अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

बुधवार, 22 जनवरी 2014

असभ्य हूँ मैं !!!

जंगल 
जहाँ सब तरह के जानवर 
सबका एक स्थान 
अपनी एक पहचान 
अपना एक मुकाम 
सबके अपने अपने चेहरे 
अपनी अपनी वर्जनायें 
फिर संघर्षबाजी हो या गुटबाजी 
चेहरों के समीकरण बदलने लाज़िमी हैं 
दोस्त दुश्मन बनने लाज़िमी हैं 
अहंकार के बिच्छू जब ज़हर उगलते हैं 
दंश तो तड़पायेगा ही 
और ऐसे में यदि 
कोई चेहरा मोहरा बन जाए 
वक्त की मुखर आवाज़ बन जाए 
कोई चेहरा समझौता ना कर पाये 
दोषी ठहराया जाना लाज़िमी है 
सारी अवगुंठाओं की गाज़ 
उसी पर गिरनी लाज़िमी है 
जिसने विद्रोह किया 
उसका कुचलना लाज़िमी है 
क्योंकि असहयोग आंदोलन का 
प्रणेता जो बन जाता है 
फिर जंगल को भला 
कब दूसरा राजा  सुहाता है 
इसलिए जरूरी हो जाता है पासे पलटना 
अपनी मान्यताओं पर खरा उतरने को 
असहयोगी सहयोगी बन
बनाते हैं नव कीर्तिमान 
बदलने को हवा का रुख 
और साबित करने को 
खुद को पाक साफ 
मुखौटे लगा सिद्ध कर देते हैं 
ये जो उभरा है नया चेहरा 
हमारे जंगल का नहीं है 
या तो हमारे जैसा बन जा 
जो हम कहते हैं वैसा करता जा 
नहीं तो आता है हमें सिद्ध करना स्वयं को 
निर्दोष और तुम्हें दोषी 
और इस फरमान के साथ 
जंगल में असहयोग आंदोलन का 
प्रणेता हो जाता है धराशायी 
जानकार ये सत्य 
क्योंकि 
जंगलों के क़ानून से अवगत नहीं हूँ 
इसलिए 
उसूलों आदर्शों पर चलने वाला 
असभ्य हूँ मैं !!!

13 टिप्‍पणियां:

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

असभ्यता जरूरी है .......... इन दिनों :)

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

वाह ..... कितना कुछ पंक्तियाँ

संजय भास्‍कर ने कहा…

उसूलों आदर्शों पर चलने वाला
असभ्य हूँ मैं !!
....गहरी अभिव्यक्ति.....ये प्रश्न ही है !!

Unknown ने कहा…

Bahoot sunder prastuti

Maheshwari kaneri ने कहा…

गहन अभिव्यक्ति...बहुत सुन्दर

HARSHVARDHAN ने कहा…

आपकी इस प्रस्तुति को आज की सीमान्त गांधी और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

Digamber Naswa ने कहा…

गहरे भाव .... गहन अभिव्यक्ति ...

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति गुरुवारीय चर्चा मंच पर ।।

nilesh mathur ने कहा…

बहुत सुंदर....

Kailash Sharma ने कहा…

कभी कभी तथाकथित सभ्यों को सभ्यता सिखाने के लिए असभ्य बनना ज़रूरी हो जाता है...बहुत प्रभावी और सटीक प्रस्तुति...

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

सही लिखा है

Onkar ने कहा…

सटीक रचना

vandana ने कहा…

सटीक अभिव्यक्ति ...