अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

रविवार, 16 अगस्त 2009

अलविदा मत कहा करो

अलविदा मत कहा करो
किसी के दिल पर क्या गुजरी
ये तुम क्या जानो
तेरे जाने और आने के
बीच का वक्त
कैसे गुजरता है
ये तुम क्या जानो
रोज मिलने को दिल
कितना तड़पता है
ये तुम क्या जानो
बातों की महावर लगाने को
दिल कितना मचलता है
दीदार का काजल लगाने को
नज़रें कितना तरसती हैं
ये तुम क्या जानो
लबों पर अल्फाजों का
तबस्सुम खिलाने को
दिल कितना भटकता है
ये तुम क्या जानो
दिलो की ये दूरी मिटाने को
कुछ पल तेरा साथ पाने को
दिल कितना सुबकता है
ये तुम क्या जानो
तेरे गीतों में ढल जाने को
तेरी काव्य धारा बन जाने को
दिल कितना सिसकता है
ये तुम क्या जानो
इसलिए
कभी अलविदा मत कहा करो

31 टिप्‍पणियां:

M VERMA ने कहा…

बातों की महावर लगाने को
दिल कितना मचलता है
क्या बिम्ब उभारा है आपने.
अलविदा शब्द ही बहुत आहत करता है. और फिर किसी अज़ीज के द्वारा कहे जाने पर तो --------

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

कुछ पल दूर रहने के बीच के समय को किस खूबसूरती से शब्दों में पिरोया है आपने। बहुत ही अच्छा लगा पढकर।

ओम आर्य ने कहा…

bahut hi sundar abhiwyakti

Pramod Kumar Kush 'tanha' ने कहा…

Bahut bahut sunder rachna hai... merii taraf se badhaayee sweekar karein aur yu hi likhtii rahein..

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

सुंदर लिखा है..अलविदा न कहा करे कोई

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सच कहा........... अलविदा एक ऐसा शब्द है जी दिल में कितने अनजाने डरे डरे ख्वाब भर देता है............ लाजवाब रंग में रंग है दिल के भावों को........... अच्छी रचना

भास्कर ने कहा…

Bahut bahut sunder kaqvita hai... yu hi likhtii rahein..”
thanks

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपने अपने मनोभावों इतने अच्छे ढंग से
संजोया है कि मुख से वाह...वाह... ही
निकलता है।
इतही सफाई से हृदय की वेदना को प्रकट
तो बस वन्दना ही कर सकती है।
बधाई।

amlendu asthana ने कहा…

Apke Khayal ko salam. APke Shabdon ka aroh-abroh jeevan se milta hai. khub likha hai. likhte rahen

समयचक्र : महेन्द्र मिश्र ने कहा…

बहुत ही बढ़िया अच्छी रचना . आभार.

mehek ने कहा…

waah kya gazab ki tadap hai alfazon mein,sidhi dil tak utar gayi,shandar rachana.

Babli ने कहा…

मुझे आपका ब्लॉग बहुत अच्छा लगा! बहुत सुंदर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लिखी हुई आपकी ये रचना काबिले तारीफ है!

राकेश कुमार ने कहा…

एक सुन्दर विरह गीत की रचना की है आपने, सुन्दर बिम्बो एवम प्रतीको के माध्यम से भावो की अभिव्यक्ति,

तेरे जाने और आने के
बीच का वक्त
कैसे गुजरता है
ये तुम क्या जानो

इसी तरह

बातों की महावर लगाने को
दिल कितना मचलता है
दीदार का काजल लगाने को
नज़रें कितना तरसती हैं
ये तुम क्या जानो

मै अपनी रचनाओ मे हमेशा कहा करता हू कि विरह प्रेम का सौन्दर्य है और आपने इस सौन्दर्य को बडी सुन्दरता से रेखान्कित किया है.

जितना सुन्दर कविता का टाईटल उतनी ही सुन्दर रचना, बधाई आपको.

राकेश

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

vandana ji , kya kahun .. shabd nahi hai ji ..aapne to bhaavnaao me dubokar is kavita ko janam diya hai...ek ek pankti to bus jaane kya kya kahti chali jaati hai...

nishabd hoon ji

प्रीति टेलर ने कहा…

जिस दिन अलविदा हमने कह दिया उस दिन तुम भी तड़प जाओगे ,
ना दीदार होगा हमारा तब लौट के आओगे ....? तब आने से क्या करेंगे हम और तुम ? ना राह होगी ना मंजिल भी ....

http://beshak.blogspot.com
jindagi: jiyo har pal

kshama ने कहा…

आप भी कभी हमें 'अलविदा ' न कहना ...आपकाभी हमेशा इंतज़ार रहता है ..!

