अनुमति जरूरी है

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

रविवार, 21 जून 2009

धरती और आकाश का क्षितिज

धरती और आकाश का क्षितिज
दूर बहुत दूर ..........अनन्त में
कभी मिलकर भी
नही मिल पाते
धरती यूँ ही
आकाश की तरफ़
एकटक , टकटकी बांधे
ताकती रहती है
नेह को उसके
तरसती रहती है
और आकाश
जब मन चाहे तब
बरस जाता है
उसकी चुनरिया को
धानी कर जाता है
और धरती प्रेम के
अथाह सागर में
डूब जाती है
और कभी कभी
ऐसा भी होता है
धरती जो आकाश की ओर
निहारते - निहारते
अपने वजूद को भी
खोने लगती है
तब भी आकाश
अपने अहम् में चूर
धरती की प्रीत को
उसके स्नेह को
उसके धैर्य को
भुलाकर , उसे
वृक्ष के ठूंठ सा
बाँझ बना देता है
उसके रूप - सौष्ठव को
उसकी गरिमा को
उसके त्याग को
बंजर बना देता है
प्रेम के अंकुर को सुखा देता है
उसकी सहनशीलता को
तीक्ष्ण ताप से
कुम्हला देता है
इतनी उपेक्षित होकर भी
धरती आकाश से
मिलन की चाह में
अपने को मिटाती रहती है
एक क्षितिज की चाह में
ख़ुद को भुलाती रहती है
और क्षितिज कभी
नही मिलता उसे
कभी नही मिलता ..........

31 टिप्‍पणियां:

M Verma ने कहा…

धरती यूँ ही
आकाश की तरफ़
एकटक , टकटकी बांधे
ताकती रहती है

समर्पण और चाहत अक्सर आहत करते रहते है. बखूबी उकेरा है उस चरम को आपने.
बहुत ही अच्छी रचना.
खूबसूरत रचना के लिये बधाई

pukhraaj ने कहा…

एक औरत के जीवन की व्याख्या अच्छे शब्दों मे की है आपने ....
सहनशीलता, स्नेह, और जीवन पर्यंत प्रतीक्षा करने का गुण
उसमे विद्यमान हैं ....अपने हक़ को छीनना नहीं सीखा है अभी
तक.... इसलिए तो उसे क्षितिज कभी नही मिलता....

Nirmla Kapila ने कहा…

और धरती आकाश से
मिलन की चाह मे
अपने को मिटाती रहती है
एक क्षितिज की चाह मे
खुद को भुलाती रहती है
और क्षितिज कभी नहीं मिलता उसे
कभी नहीं मिलता
कितने सुन्दर ढंग से औरत के समर्पण की गाथा लिखी ही जिसे पढ कर इस कविता के सरिताप्रवाह मे बहती ही चली गयी-----
बधाई इस लाज्वाव रचना के लिये

परमजीत बाली ने कहा…

बस एक ऐसी ही प्यास जीवन को दोड़ाती रहती है।
एक सुन्दर एहसास।बहुत सुन्दर रचना है।
बधाई।

raj ने कहा…

dharti or akaash kasadio se sath hai pyaar hai to bhi marji akkash ki k wo barse ke na...boht khubsurat kavita..

ओम आर्य ने कहा…

prithwee to mahaan hai hi sath me aapkee bhawanaye behad gahari

SWAPN ने कहा…

sanketik satya se otprot rachna.

bahut sunder vandana ji. badhai.

Priya ने कहा…

dharti ka samarpan aur kshtij ka aham dono lajawaab hain

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपने सही लिखा है।
धरती और क्षितिज तो कभी मिल ही नही सकते।
फिर भी धरती अपनी प्यास बुझा ही लेती है।
दोनों ही जीवम देने वाले हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि दोनों ही अतृप्त हैं।
एक अच्छी रचना के लिए आपको बधाई।

डाकिया बाबू ने कहा…

बेहद सुन्दर अभिव्यक्ति....सुन्दर रचना ...बधाई !!
कभी मेरे ब्लॉग पर भी पधारें !!

