अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 26 अक्तूबर 2010

जब आत्मिक मिलन हो जाए.............

यूँ तो 
करती हूँ 
हर साल
करवाचौथ 
का व्रत 
तुम्हारी 
लम्बी उम्र 
की दुआएँ 
करने का 
रिवाज़ मैं भी
निभाती हूँ 
हर सुहागिन 
की तरह
मगर फिर भी
कहीं एक 
कमी लगती है
एक कसक सी
रह जाती है
कोई अदृश्य 
रेखा बीच में
दिखती है
किसी अनदेखी

अनजानी
कमी की
जो डोर को
पूर्णता से
बाँध नही
पाती है
इसलिए 
चाहती हूँ
अगले 
करवाचौथ 
तक मैं
तुम्हें तुमसे
चुरा लूं
और तुम्हारे
ह्रदय 
सिंहासन पर 
अपना आसन
जमा लूं
जब तुम 
खुद को 
ढूँढो तो
कहीं ना मिलो
सिर्फ मेरा ही
वजूद  तुम्हारे
अस्तित्व का
आईना बन
चुका हो
जहाँ तुम 
मुझे और
मैं तुम्हें
सामाजिकता 
के ढांचे से 
ऊपर उठकर
व्यावहारिकता
की रस्मों से
परे होकर
एक दूजे के
हृदयस्थल 
पर अपने 
अक्स चस्पां
कर दें
तन के 
सम्बन्ध तो
ज़िन्दगी भर
निभाए हमने
चलो एक बार
मन के स्तर पर
एक नया
सम्बन्ध बनाएँ
जिस दिन
"तुम" और "मैं"
दोनों की चाह
सिर्फ इक दूजे
की चाह में
सिमट जाए
प्रेमी और 
प्रेयसी के 
भावों में
हम डूब जाएँ
राधा - कृष्ण 
सा अमर प्रेम
हम पा जाएँ
जहाँ शारीरिक
मानसिक
स्तर से 
अलग रूहानी
सम्बन्ध बन जाए
जहाँ तन के नहीं
मन के फूल
मुस्कुराएं
कुछ ऐसे 
अगली बार
अपनी 
करवाचौथ 
को अपने 
अस्तित्वों
के साथ संपूर्ण
बना जायें
और व्रत 
मेरा पूर्ण हो जाये
जब आत्मिक 

मिलन 
हो जाए
तब
सुहाग अमर 
हो जाये

28 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

इस त्योहार का यही महत्व है संभवतः। सुन्दर पंक्तियाँ।

Sunil Kumar ने कहा…

इश्वर आपका व्रत और कामनाये पूरी करे

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

जब तुम
खुद को
ढूँढो तो
कहीं ना मिलो
सिर्फ मेरा ही
वजूद तुम्हारे
अस्तित्व का
आईना बन
चुका हो
-------------------------
बहुत सुंदर वन्दनाजी ......सुंदर भाव..... और उतनी ही सुंदर प्रस्तुति.....
करवा चौथ की शुभकामनायें आपको

arun c roy ने कहा…

"जब आत्मिक
मिलन
हो जाए
तब
सुहाग अमर
हो जाये"... करवा चौथ के अवसर पर आपकी यह रचना समस्त व्रतियों का प्रतिनिधत्व कर रही है.. सुन्दर कविता..

क्षितिजा .... ने कहा…

भगवान् आपकी मनोकामना अवश्य पूरी करें.... सुंदर रचना वंदना जी

shikha kaushik ने कहा…

vandna ji hum nariya to shayad sada se hi dampaty -sambandhon ko amar-prem ke bandhan me bandhne ki koshish karti rahi hain .aaj tak adhikansh purshon ne pati-patni sambandhon ko shoshak-shoshit ke roop me hi nibhaya hai.bagvan krishan ne radhaji ke saath apne sambandhon dwara yah sandesh diya ki aatmik -prem ke lie pati-patni ke bandhan me bandhne ki jarurat nahi hai. kavita achchi hai .

DR. PAWAN K MISHRA ने कहा…

दांपत्य की प्रगाढ़ता की खूबसूरत चर्चा

Aashu ने कहा…

मन को छू लेने वाली बात कही है आपने! आभार!

http://draashu.blogspot.com/2010/10/blog-post_25.html

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

प्रेम गली अति सांकरी,
जा मे दो न समाये!

प्रेम की सुगन्ध से आप दोनों भर-भर जायें, यही कामना है हमारी!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सच है असली मिलन तो आत्माओं का है .... प्रेम हो तो सब कुछ है .... इश्वर आपका व्रत और कामनाये पूरी करे ...

.

संजय भास्कर ने कहा…

अरे वाह.. बहुत खूब... आपका लेखन शानदार है

संजय भास्कर ने कहा…

व्यावहारिकता
की रस्मों से
परे होकर
एक दूजे के
हृदयस्थल
पर अपने
अक्स चस्पां
कर दें
तन के
सम्बन्ध तो
ज़िन्दगी भर
निभाए हमने
चलो एक बार
मन के स्तर पर
एक नया
सम्बन्ध बनाएँ

सुंदर पंक्तियाँ साझा की हैं आपने ......
..वन्दना जी.... करवा चौथ की शुभकामनायें

shikha varshney ने कहा…

त्यौहार पर अंतरात्मा की आवाज़.बहुत सुन्दर.

Parul ने कहा…

ye vachan sabko karna chahiye..tabhi sarthakta hai vrat ki..vandna ji bahut saaf man se likhi hai aapne..aapko badhai aur shubhkaamnayen!

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर जी,आप को इस व्रत की शुभकामनाये

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

..व्रत
मेरा पूर्ण हो जाये
जब आत्मिक
मिलन
हो जाए
तब
सुहाग अमर
हो जाये
--
इस अवसर पर बहुत ही सार्थक रचना!
--
बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
--
आपकी पोस्ट को बुधवार के
चर्चा मंच पर लगा दिया है!
http://charchamanch.blogspot.com/

Dorothy ने कहा…

प्रेम में समर्पण के अनूठे आयाम जोड़ती एक खूबसूरत प्रस्तुति. आभार.
सादर
डोरोथी.

kshama ने कहा…

Wah! Vandana, wah!

mridula pradhan ने कहा…

bhawpurn evam sunder rachna.

ZEAL ने कहा…

.

खूबसूरत अभिव्यक्ति।

.

रंजना ने कहा…

वाह....हृदयस्पर्शी भावपूर्ण अतिसुन्दर प्रणय कविता...

सलीम ख़ान ने कहा…

karwachauth!!!

sundar bhaav !!!

इमरान अंसारी ने कहा…

वंदना जी,

बहुत सुन्दर.........ईश्वर आपकी चाह पूरी करे......

arvind ने कहा…

bhaavpurn rachna..badhai.

निर्मला कपिला ने कहा…

vandanaa jee kaamanaa karate hain ki agalaa karavaa chauth aisaa hee hogaa, bahut bahut shubhakaamanaayen

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत अच्छी रचना ...मन में उमडते भावों को बखूबी लिखा है

रजनी मल्होत्रा नैय्यर ने कहा…

"जब आत्मिक
मिलन
हो जाए
तब
सुहाग अमर
हो जाये"...
सुन्दर पंक्तियाँ.....सुंदर भाव.आभार!

Renu Sharma ने कहा…

vandana ji ,
ummeed hai sheeghr hi aatmik milan bhi hoga.
bahut hi jayaj mang ki hai.