/13//15041305053318874513168263.png

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (02-05-2015) को "सारी दुनिया का बोझ हम उठाते हैं" (चर्चा अंक-1963) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
श्रमिक दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक
---------------

Jitendra tayal ने कहा…

sundar

dj ने कहा…

सुंदर रचना आदरणीया।

रचना दीक्षित ने कहा…

सुंदर सटीक प्रस्तुति.

श्रमिक दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

Digamber Naswa ने कहा…

निर्माण करने वाला तो वैसे भी सब कुछ है ... नज्दूर, मालिक और श्रृष्टि भी ...
भावपूर्ण लाजवाब रचना ...

Onkar ने कहा…

सटीक रचना