Navnit Nirav ने कहा…

pyar mein yun hi log ek doosare ke liye mar mit nahi jaate hain.Isi ko to prem kahte hai.Bhut achchha likha hai aapne.
Navnit Nirav

venus kesari ने कहा…

बहुत सुन्दर
प्रकृति के समर्पण भाव को छु पाना मानव के बस की बात नहीं है

वीनस केसरी

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत गहरी रचना, बधाई.

दर्पण साह "दर्शन" ने कहा…

"khsitij kabhi nahi milta..."

beshak dharti aur aakash kabhi mil nahi paate par duriyon ka matlab faasle nahi hota...
acchi rachna !!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सुन्दर कविता ........... DHARTI तो DHARNI है ....... DHAARAN करती है हर चीज़ को ............... DEKHTI है एक AKAASH को MILAN के लिए.............. APNAA KARM करती है............ बहुत लाजवाब लिखा है .... सुन्दर भावनाओं को SANJOYA है

Science Bloggers Association ने कहा…

अपने मन के भावों को आपने बहुत खूबसूरती से व्यक्त किया है
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

अक्षय-मन ने कहा…

hamesha k jaise gehraiyon main dube huye shabd...
aur inshabdon ki ghraai koi nahi jaan sakta.....
wo ehesaas bhi sirf aapko hi hai....
ham to bas us dard ko samajh sakte hain jo aapne shabdon ke roop main unhe naya rang diya hai.....

Harsh ने कहा…

bahut sundar rachana hai

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

... bahut hi prabhaavashaalee rachanaa !!!!!

ललितमोहन त्रिवेदी ने कहा…

वंदना जी !बहुत सुन्दर प्रतीक के माध्यम से अभिव्यक्त किया है अपने आप को ! वेदना की एक गहरी टीस उभरकर आती है आपकी रचनाओं में और यही आपकी विशेषता बन जाती है ! हृदयस्पर्शी रचना है !

Abhishek Prasad ने कहा…

kya likhun is kavita aur aapke baare mein...
thanks "blogger" ko dena chahunga jiske kaaran mujhe aaplogon ko v padhne ka mauka mila... warna mujhe to lagta tha dr. harivansh narayan bachhan aur Dinkar ji ke baad sirf main hi achha likhta hun ;)... bad joke...
sach kahun to aapke kalam mein shabdo ko baadhne ka jadu hai... aur aap mein us kalam ko thamne ka.. wish u all the best... keep writing...

Prem Farrukhabadi ने कहा…

धरती आकाश से
मिलन की चाह में
अपने को मिटाती रहती है
एक क्षितिज की चाह में
ख़ुद को भुलाती रहती है
और क्षितिज कभी
नही मिलता उसे
कभी नही मिलता ..........

bahut achchhi lagi

Mumukshh Ki Rachanain ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति,

वैसे भी जो दिखता है वह सच तो नहीं, ये आकाश और धरती हमेशा ही हमें सन्देश देते रहतें हैं.

चन्द्र मोहन गुप्त

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

vandana

kshitiz ki sahi paribhasha aur abhivyakti hai aapki is kavita me ....

badhai sweekar karen..

vijay

प्रदीप मानोरिया ने कहा…

वन्दना जी प्रकृति की माध्यम से जिन्दगी की सच्चाई को बयान करती सुन्दर एवं सार्थक रचना !!!! धन्यवाद
प्रदीप मानोरिया
09425132060

प्रीति टेलर ने कहा…

धरती और आकाश चाहे न मिलते हो पर एक दुसरे को अनिमेष तकते रहते है न एक पल ज्यादा न कम शायद येही प्यार है

महफूज़ अली ने कहा…

waaqai mein.........bahut shaandaar kavita hai........ yeh aisi kavita hai jo sochne ko majboor kar deti hai.........

महफूज़ अली ने कहा…

waaqai mein.........bahut shaandaar kavita hai........ yeh aisi kavita hai jo sochne ko majboor kar deti hai.........

बिहार भक्ति ने कहा…

sundar

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी ने कहा…

बहुत ही अच्छी रचना.....बहुत बहुत बधाई....

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

भावों को खूबसूरती से व्यक्त किया है..