पृष्ठ

अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

रविवार, 6 अक्तूबर 2013

जिसका शायद कहीं कोई उत्तर नहीं


वो जो शक्ति है 
वो जो धारती है 
वो जो जननी है 
जब उसी का शोषण होता है 
तब मेरा स्त्रीत्व रोता है 


दूसरी तरफ 

वो जो आस्था है 
वो जो श्रद्धा है 
वो जो विश्वास है 
जब वो आहत होता है 
तब मेरा अंतस रोता है 


सही गलत से परे 
एक सोच कसमसाती है 
कैसे एक मछली सारे तालाब को 
कलंकित करती है 
किस पर विश्वास करूँ 
किसे नमन करूँ 


आज जब चारों तरफ 
झूठ और सच 
चंद  सिक्कों में बिक जाते हैं 
कहीं झूठे लांछन लगाए जाते हैं 
तो कहीं सच हारता दीखता है 
कहीं कोई सिर्फ पैसे , पद , प्रतिष्ठा के लिए 
कौड़ियों में बिक जाता है 
और किसी का मान सम्मान आहत हो जाता है 
ऐसे विरोधाभासी माहौल में 
कौन सा इन्साफ का तराजू उठाऊँ 
कौन  सा जहाँगीरी घंटा बजा न्याय की गुहार करूँ 
जहाँ चहुँ ओर अराजकता अव्यवस्था का बोलबाला है 
जहाँ न्याय भी अपनी ही बेड़ियों में जकड़ा 
बेबस नज़र आता है 
और दिमागी तौर से परिपक्व को भी 
जो अवयस्कता के आवरण में निर्दोष पाता है 
ऐसे कश्मकाशी माहौल में 
किस आश्वासन पर उम्मीद का दीप जलाऊँ 
जहाँ झूठ और सच के बीच ना कोई फर्क दिखे 
जहाँ मेरे अन्दर की स्त्री 
छटपटाती तमाशबीन सी सिर धुनती है 
आखिर किस खोल में छुप गयी सभ्यता 
जो सच और झूठ के परदे ना खोल पाती है 


क्या सच क्या झूठ है 
जहाँ रोज गवाह भी मुकरते हों 
जहाँ रोज कुछ अवसरवादी 
सच को झूठ और झूठ को सच में बदलते हों 
ऐसे माहौल में 
मेरे अन्दर की स्त्री मुझसे ही उलझती है 
किसे मानूँ किसे ना मानूँ 
ना स्त्री का शोषण झुठला सकती हूँ 
ना आस्था की वेदी पर बलि होते 
विश्वास और श्रद्धा से आँख मिला पाती हूँ 
और सच और झूठ के हवन में होम होती 
अपने अन्दर की स्त्री से प्रश्न उठाती हूँ 

क्या श्रद्धा और विश्वास की कीमत यूं चुकाई जाती है 
क्या स्त्रीत्व के शोषण की जो तस्वीर सामने है 
उसका कोई दूसरा रुख तो नहीं 

विश्वास अन्धविश्वास की खाई में 
मेरी वेदना पड़ी कराहती है 
जिसका शायद कहीं कोई उत्तर नहीं , कहीं कोई उत्तर नहीं 


9 टिप्‍पणियां:

कालीपद "प्रसाद" ने कहा…

समाज व्याप्त विरोधाभास को दर्शाती प्रभावी रचना
latest post: कुछ एह्सासें !

यशवन्त माथुर (Yashwant Raj Bali Mathur) ने कहा…

सार्थक सामयिक रचना।
स्त्रियॉं का सम्मान सिर्फ सिर्फ दिखावा नहीं बल्कि वास्तविक जीवन और व्यवहार मे हो तब ही भक्ति और पूजा की सार्थकता है।


सादर

Guzarish ने कहा…

आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा कल सोमवार [07.10.2013]
चर्चामंच 1391 पर
कृपया पधार कर अनुग्रहित करें |
नवरात्र की हार्दिक शुभकामनाओं सहित
सादर
सरिता भाटिया

Onkar ने कहा…

सशक्त रचना

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत सुंदर सार्थक सटीक प्रस्तुति.!
नवरात्रि की बहुत बहुत शुभकामनायें-

RECENT POST : पाँच दोहे,

बेनामी ने कहा…

सामयिक प्रस्तुति

sushmaa kumarri ने कहा…

प्रभावित करती रचना .

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत प्रभावी .. सामयिक रचना ... स्त्री का आदर मन से हो ... समाज तभी उन्नत होगा ...

Arun sathi ने कहा…

हूँ बहुत गंभीर.....पर जबाब किसी के पास नहीं.....