रचना में इतनी कसक है ,कि , दिल डूब -सा गया ..कुछ लम्हें जो नही भूली ...शिद्दत के साथ याद आ गए ..!
फिर एक बार किसी का बस यूहीँ चले जाना, और लौट के ना आना, याद आ गया...

awaz do humko ने कहा…

bahut achcha likha aapne

raj ने कहा…

अलविदा मत कहा करो
किसी के दिल पर क्या गुजरी
ये तुम क्या जानो...khoobsurat kavita...

रश्मि प्रभा... ने कहा…

तेरे गीतों में ढल जाने को
तेरी काव्य धारा बन जाने को
दिल कितना सिसकता है
ये तुम क्या जानो....बहुत ही करीबी एहसास

बेनामी ने कहा…

Vandana ji,
Bahut hi sachchai se virah-vedana ka prakatikaran kiya hai aapne aur bimbon ki aisi rachna ki hai ki anayas hi waah-waah kar utha hriday...shabdon ki ladiyan goonth kar ek mala si bana di

नीरज कुमार ने कहा…

वंदना जी
आपकी कविता में जो अहसास है...और विरह-वेदना को जिस तरह बिम्ब-प्रतिबिम्ब के द्वारा जिस तरह अपने मनोभावों को चित्रित किया है...बहुत ही सुन्दर बन पड़ा है...
यूँ हिन् हमें उच्च-स्तरीय रचना से हर्षित करती रहें...वैसे आप जैसी लेखिका स्वान्त सुखी ही लिखती हैं, जनता हूँ...

Nirmla Kapila ने कहा…

बातों की महावर लगाने को
दिल कितना मचलता है
दीदार का काजल लगाने को
नज़रें कितना तरसती हैं
ये तुम क्या जानो
वन्दना लगता है ये हर नारी की व्यथा है उसे जिस्म से अधिक भावनाओं की जरूरत होती है रूह तक उतर जाने की उत्कंठा बातों का महवार और दीदार मे ही उसे सम्पूर्ण रिश्ता दिखाई देता है बहुत सुन्दर कविता विरह वेदना और प्यार अद्भुत संगम बधाई

भूतनाथ ने कहा…

अलविदा हाँ सच, नहीं कहना चाहिए....
बस वस्ल की जद में रहना चाहिए....!!
अलविदा का मतलब कुछ भी हो सकता है
अलविदा को ही अलविदा कहना चाहिए....!!

योगेश स्वप्न ने कहा…

bahut umda bhavabhivyakti. badhai.

Vijay Anand ने कहा…

wao vandan, dil ke armaano ko kitni khoobsurati se abhivyakt kiya h. aapne pyaar ki gahrai ko badi shiddat se prastut kiya h. aur dil se kiya h. buddhi aesi baaten soch hi nahi sakti. so hamesh apne dil ki aawaj ko hi sunti raho, congrats for this beautiful abhivyakti

vikram7 ने कहा…

अलविदा मत कहा करो
किसी के दिल पर क्या गुजरी
ये तुम क्या जानो
तेरे जाने और आने के
अति सुन्दर

VisH ने कहा…

वह्ह्ह यार तुस्सी तो छा गये ....."तुम क्या जानो " जी हाँ शब्दों को अच्छा सजाया आपने .....मेरे ब्लॉग पर भी वागत है .......

जय हो मंगलमय हो ....

मस्तानों का महक़मा ने कहा…

एक लेहर चल रही थी बातों-बातों में...
मज़ा था पर कुछ अधूरा सा लग रहा था...

शब्दों की पकड़ को अगर सही जगह बैठाया जाए तो संवाद और भाव व्यक्त बखूबी होते है।
निराश मत होइयेगा... ये रचना भी बहुत सुंदर है।

विपिन बिहारी गोयल ने कहा…

बहुत सुंदर



तेज धूप का सफ़र

दर्पण साह "दर्शन" ने कहा…

लबों पर अल्फाजों का
तबस्सुम खिलाने को
दिल कितना भटकता है
ये तुम क्या जानो
दिलो की ये दूरी मिटाने को
कुछ पल तेरा साथ पाने को
दिल कितना सुबकता है
ये तुम क्या जानो....


...i salute you penning down such a wonderful thoughts, over and over.

anil ki rasoi ने कहा…

bahut hi sundar rachana.kishorda ki yaad aa gayi.