अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

सोमवार, 22 अप्रैल 2013

इन्साफ हो जायेगा

माँ बचाओ बचाओ 
कहना चाहा मैने
मगर मूँह  बंधा था मेरा माँ 
मैं रो रही थी माँ 
तुम्हें आवाज़ देना चाह  रही थी माँ 
पता नहीं माँ 
वो बुरे अंकल ने 
मेरे कपडे उतार दिए 
मुझे काटा  , नोंचा , मारा 
पता नहीं क्या क्या किया माँ 
मुझे बहुत दर्द हुआ माँ 
मैं बोल नहीं सकती थी 
मुझे अब भी दर्द हो रहा है माँ 
मुझे भूख लगी थी माँ 
मैं तुम्हें बुला नहीं सकती थी माँ 
बुरे अंकल ने मुझे बहुत मारा  माँ 
वो बहुत बुरे हैं माँ 
होश में आने पर 
जब कुछ बोल सकने लायक हुयी 
तब बिलख बिलख  कर , सिसक सिसक कर , तड़प तड़प कर 
जब उस नन्ही जान ने 
खुद पर गुजरा वाकया बयां किया 
और बेटी की मार्मिक व्यथा सुन 
पिता ने जैसे ही सिर पर हाथ धरा 
सहम गयी मासूम हिरनी सी 
आँखों में दहशत का पाला  उभर आया 
और चेतना शून्य हो बिस्तर पर लुढ़क गयी 
आह ! किस मर्मान्तक पीड़ा से , किस वेदना से 
वो मासूम गुजरी होगी 
कि  नन्ही जान ने पिता के 
स्नेहमयी स्पर्श से भी सुध बुध खो दी 
और गश खाकर गिर पड़ी 
ज़रा सोचना हैवानों , दरिंदों 
कैसे न तुम्हारा कलेजा कांपा 
और कैसे इस देश का इन्साफ न अब तक जागा 
और क्यों तुम कानूनी दांव पेंच फंसाते हो 
क्यों नहीं इन दुर्दांत भेड़ियों को फांसी लगाते हो 
जो सीधा सन्देश पहुँच जाए 
कि  अब ना कोई बलात्कारी बच पायेगा 
जैसे ही पकड़ा जाएगा 
तुरंत फांसी  पर चढ़ाया जाएगा 
गर ऐसा अब तक किया होता 
तो मासूम गुडिया का ना  ये हश्र हुआ होता 
जिसने पांच वर्ष की उम्र में 
वो ज़हर पीया है 
वो वेदना सही है जो मौत से भी बदतर होती है 
जो नन्ही जान न इसका कोई अर्थ समझती है 
जो बस बिलख बिलख कर 
बेसुध होती रही होगी 
मगर बलात्कारी के चंगुल में फंसी 
पिंजरे के मैना सी तड़पती रही होगी 
मगर उस हैवान पर ना असर हुआ होगा 
तो अब तो जागो ओ देश के कर्णधारों 
कम से कम दूसरी 
मासूम गुडियों और निर्भयाओं 
को तो बचा लो 
कुछ तो ऐसा कर डालो 
जो ऐसा जुर्म करने से पहले 
बलात्कारी की रूह काँप जाए 
दो ऐसा दंड उसे कि 
आने वाली पीढ़ी भी सुधर जाए 
अब मत कानून की पेचीदगियों में उलझो 
अब न जनता को और भरमाओ 
ओ देश के कर्णधारों 
बस एक बार उस गुडिया में 
अपनी बेटी , पोती या नातिन का 
चेहरा देख लेना तब कोई निर्णय लेना 
कम से कम एक बार तो 
अपने जमीर को जगाओ 
और उस बलात्कारी दरिन्दे को 
जनता को सौंप जाओ 
इन्साफ हो जायेगा 
इन्साफ हो जायेगा 
इन्साफ हो जायेगा 

20 टिप्‍पणियां:

कालीपद प्रसाद ने कहा…

मेरा कमेन्ट दिखाई नहीं दे रहा है
latest post सजा कैसा हो ?
latest post तुम अनन्त

रचना ने कहा…

इश्वर ना करे किसी माँ को ये सब सुनना पड़े

Madan Mohan Saxena ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना!

बेख़ौफ़ दरिन्दे
कुचलती मासूमियत
शर्मशार इंसानियत
सम्बेदन हीनता की पराकाष्टा .
उग्र और बेचैन अभिभाबक
एक प्रश्न चिन्ह ?
हम सबके लिये.


vandana gupta ने कहा…

@रचना जी ना जाने उस माँ पर क्या बीती होगी ये ही सोच कर रौंगटे कांप उठते हैं ।

रचना ने कहा…

vandaana kalkataa ke ek balatkaarke case me maa jab ghar me ghusi aur usnae baeti kae brutalized naked body ko daekhaa thaa to uski boltii hi band ho gayii thee

vandana gupta ने कहा…

@rachna ji yahi to soch soch rooh kanpti hai , na jaane kitne din unke halak se niwala nhi utra hoga ,patthar ban gaye honge , kaise khud ko sambhala hoga aur kaise bachchi ko ye koi bhuktbhogi hi samajh sakata hai .........ham to shayad uska ek ansh bhi nahi mahsoos kar pa rahe varna ham sabke khoon khaul jaate , zamane ko aag laga dene ko utaaroo ho jate magar kahan chali gayi samvednayein nahi jante

S.M Masum ने कहा…

सुंदर अभिव्यक्ति | आभार

Rajesh Kumari ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल २३ /४/१३ को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है ।

मनोज कुमार ने कहा…

बड़ा ही दुखद और मर्मान्तक घटना का काव्यात्मक विवरण दिया है आपने। आशा है इंसाफ़ होगा।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति..!
--
शस्य श्यामला धरा बनाओ।
भूमि में पौधे उपजाओ!
अपनी प्यारी धरा बचाओ!
--
पृथ्वी दिवस की बधाई हो...!

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

pashwikta ko mitana ka kam ab janta ko hi karna hoga .....vandna jee ...

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत उत्कृष्ट प्रस्तुति,,बढ़िया रचना,,,

RECENT POST: गर्मी की छुट्टी जब आये,

Devdutta Prasoon ने कहा…

मार्मिक रूपक , सामयिक घटना की और संकेत करती रचना !-
पड़ी 'आधुनिक प्रभुता' भारी |
'मानवता' से 'पशुता' हारी ||
मानवीय पशुता- (१)पिशाचिनी भूख
साहित्याप्रसून

Devdutta Prasoon ने कहा…

बहुत अच्छी रूपक रचना-
पड़ी 'आधुनिक प्रभुता भारी |
'पशुता' से 'मानवता' हारी ||

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

बहुत उम्दा प्रस्तुति | सार्थक रचना |

कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
Tamasha-E-Zindagi
Tamashaezindagi FB Page

Ashok Khachar ने कहा…

bot khub

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

पीढा ही पीढा .....शब्द और सोच कम पड़ जाती हैं ऐसे वक्त में

neerja shah ने कहा…

dahal gaya mn ,
much gai halchal
kya hm maanav bhi n rahe,
prashn ka uttar hai guzara kal.

pranava bharti

Neeraj Kumar ने कहा…

बहुत ही भावपूर्ण एवं मार्मिक..

सतीश सक्सेना ने कहा…

बहुत कष्टदायक है यह ..