अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 1 मार्च 2012

पाला पडी फ़सलो मे फ़ूल नही उगा करते

लो फिर दिन ढल गया
शाम हो गयी
मगर बता है ए दिल
आज कौन सी बात
खास हो गयी
क्या दिन अपने वक्त
पर नही ढला
या सांझ ने आने से
मना किया
या भोर ने रूप बदल लिया
बता ना
आज तुझे क्या हुआ
जो दिल ढलने का
तुझ पर असर हुआ
लगता है
कोई बिछडा रकीब तुझे मिल गया
जो दिन ढलने का तुझे गम हुआ
या शायद
कोई आंसू कहीं उलझ गया
जो आँख की किरकिरी बन गया

बता ना
आज मौसम कैसे बदल गया
लगता है
सांझ की चौखट पर पाला पड गया
तभी तू भी इतना बिखर गया
जानता है ना
पाला पडी फ़सलो मे फ़ूल नही उगा करते ……………

23 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

अब आप सर्दी खत्म होने पर पाला ले आई हैं ... गर्माहट महसूस कीजिये ... चारों ओर फूल खिले दिखेंगे :):) गहन अभिव्यक्ति ... मनोदशा को वर्णित करती हुई रचना

रविकर ने कहा…

अच्छी अभिव्यक्ति ।।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

वाह!
सच्चाई को आइना दिखाती खूबसूरत रचना!

dheerendra ने कहा…

बहुत अच्छी अभिव्यक्ति ,इस सुंदर रचना के लिए वंदना जी बधाई,...

NEW POST ...फुहार....: फागुन लहराया...

डॉ टी एस दराल ने कहा…

खाद पानी मिलता रहे तो --नामुमकिन भी नहीं :)

Vibha Rani Shrivastava ने कहा…

या शायद ...(नहीं,यकीनन)... कोई आंसू(ही)कहीं उलझ गया ...
जो आँख की किरकिरी बन गया....
गर्मी आते-आते पाला मारे जारहा....
आपकी रचना रोचक होती है.... !!

रश्मि प्रभा... ने कहा…

अंकुरण की प्रतीक्षा है...

kshama ने कहा…

Phir ekbaar tumne kamaal kar dikhaya! Wah!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

जीवन कभी कभी ऐसे ही मोड़ ले लेता है..

RITU ने कहा…

ठीक कहा है..'पाला पड़ी हुई फसल पे फूल नहीं खिला करते..'

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

bat bahut sahi aur gahari kahi hai lekin us soch kar badalne kee to soch sakate hain.

mridula pradhan ने कहा…

kya andaz hai......wah.

Amrita Tanmay ने कहा…

बहुत ख़ास है आपकी अभिव्यक्ति..

अभिषेक प्रसाद ने कहा…

kya kahun main.... shabd hi nahi mil rahe...behtareen kahun ya adbhut... ye samjh nahi aa raha... bas itna hi kah paaunga ki kash shabdon ko itne jaaduyi dhang se pirone kee kala mujh mein bhi hoti...

shikha varshney ने कहा…

फिर से उपजाऊ किया जा सकता है उसे :)
बढ़िया रचना.

कुमार राधारमण ने कहा…

बिछड़ा प्रेमी भी दिन के ढलने का इंतज़ार करता है ताकि पीड़ा को अधिक शिद्दत से महसूस किया जा सके.

कविता रावत ने कहा…

सच जीवन में कभी कभी जब मन की उलझन गहराती है तो फिर तुषारापात से कम नहीं होती....
बहुत बढ़िया रचना ..

Saras ने कहा…

सुबह होती है शाम होती है
उम्र युहीं तमाम होती है ......
जड़ता में गति ढूँढने का प्रयास अनवरत चलता रहता है ....बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति !

अजय कुमार झा ने कहा…

जब दिल लिखता है तो फ़िर जाने क्या और कितना सच लिख जाता है । फ़ागुन का स्वागत करिए ...और हां ..लिखती रहिए । हम पढ रहे हैं

Ashok Bajaj ने कहा…

सुन्दर भाव .

मनोज कुमार ने कहा…

इस रचना में छुपी एक ऐसी पीड़ा है जो मन को छूती है।

वाणी गीत ने कहा…

पाला पड़ी फसलों में फूल नहीं उगा करते ...
वाह !

मनीष सिंह निराला ने कहा…

मन को छू गई !
बहुत सुन्दर प्रस्तुति !
आभार !